Tuesday, Jun 22, 2021
-->
good news in corona  dr harsh vardhan will represent india on gavi board pragnt

कोरोना काल में Good News! डॉ. हर्षवर्धन करेंगे गावी बोर्ड में भारत का प्रतिनिधित्व

  • Updated on 12/30/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर बरकरार है। कोरोना महामारी के बीच एक अच्छी खबर सामने आई है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (Harsh Vardhan) को 'ग्लोबल अलायंस फॉर वैक्सीन्स ऐंड इम्युनाइजेशन' (गावी) के बोर्ड के सदस्य के रूप में नामित किया गया है। इससे पहले भी डॉ. हर्षवर्धन को डब्ल्यूएचओ में एग्जिक्यूटिव बोर्ड के चेयरमैन बनाया गया था।

भारत में कोरोना का नया स्ट्रेन, ब्रिटेन से लौटे 20 लोगों में मिले लक्षण

क्या है ये गावी बोर्ड
गावी बोर्ड के पास वैक्सीन को लेकर बड़ी जिम्मेदारी है कि वो वैक्सीन अलायंस के विदेशों में कामकाज को देखता है। इसके साथ ही इसके पास वैक्सीन को लेकर रणनीतिक दिशा-निर्देशों की जिम्मेदारी भी दी गई है।

गुजरात में टीकाकरण का पूर्वाभ्यास, लाभार्थियों को दिया गया ‘डमी’ टीका

1 जनवरी से करेंगे प्रतिनिधित्व
आपको बता दें कि वर्तमान में इस पद पर म्यामार के मींत त्वे हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री एक जनवरी, 2021 से 31 दिसंबर, 2023 तक बोर्ड में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। बोर्ड की बैठक सामान्यत: साल में दो बार जून और नवंबर-दिसंबर में होती है।

Delhi Corona Bulletin: काबू में कोरोना! 24 घंटे में 703 नए केस, 28 ने गंवाई जान

गावी बोर्ड का उद्देश्य
आपको बता दें कि गावी बोर्ड यानी ग्लोबल अलायंस फॉर वैक्सीन्स ऐंड इम्युनाइजेशन कई देशों की सरकारों, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और बिल-मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन ने एक साथ मिलकर बनाया है। इसका बोर्ड का उद्देश्य दुनियाभर में कोरोना वायरस की वैक्सीन खरीद कर उन्हें जरुरतमंदों को बांटने में मदद करना है। भारत की ओर से गावी को 15 मिलियन अमेरिकी डॉलर की मदद दी गई थी।

देश की पहली स्वदेशी न्यूमोकोकल वैक्सीन 'न्यूमोसिल' आई सामने, हर्षवर्धन ने की पेश

स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने पेश की वैक्सीन
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (Harsh Vardhan) ने सोमवार को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) द्वारा मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन जैसे साझेदारों के साथ मिलकर विकसित की गई देश की पहली न्यूमोकोकल कॉन्जुगेट वैक्सीन 'न्यूमोसिल' पेश की। स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि हर्षवर्धन ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (एसआईआईपीएल) को टीकों की संख्या के हिसाब से दुनिया का सबसे बड़ा टीका निर्माता और भारत की अर्थव्यवस्था में इसके योगदान की पहचान करते हुए कहा कि इसके टीकों का उपयोग 170 देशों में किया जाता है।

तैयार हुई वैक्सीन
स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि दुनिया में हर तीसरे बच्चे का टीकाकरण इसके द्वारा तैयार टीका देकर किया जाता है। मंत्री ने यह भी कहा कि एसआईआईपीएल ने कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन के दौरान पहला स्वदेशी न्यूमोकोकल कॉन्जुगेट वैक्सीन (पीसीवी) विकसित किया और सरकार से इसका लाइसेंस प्राप्त किया।उन्होंने कहा कि यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के दृष्टिकोण के अनुरूप है। बयान के अनुसार उन्होंने कहा, सीरम इंस्टीट्यूट का पहला स्वदेशी न्यूमोकोकल कॉन्जुगेट वैक्सीन, ब्रांड नाम न्यूमोसिल के तहत एकल खुराक और बहुखुराक में सस्ती कीमत पर बाजार में उपलब्ध होगा।

देश में कोरोना का कहर
देशभर में कोरोना वायरस का कहर लगातार जारी है। भारत में कोरोना से 1,02,45,326 लोग संक्रमित हो चुके हैं। वहीं इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 1,48,475 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। हालांकि, राहत की बात ये है कि 98,33,339 इस वायरस को मात देकर ठीक हो चुके हैं। देश में कोरोना को मात देकर ठीक होने वालों की संख्या सक्रिय मामलों की संख्या से अधिक है। सक्रिय मामलों की कुल संख्या 2,60,678 है।

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.