Tuesday, May 24, 2022
-->
getting-the-date-of-mri-test-in-esic-hospital-after-six-months

ईएसआइसी अस्पताल में एमआरआइ जांच की तिथि मिल रही छह माह बाद की 

  • Updated on 5/14/2022

नई दिल्ली,(टीम डिजिटल):दिल्ली से सटे नोएडा में सेक्टर-24 स्थित कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआइसी) अस्पताल के रेडियोलाजी विभाग में एमआरआइ जांच की तिथि छह माह बाद की मिल रही है। अल्ट्रासाउंड कराने के लिए 90 दिन बाद का समय मिल रहा है। सीटी स्कैन की जांच के लिए भी 15 दिन से लेकर डेढ़ माह तक इंतजार करना पड़ रहा है। एमआरआइ में देरी से हड्डी रोग विभाग और अल्ट्रासाउंड में देरी से गर्भवती के साथ ही पथरी का इलाज कराने वाले मरीज परेशान हैं।

ईएसआइसी योजना में शामिल मरीजों का अस्पताल में अल्ट्रासाउंड निश्शुल्क होता है, जबकि निजी अस्पताल में इसके लिए 800 से लेकर तीन हजार रुपए तक वसूले जाते हैं। वहीं एमआरआई और सीटी स्कैन भी अस्पताल में निशुल्क होता है। प्राइवेट लैब में पांच हजार तो कहीं सात हजार रुपए लिए जाते है। मरीजों के दबाव और चिकित्सक की कमी से ईएसआइसी में एक दिन में 20 एमआरआइ ही हो पाती है। यहां सुबह 8.30 से शाम चार बजे तक जांच होती है। क्योंकि यहां एमआरआइ के लिए लंबी वेटिग है। मरीजों को चिकित्सकीय परामर्श के बाद निश्शुल्क जांच के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। पिछले दो सप्ताह से मरीजों का ग्राफ निरंतर बढ़ रहा है। वर्तमान में तीन चिकित्सक ही एमआरआइ के लिए हैं। इनमें एक के पास शाम के समय में रिपोर्टिंग का जिम्मा है। वहीं दो एमआरआइ करते हैं। इससे जांच के साथ ही रिपोर्ट में देरी हो रही है। जांच के बाद रिपोर्ट लेने के लिए मरीजों को पांच से छह दिन इंतजार करना पड़ता है।
 

मरीजों की ज्यादा भीड़ होने से लगता है समय 
ईएसआइसी अस्पताल चकित्सा निदेशक डा.एके गौतम ने बताया कि रेफरल सेंटर होने के चलते अस्पताल में मरीजों की ज्यादा भीड़ होती है। एमआरआइ और अल्ट्रासाउंड जांच में समय लगता है। एमआरआइ करने के लिए जरूरी चिकित्सकों की कमी है। नए चिकित्सकों की भर्ती के प्रयास किए जा रहे हैं।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.