Thursday, Jan 27, 2022
-->
gold-in-small-cities-increased-investors-are-doing-digital-shopping-with-mobile-wallet-prshnt

छोटे शहरों में बढ़ा गोल्ड की मांग, निवेशक मोबाइल वॉलेट से कर रहे डिजिटल खरीदारी

  • Updated on 12/10/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश के छोटे शहरों से भी सोने में निवेश को लेकर रुझान तेजी से बढ़ा है। भौतिक सोने (ज्वैलरी व सिक्के) की खरीदारी ऊंची कीमत के कारण नहीं करने वाले छोटे निवेशक अब डिजिटल गोल्ड (Digital Gold) में निवेश कर रहे हैं। 
इस बदलाव को लाने में अहम भूमिका मोबाइल वॉलेट (Mobile wallet) कम्पनियों (गूगल पे, पेटीएम, फोन पे, एमेजॉन पे आदि) (Google Pay, Paytm, Phone Pay, Amazon Pay) की है। इन कम्पनियों द्वारा छोटे निवेश से डिजिटल गोल्ड में निवेश का विकल्प देने से यह परिर्वतन आया है।

किसानों ने खारिज किया सरकार का प्रस्ताव, 12 को होगा हाइवे जाम तो 14 को देशव्यापी प्रदर्शन

डिजिटल गोल्ड खरीदारी बढ़ी
पेटीएम की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार अब तक उसके प्लेटफॉर्म पर 7.30 करोड़ से अधिक लोगों ने डिजिटल गोल्ड खरीदा है। इनमें से लगभग 40 प्रतिशत खरीदार छोटे शहरों और कस्बों से हैं, जो दर्शाता है कि अब देश भर में लोग डिजिटल गोल्ड को एक गंभीर निवेश विकल्प के रूप में मान रहे हैं। 

कमोडिटी बाजार के विशेषज्ञों के अनुसार डिजिटल गोल्ड में छोटे निवेश से शुरूआत, सोने की शुद्धता की गारंटी और बाजार के मौजूदा भाव पर खरीद-बिक्री का विकल्प इसे एक बेहतर निवेश माध्यम बनाने का काम कर रहा है।  

Coronavirus: देशभर में अब तक 97 लाख 62 हजार से ज्यादा लोग कोरोना संक्रमित

बड़ी मार्कीट को देखते हुए वॉलेट कम्पनियों में होड़
भारत की बड़ी मार्कीट में पिछले 6 महीनों के दौरान डिजिटल सोने के लेन-देन में दोगुना वृद्धि दर्ज की है। पेटीएम के अनुसार उपयोगकत्र्ताओं में 50 प्रतिशत की वृद्धि हुई है और एवरेज ऑर्डर मूल्य में 60 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। इसे देखते हुए वॉलेट कम्पनियों में इस सेगमैंट में बाजार हिस्सेदारी बढ़ाने की होड़ मची है। फोनपे का दावा है कि वह 35 प्रतिशत मार्कीट शेयर के साथ ही डिजिटल गोल्ड खरीदने के लिए भारत में सबसे बड़ा डिजिटल प्लेटफॉर्म बनकर उभरा है। 

ममता बनर्जी बोलीं- एनआरसी और एनपीआर को बंगाल में लागू नहीं करेंगे

‘स्वर्ण ई.टी.एफ. में 141 करोड़ रुपए की निकासी’ 
लगातार 7 महीने तक निवेश प्रवाह जारी रहने के बाद सोने के एक्सचेंज ट्रेडिड फंड (ई.टी.एफ.) में नवम्बर माह के दौरान निवेशकों की मुनाफा वसूली के चलते 141 करोड़ रुपए की निकासी हुई। इसके मुकाबले एक साल पहले इसी माह में स्वर्ण ई.टी.एफ. में 8 करोड़ रुपए का निवेश प्रवाह हुआ था। एसोसिएशन आफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (ए.एम.एफ.आई.) के पास उपलब्ध आंकड़ों से यह जानकारी मिली है। 

स्वर्ण ई.टी.एफ. में हालांकि अप्रैल 2020 से निवेश प्रवाह जारी है लेकिन जुलाई के बाद इसकी रफ्तार कुछ धीमी पड़ी है। मासिक आधार पर यदि देखा जाए तो जनवरी 2020 में निवेशकों ने स्वर्ण ई.टी.एफ. में शुद्ध रूप से 202 करोड़ रुपए का निवेश किया। 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.