Tuesday, Dec 06, 2022
-->
germany-village-is-still-waiting-for-a-miracle-of-400-years-old-prsgnt

जर्मनी के इस गांव को है आज भी 400 साल पुराने चमत्कार का इंतजार, पढ़ें रिपोर्ट

  • Updated on 4/7/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पूरी दुनिया इस वक़्त कोरोना महामारी से निपटने के लिए हर संभव प्रयास करने में जुटी है। लोगों को उम्मीद है कि जल्द कोरोना से निजात पा लिया जायेगा। लेकिन हर दिन जिस तरह से कोरोना वायरस से ग्रस्त होते मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है, उसे देखते ये कहा जा सकता है कि अब कोई चमत्कार ही इस बीमारी को दुनिया से खत्म कर सकता है।

ऐसे ही एक चमत्कार की उम्मीद जर्मनी का एक गांव कर रहा है। दी न्यूयॉर्क टाइम्स में प्रकाशित एक आर्टिकल के अनुसार, जर्मनी के एक गांव में 400 साल पहले प्लेग महामारी फैली थी और उस समय एक ऐसा चमत्कार हुआ जिसमें प्लेग को उस गांव से खत्म कर दिया था। ऐसे ही एक और चमत्कार की उम्मीद इस वक्त ये गांव कर रहा है।

कहां से आया कोरोना, क्या हमने कोरोना वायरस को महामारी बनाया है?

400 साल पहले...
इस आर्टिकल के अनुसार, जर्मनी के ओबरमरगौ (Oberammergau) गांव के निवासी थॉमस ग्रोनर 400 साल पहले की महामारी का उदहारण देते हुए बताते हैं कि कैसे 400 साल पहले जब प्लेग की महामारी ने पूरे यूरोप को घेर लिया था। तब एक चमत्कार हुआ था।

ग्रोनर बताते हैं कि उस महामारी में मरने वालों की तादाद बहुत ज्यादा थी। गांव के हर परिवार से एक व्यक्ति की मौत हुई थी। उस वक्त इस गांव के सभी लोगों ने खुले मैदान में खड़े होकर ईश्वर के सामने यह प्रतिज्ञा ली थी कि ईश्वर अपनी कृपा द्वारा इस गांव को महामारी मुक्त कर दें तो यह गांव हर दस साल पर प्रभु यीशू के जीवन का नाटकीय रूपांतरण यानि उनके जीवन पर नाटक किया करेंगे।

कोरोना से बचने के लिए लोगों से बना कर रखें 6 फीट की दूरी, पढ़ें और क्या है जरुरी

किताब में है इसका जिक्र
लेख के अनुसार, इस चमत्कार का जिक्र एक किताब में भी मिलता है। ये बात वर्ष 1633 की है। इस बारे में ग्रोनर कहते हैं कि इस किताब में भी यह लिखा हुआ है कि गांव वालों की प्रतिज्ञा लेने के कुछ दिनों बाद ही महामारी से मौत का सिलसिला अचानक रुक गया। जिससे लोगों को यह विश्वास हो गया कि यह सब उनकी प्रतिज्ञा और ईश्वर की कृपा से हुआ है। उस घटना के बाद चार शताब्दी बीत चुकी हैं और गांव वाले आज भी उस प्रतिज्ञा को निभाते हैं।

देश में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामले, तीसरे फेज में पहुंचने को तैयार भारत!

इस बार टालनी होगी प्रतिज्ञा
ग्रोनर के अनुसार, इस साल के मई माह में गांव वालों को वही नाटक दोहराना था लेकिन कोरोना के कारण उन्होंने इसे टाल दिया है। बताया जाता है कि अब तक सिर्फ दो बार ही इस प्रतिज्ञा को टाला गया है, एक बार द्वितीय विश्व युद्ध के समय में टाला गया था जबकि दूसरी बार की वजह ग्रोनर को याद नहीं। कोरोना की वजह से ये तीसरी बार होगा जब गांव वाले अपनी प्रतिज्ञा को टाल रहे हैं।

लॉकडाउन ने तोड़ दी गरीब मजदूर की कमर, न खाना बचा, न रोजगार! पढ़ें रिपोर्ट

कोरोना का कोई केस...
न्यूयॉर्क टाइम्स के इस आर्टिकल में यह दावा किया गया है कि इस गांव से अभी तक एक भी कोरोना वायरस का केस समाने नहीं आया है लेकिन दुनियाभर में कोरोना का कहर देखते हुए, गांव के लोग इसे लेकर बेहद परेशान हैं। पूरी दुनिया से इस वायरस के खात्मे के लिए अब ये गांव एक बार फिर प्रभु यीशु से प्रार्थना कर रहा हैं। इस बार भी उन्हें उम्मीद है कि एक बार फिर ईश्वरीय चमत्कार दुनिया को इस कोरोना महामारी से बचा सकेगा।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.