Wednesday, Dec 08, 2021
-->
germany and us stopped pakistan move against india in unsc sohsnt

UNSC में भारत के खिलाफ पाकिस्तान के इस कदम को जर्मनी और अमेरिका ने रोका

  • Updated on 7/2/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत और चीन के बीच लद्दाख सीमा विवाद को लेकर अभी भी हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं। ऐसे में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अमेरिका और जर्मनी के भारत के साथ खड़े नजर आए। कराची स्टॉक एक्सचेंज पर हुए हमले को लेकर पाक की ओर से चीन द्वारा यूएनओ में बयान जारी कराने का प्रस्ताव लाया गया। अमेरिका ने इस बयान को तुरंत पास नहीं होने दिया।

भारत और चीन के बीच गलवान जैसी घटना नहीं दोहराने पर बनी सहमति

पाक पीएम ने हमले का दोषी भारत को बताया

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान और विदेश मंत्री शाह महमूद करैशी ने हमले का दोषी भारत को बताते हुए प्रस्ताव दिया। जो जमर्नी की वजह से बीच में ही अटका रहा। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में आतंकी हमलों का साजिश को लेकर चीन द्वारा पेश किए गए इस प्रस्ताव पर भारत के खिलाफ किसी साजिश की आशंका को ध्यान में रखते हुए अमेरिका ने बयान पढ़ने के लिए समय मांगा था।  

कोई नहीं हैं दूर-दूर तक! 2036 तक रहेंगे राष्ट्रपति पद पर पुतिन, लगी जनता की मुहर

यूएनएससी के बयान में भारत को कोई जिक्र नहीं

पाकिस्तान ने कराची स्टॉक एक्सचेंज पर हुए हमले का जिम्मेदार भारत को ठहराया था। पाक पीएम इमरान खान का इस मामले में कहना था कि इस घटना के पीछे भारत का ही हाथ था। वहीं पाक विदेश मंत्री कुरैशी ने कहा, भारत नहीं चाहता की पाकिस्तान में अमन चैन कायम रहे इसलिए ही वो इस तरह की घटनाओं को अंजाम दे रहा है। पाकिस्तान के हर संभव प्रयास के बाद भी यूएनएससी के बयान में भारत को कोई जिक्र नहीं आया। 

भारत के खिलाफ चीन के रवैये पर फिर भड़का अमेरिका, बोला- यह चीन की पार्टी का असली चेहरा

अमेरिका ने आगे आगकर दिया साथ
चीन के बीच चल रहे विवाद के समय पाकिस्तान की ये नापाक हरकत संयुक्त राष्ट्र में पास हो जाती तो भारत के लिए स्थिति मुश्किलों भरी हो सकती थी। लेकिन अमेरिका ने आगे आगकर इस भारत की सहायता करते हुए प्रस्ताव पास करने से पहले समय मांग लिया है। दरअसल, चीन इस प्रस्ताव को साइलेंट प्रोसीजर के तहत लाया था। इस तरह के प्रस्ताव में अगर कोई देश निश्चित समय में अपनी आपत्ति दर्ज न कराए तो ये पास कर दिया जाता है।

भारत के 59 चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध के बाद अमेरिका में भी उठी बैन की मांग, विदेश मंत्री ने कही ये बात

जर्मनी ने भी दिया भारत का साथ

संयुक्त राष्ट्र में लाए गए इस प्रस्ताव पर सबसे पहले जर्मनी ने इस मामले पर विचार करने के लिए 1 जुलाई तक का समयय मांगा था इसके बाद अमेरिका ने भी इस मामले में हस्तक्षेप कर इसकी समय-सीमा आगे बढ़वा दी है।

comments

.
.
.
.
.