Wednesday, Dec 08, 2021
-->
google against the new it rule said - does not apply to its search engine pragnt

नए IT नियम के खिलाफ गूगल की पैंतरेबाजी, कहा- उसके सर्च इंजन पर लागू नहीं होते

  • Updated on 6/2/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। गूगल एलएलसी ने दावा किया कि डिजिटल मीडिया के लिए सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) के नियम उसके सर्ज इंजन पर लागू नहीं होते और दिल्ली हाई कोर्ट से अनुरोध किया कि वह एकल न्यायाधीश के उस आदेश को दरकिनार करे, जिसके तहत इंटरनेट से आपत्तिजनक सामग्री हटाने संबंधी मामले की सुनवाई के दौरान कंपनी पर भी इन नियमों को लागू किया गया था।

सपा में मची हलचल! मुलायम के समधी से मिले BJP नेता हरिओम यादव

क्या है मामला?
एकल न्यायाधीश की पीठ ने उस मामले की सुनवाई के दौरान यह फैसला सुनाया था, जिसमें एक महिला की तस्वीरें कुछ बदमाशों ने अश्लील (पॉर्नोग्राफिक) सामग्री दिखाने वाली एक वेबसाइट पर अपलोड कर दी थीं और उन्हें अदालत के आदेशों के बावजूद वर्ल्ड वाइड वेब से पूरी तरह हटाया नहीं जा सका था। इतना ही नहीं, इन तस्वीरों को दूसरी साइट पर फिर से पोस्ट किया गया था।

प. बंगाल: दिलीप घोष का आरोप- रिजल्ट के बाद हुई 37 BJP कार्यकर्ताओं की हत्‍या

दिल्ली HC ने केंद्र को भेजा नोटिस
चीफ जस्टिस डी एन पटेल और न्यायमूर्ति ज्योति सिंह की पीठ ने केंद्र, दिल्ली सरकार, इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया, फेसबुक, अश्लील सामग्री दिखाने वाली (पॉर्नग्राफिक) साइट और उस महिला को नोटिस जारी किए, जिसकी याचिका पर एकल न्यायाधीश ने आदेश जारी किया था। पीठ ने उनसे 25 जुलाई तक गूगल की याचिका पर अपना-अपना जवाब देने को कहा। अदालत ने यह भी कहा कि वह अभी कोई अंतरिम आदेश नहीं देगी।

डॉक्टरों पर टूटा कोरोना कहर, दूसरी लहर में अब तक 594 की मौत, सबसे ज्यादा दिल्ली में है आंकड़ा

IT नियम उसके सर्च इंजन पर लागू नहीं होते- गूगल
गूगल ने दावा किया है कि एकल न्यायाशीश ने 20 अप्रैल के अपने आदेश में नए नियम के अनुसार 'सोशल मीडिया मध्यस्थ' या 'महत्वपूर्ण सोशल मीडिया मध्यस्थ' के तौर पर उसके सर्च इंजन का 'गलत चित्रण' किया। उसने याचिका में कहा, 'एकल न्यायाशीश ने याचिकाकर्ता सर्च इंजन पर नए नियम 2021 गलत तरीके से लागू किए और उनकी गलत व्याख्या की। इसके अलावा एकल न्यायाधीश ने आईटी अधिनियम की विभिन्न धाराओं और विभिन्न नियमों को समेकित किया है और ऐसे सभी आदेशों एवं प्रावधानों को मिलाकर आदेश पारित किए है, जो कानून में सही नहीं है।'

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.