Friday, Feb 26, 2021
-->
ghmc-elections-results-asaduddin-owaisi-aimim-kingmaker-strike-rate-prsgnt

ओवैसी बने हैदराबाद के किंगमेकर, निगम चुनाव में AIMIM का सबसे तूफानी स्ट्राइक रेट

  • Updated on 12/5/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (GHMC) को अपनी प्रतिष्ठा का विषय बना चुकी भारतीय जनता पार्टी दूसरे नंबर पर रही है लेकिन इससे ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीनव (AIMIM) के प्रमुख असुद्दीन ओवैसी को कोई घाटा नहीं हुआ है बल्कि वो फायदे में ही रहे हैं।  देखा जाये तो इन निकाय चुनावों में सिर्फ तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) को ही नुकसान हुआ है। 

हालांकि टीआरएस 56 सीट जीत चुकी है। वहीं AIMIM ने 51 सीटों पर कब्जा कर लिया है। जबकि कांग्रेस 2 सीट ही जीत सकी है। असुद्दीन ओवैसी सियासत के मैदान के मंझे हुए खिलाड़ी हैं। बीजेपी ने उनके घर में घुसकर चैलेंज दिया था। भले ही उन्हें 51 सीटें मिली हों लेकिन टीम का स्ट्राइक रेट सबसे हाई है।

हैदराबाद : कमल ने किया कमाल तो पिछड़े औवैसी की पार्टी,TRS टॉप पर बरकरार   

वैसे ओवैसी का सियासी कद और वजूद कितना बड़ा है इसे हैदराबाद का निकाय चुनाव के परिणाम से समझा जा सकता है। ओवैसी की पार्टी 51 सीट पर लड़ी लेकिन 44 सीट पर जीतकर उसका स्ट्राइक रेट 86% से ज्यादा रहा।

वहीँ, बिहार चुनाव में जोरदार प्रदर्शन के ठीक बाद ओवैसी ने बंगाल तक अपने पैर जमाने की बात कही थी। लेकिन उससे पहले ओवैसी को हैदराबाद चुनाव में अपनी ताकत दिखानी पड़ी। हैदराबाद ओवैसी का गढ़ रहा है और इसे बचाने के लिए उन्होंने अपनी पूरी ताकत लगा दी और बीजेपी के वार पर जबरदस्त पलटवार किया।

देवगोड़ा ने की मांग- Corona वैक्सीन समाज के कमजोर तबके को दिया जाए मुफ्त में

देखा जाए तो इन चुनावों में ओवैसी को कोई नुकसान नहीं हुआ है। उन्होंने अपने आगे के रोड मैप के बारे में भी प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया। इस बीच उन्होंने इस बात का इशारा भी किया कि केसीआर के साथ गठबंधन का रास्ता बन सकता है इसलिए यह माना जा रहा है कि किंगमेकर ओवैसी ही हैं।

हैदराबाद निकाय चुनाव में ओवैसी ने अपनी सीटों का नुकसान नहीं होने दिया और जनता को लुभाने के लिए उनकी भाषा में भाषण दिया और उनके बीच के मुद्दे उठाकर मोदी पर लाकर खत्म किया। यहां बता दें कि यह पहली बार था जब उनके ही गढ़ में बीजेपी ने उन्हें घेरा था। लेकिन इसके नतीजों के बाद बिहार, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और अब आगे ओवैसी की नजर बंगाल पर है।

फ्रांस में ED ने विजय माल्या की 14 करोड़ रूपये मूल्य की संपत्ति की जब्त

देखा जाए तो हैदराबाद निकाय चुनाव के परिणाम लोगों को एक सीधा संदेश दे रहा है कि ओवैसी राजनीति की नई परिभाषा गढ़ रहे हैं। इस परिभाषा में जनता को मजबूत विपक्ष को लीड करने वाला नेता दिखाई दे रहा है और अपनी एक साफ़ और क्लियर सोच के साथ लोगों के बीच आ रहे हैं।

यहां पढ़ें महत्वपूर्ण खबरें....

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.