Saturday, Jul 20, 2019

सावधान आपकी प्राइवेसी है खतरे में, Google आप के घर की कर रहा है रिकार्डिंग

  • Updated on 7/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटलः जो लोग गूगल होंम असिस्टेंट से पर्सनल बातें करते हैं तो अब उन्हें सावधान रहने की जरूरत है क्योंकि आप की सभी बातें रिकार्ड की जा रही हैं। एक ऐसी खबर सामने आई है जिससे गूगल(Google) की प्राइवेसी पर सवाल उठ रहे हैं। गूगल की प्राइवेसी पॉलिसी एक बार फिर से सवालों के घेरे में है। एक रिपोर्ट के अनुसार गूगल के थर्ड पार्टी वर्कर्स यूजर्स की निजी बातों को सुन रहे हैं और उन्हें रिकार्ड भी कर रहे हैं।

ट्रिपल रियर कैमरे से लैस और 4,000 mAh की बैटरी के साथ लॉन्च हुआ Infinix Note 6

आज के समय में टेक्नोलॉजी हमारी लाइफ के लिए जितना जरूरी है वह उतना ही खतरनाक भी है। गूगल हमारी लाइफ का एक अहम पार्ट भी लेकिन इसकी प्राइवेसी को लेकर हमेंशा ही सवाल उठते रहे हैं। इस समय ऐसी रिपोर्ट्स(Reports) आर रही हैं कि गूगल आपके डेली रूटीन पर नजर रखने के साथ ही आप को ट्रैक करता है।

गूगल(Google) यूजर्स को कई ऐसी सर्विस देता है जिससे रोजमर्रा के काम काफी आसान होते जा रहे हैं। गूगल सही और ऐक्युरेट जानकारी पहुंचाने के लिए यूजर की ऑनलाइन(Online) ऐक्टिविटी को लगातार मॉनिटर करता है।

20MP कैमरे से लैस और 3,320 mAh की बैटरी के साथ भारत में लॉन्च हुआ Nokia 9 PureView

गूगल एक्सपर्ट की मदद से हो रही रिकॉर्डिंग्स
गूगल ने इस बार इस बात को माना है कि कर्मचारी यूजर्स द्वारा प्रयोग किए जाने वाले Smart Speakers के ऑडियो की रिकार्डिंग्स(Recordings) को सुनते हैं । गूगल के एक्सपर्ट यूजर्स द्वारा होम असिस्टेंट(Home assistant) से की गई बाते या उन्हें दिए गए कमांड्स को सुनते हैं। गूगल का कहना है कि वायस टेक्नोलॉजी (Technology) को अच्छा बनाने के लिए ऐसा करना जरूरी है, लेकिन यह कहां तक सही है कि टेक्नोलॉजी को बेहतर बनाने के लिए यूजर्स की प्राइवेसी को खतरे में डाला जाए।

फ्लिपकार्ट पर Redmi K20 का जारी हुआ टीजर, जल्द ही भारत में होगा लॉन्च

एक व्हिसिलब्लोअर की सहायता से वीआरटी एनडब्ल्यूएस गूगल असिस्टेंट के माध्यम से रिकॉर्ड किए गए एक हजार से अधिक अंशों को सुनने में सक्षम रहा। हाल ही में जारी हुई रिपोर्ट में कहा गया, 'इन रिकॉर्डिग में हम पता और संवेदनशील जानकारी साफ सुन सकते हैं।

इससे बातचीत में शामिल लोगों की पहचान करना और ऑडियो रिकॉर्डिग से उसका मिलान करना आसान हो गया है।' गूगल ने एक दूसरे बयान में यह भी कहा कि कि लैंग्वेज एक्सपर्ट्स सिर्फ 0.2% ऑडियो स्निपेट्स को ही रिव्यू करते हैं और ये स्निपेट्स रिव्यू प्रॉसेस के तहत यूजर अकाउंट्स से जुड़े नहीं होते हैं।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.