Sunday, Apr 18, 2021
-->
giriraj singh on disha ravi arrested said the country will run by law or by age pragnt

दिशा रवि की गिरफ्तारी को लेकर मचे बवाल पर भड़के गिरिराज, पूछा- देश कानून से चलेगा या उम्र से

  • Updated on 2/17/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। 'टूलकिट' केस (Toolkit Case) में दिल्ली पुलिस (Delhi Police) द्वारा क्लाइमेट ऐक्टिविस्ट दिशा रवि (Disha Ravi) की गिरफ्तारी के बाद से ही देश में सियासत गरमाई हुई है। दिशा रवि की गिरफ्तारी धीरे-धीरे काफी तूल पकड़ती जा रही है। विपक्षी दल लगातार सरकार पर निशाना साध रहा है और दिशा को छोड़े जाने की मांग कर रहा है। इस बीच केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) ने दिशा रवि का समर्थन करने के लिए कांग्रेस नेता राहुल गांधी और विपक्ष पर हमला बोला है। 

दिशा रवि की गिरफ्तारी को लेकर जारी बवाल पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा, 'देश उम्र से नहीं संविधान से चलता है।' सिंह ने आगे कहा कि 21 साल के लोग इस देश में प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री चुनते हैं। ऐसे में राहुल गांधी का तर्क नादानों वाला है।

Red Fort Violence: 26 जनवरी को लाल किले पर तलवार लहराने वाला गिरफ्तार

दिशा की गिरफ्तारी से गरमाई राजनीतिक दिशा
26 जनवरी को लालकिला कांड और उससे जुड़े तारों को सुलझाने की कड़ी में लगभग रोजाना ही कुछ गिरफ्तारियां हो रही हैं, छापेमारी जारी है। राजनीतिक गलियारों में इन गिरफ्तारियों की आलोचना-समालोचना का दौर भी जारी है। अब तक पकड़े गए कुछ आरोपियों के समर्थन में आंदोलनकारी किसान हैं तो कुछ राजनीतिक दल भी मैदान में खुलकर आए हुए हैं। सबसे ज्यादा मुखालफत इस मामले में गिरफ्तार की गई जलवायु कार्यकर्ता दिशा रवि की को लेकर हो रही है। आंदोलनकारी किसान भी उसकी रिहाई की मांग कर रहे हैं, तो विपक्षी दल भी उसके समर्थन में खड़े हैं। मंगलवार को दिल्ली महिला आयोग ने भी उसकी गिरफ्तारी पर सवाल उठाते हुए दिल्ली पुलिस को कारण बताओ नोटिस भेजा है। 

किसान आंदोलन: सिंधु बॉर्डर पर प्रदर्शनकारी ने किया SHO पर जानलेवा हमला

30 मिनट वकील से कर सकेगी बात दिशा 
दिल्ली की पटियाला हाउस  अदालत ने जलवायु कार्यकर्ता दिशा रवि को टूलकिट मामले में  राहत प्रदान की है। अदालत ने दिशा रवि को 15 मिनट के लिए अपनी मां और परिवार के सदस्यों से बात करने की अनुमति दी है। इसके अलावा दिशा 30 मिनट के लिए वकील के साथ कानूनी मुलाक़ात की अनुमति कर सकती है।  अदालत  ने इसकी अनुमति दी है। दिशा के वकील की याचिका पर अदालत ने पुलिस को निर्देश दिया कि हर दिन दिशा 30 मिनट अपने वकील से और 15 मिनट फोन पर परिवार से बात कर सकती हैं। अदालत ने ठंड के कारण उनको गर्म कपड़े देने का निर्देश दिया है। इसके अलावा घर का खाना, किताबें, रिमांड कॉपी और एफआईआर की कॉपी मुहैया देने के लिए भी कहा गया है। अदालत ने ये निर्देश केवल दिशा की पुलिस रिमांड पर रहने के दौरान दिया है।

देश की राजधानी में चल रहे किसान आंदोलन के दौरान स्वीडन की पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग ने एक ट्वीट किया था जिसके बाद टूलकिट की चर्चा जोरों से होने लगी थी। इस टूलकिट के जरिए आंदोलन में एक ट्विटर पर एक खास चीज को ट्रेंड कराने में मदद मिलती है। जिसके कारण यह आंदोलन देश-दुनिया की सुर्खियों में आ जाए। 

दंगाइयों का समर्थन करती दिशा रवि तो शायद मंत्री-सीएम या PM बन जाती- कन्हैया कुमार

दिशा रवि की गिरफ्तारी के तरीके पर सवाल 
दिशा रवि की गिरफ्तारी धीरे-धीरे काफी तूल पकड़ती जा रही है। अधिकतर समाजसेवी जिनमें खासकर पर्यावरण एक्टिविस्ट हैं वो दिशा को छोड़े जाने की मांग कर रहे हैं, आंदोलनकारी किसानों ने भी दिशा को छोडऩे की बात कही है। वहीं मीडिया में आई रिपोट्र्स जिनमें कहा गया है कि दिशा की गिरफ्तारी के बाद वकील के बिना कोर्ट में उसे प्रस्तुत किया गया, के बाद दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस को 21 वर्षीय पर्यावरण एक्टिविस्ट दिशा रवि की गिरफ्तारी के मामले में नोटिस जारी किया है।

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज बोले- FIR से भयभीत नहीं हूं, दूंगा जवाब

आयोग ने भेजा पुलिस को कारण बताओ नोटिस
आयोग ने नोटिस में पुलिस से दिशा के खिलाफ दर्ज की गई एफआईआर की कॉपी मांगी है। यही नहीं आयोग ने पूछा है कि क्या दिशा की गिरफ्तारी के दौरान तय प्रक्रियाओं का पालन नहीं किया गया था। साथ ही मीडिया रिपोट्र्स के अनुसार उसे अपनी पसंद का वकील भी मुहैया नहीं कराया।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.