Monday, Nov 18, 2019
georgia-a-man-lives-alone-at-top-of-131-ft-mountain

Georgia के 130 फुट उचे रहाड़ पर रहता यह अकेला आदमी

  • Updated on 11/8/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दुनिया (World) में कई ऐसे लोग होते है जिन को अजीबो- गरीब शौक रखने की आदत है। आज हम आप को एक ऐसे व्यक्ति के बारे में बताने जा रहे है,  जिस व्यती की अपनी जिंदगी में डर नाम की चीज ही नहीं है। यह व्यक्ति पिछले 25 साल से एक जंगल में 130 फुट ऊंचे लटकते पहाड़ की चोटी पर अकेले रह रहे हैं। जी हां यह इंसान  जॉर्जिया के जंगल में अकेले 130 फुट ऊंचे पहाड़ पर रहता है जिसे 'कात्सखी पिलर' के नाम से जाना जाता है।

कौन है वह व्यक्ति
मैक्जिम (Maxime Qavtaradze) जो जॉर्जिया (Georgia) के इस पहाड़ पर पिछले 25 साल से रह रहे है। वह एक christian Monk है। इस पहाड़ की चोटी पर 1500 साल पुराना एक छोटा चर्च भी बना हुआ है। इस Monk की उमर 63 वर्ष है और इस बढ़ती आयु होने के बावजूद वह रोज दो बार 130 फुट की ऊचाई से उतरते और चढ़ते है। 

Monk बनने से पहले क्रेन ऑपरेट थे मैक्जिम जो
मैक्जिम Monk बनने से पहले एक मैक्जिम काव्टारड्जे क्रेन ऑपरेटर (Crane Operator) का काम करते थे। कम उम्र मे उन को ड्रग्स और शराब की बुरी लत लग गई थी। इन वजह से वह कई बार जेल भी जाना पड़ा जहा पर उन्होनें Bible का अध्ययन करने का मौका मिला। और Bible से मिली सिख के बाद उन्होने अपना जीवन बदलने का फैसला लिया और एक Christian Monk बन गए।

क्यों चुना यह पहाड़
Georgia के इतिहास पर नजर डाले तो इस बात का पता चलता है की सदियों पहले क्रिश्चियन संप्रदाय के लोग एकांत के लिए ऊंचे पहाड़ों के शिखर या जंगल पर रहा करते थे। पर जब Georgia पर ओटोमन साम्राज्य फैला तो सभी Monk और क्रिश्चियन संप्रदाय के लोगों को सब छोड़ कर जाना पड़ा, यह सब 15 वीं सदी तक चलता रहा जिस कारण सभी एकांत जगह खंडहर हो गई। जिन मे से एक 'कात्सखी पिलर' (Katskhi Pillar) भी था जो सदियों तक उजाड़ पड़ा रहा। एसी जगह पर लोगों को जाने से डर लगता था पर  मैक्जिम ने इस लटके पहाड़ को अपना निवास बनाया। 

मैक्जिम काव्टारड्जे की माने तो
Monk मैक्जिम का मानना है की इस पहाड़ से वह भगवान को खुद के करीब मानते है। इस खतरनाक पहाड़ पर उन्होंने एक छोटा Cottage बनाया है और उस मे एक प्रार्थना कक्ष भी बनाया है। इस Cottage मे कुछ प्रीस्ट्स और कुछ परेशान युवा वहां कभी-कभार आकर प्रार्थना करते हैं।

यहां पहुचने के लिए यह सब 131  फुट की लोहे (Iron) की सीढ़ियां चढ़ कर आते है जिससे पहाड़ से उतरने के लिए 20 से 30 Minute  लगते है। 

मैक्जिम के नाम से जाना जाता है चर्च
दिलचस्प बात यह है, कि इस चर्च (Church) को मैक्जिम के नाम से ही जाना जाता है। और कई लोग इस को  'चर्च ऑफ सेंट मैक्सिमस द कन्फैसर' का नाम से भी जानते है। यह लोगों के लिए आज एक पर्यटक स्थल और लोकप्रिय प्राकृतिक आकर्षण का केंद्र बन गया हैं।

comments

.
.
.
.
.