Tuesday, Aug 03, 2021
-->
gopal rai on farmers protest pm modi leave your ego and talk with an open mind pragnt

किसान आंदोलन पर बोले गोपाल राय, अहंकार छोड़ खुले मन से बात करें PM मोदी

  • Updated on 12/24/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्र के नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ किसानों संगठनों का आंदोलन 29वें दिन भी जारी है। इस बीच दिल्ली (Delhi) के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय (Gopal Rai) ने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि जो कृषि कानून पहले काले कानून के रूप पर देखे जा रहे थे आज वो हत्यारे कानून के रूप में देखे जा रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने सलाह देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री मोदी को अहंकार छोड़ खुले मन से किसानों से बात करनी चाहिए।

टैक्स मामले में केयर्न एनर्जी की जीत, भारत को 1.4 अरब डॉलर लौटाने का आदेश

किसानों को क्या-क्या नहीं कहा
किसानों के विरोध पर दिल्ली के मंत्री गोपाल राय ने कहा कि मुझे लगता है कि सरकार अपने अहंकार के कारण कृषि कानूनों के मुद्दे पर अटकी हुई है। उन्होंने किसानों को खालिस्तानी, नक्सली, आतंकवादी और क्या-क्या नहीं कहा है। सरकार की देरी से काम नहीं चल रहा है।

आंदोलनरत किसानों की ना के बावजूद मोदी सरकार को है बात बनने की उम्मीद

सरकार अपने अहंकार पर अड़ी- राय
पर्यावरण मंत्री ने कहा कि सरकार सोच रही है कि किसानों को घुमाते रहेंगे और किसान थक हारकर वापस चले जाएंगे। इन तीन कानूनों को वापस लेकर नया कानून बनाने की जरूरत है। किसानों को जबरदस्ती नहीं समझाया जा सकता है। सरकार केवल अपने अहंकार पर अड़ी हुई है।

दिल्ली को कोरोना के नए रूप से बचाने के लिए इन सावधानियों का रखें ख्याल, पढ़ें रिपोर्ट

किसानों का प्रदर्शन 29वें भी जारी
केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर दिल्ली की सीमाओं पर डेरा डाले हजारों किसानों का प्रदर्शन कड़ाके की ठंड के बावजूद गुरुवार को भी जारी रहा। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि दिल्ली में घना कोहरा छाने से गुरुवार सुबह कई इलाकों में दृश्यता घटकर 100 मीटर रह गई, जिसके कारण यातायात प्रभावित हुआ। सफदरजंग वेधशाला में न्यूनतम तापमान 4.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

विरोध प्रदर्शन के अधिकार का इस्तेमाल गतिरोध पैदा करने के लिए नहीं: फिक्की चीफ उदय शंकर

दिल्ली यातायात पुलिस ने ट्वीट कर दी मार्गों की जानकारी
दिल्ली के सिंघु, गाजीपुर और टिकरी बॉर्डर पर कड़े सुरक्षा प्रबंध किए गए हैं और सैंकड़ों र्किमयों को तैनात किया गया है। इन सीमाओं पर करीब एक महीने से हजारों किसान प्रदर्शन कर रहे हैं। इन प्रदर्शनों के कारण यातायात भी बाधित हुआ है जिसके कारण पुलिस को यातायात के मार्ग में परिवर्तन करना पड़ा है। दिल्ली यातायात पुलिस ने गुरुवार को ट्वीट करके यात्रियों को उन मार्गों की जानकारी दी, जो किसानों के प्रदर्शन के कारण बंद हैं और उसने उन्हें वैकल्पिक मार्ग का इस्तेमाल करने का सुझाव किया।

किसान यूनियनों ने केंद्र के कृषि कानूनों में संशोधन के प्रस्ताव को ठुकराया

ये बॉर्डर रहेंगे बंद
दिल्ली यातायात पुलिस ने ट्वीट किया, 'किसानों के प्रदर्शनों के कारण चिल्ला, गाजीपुर बार्डर नोएडा और गाजियाबाद से दिल्ली आ रहे वाहनों के लिए बंद हैं। लोगों को दिल्ली में प्रवेश के लिए आनंद विहार, डीएनडी, अप्सरा, भोपड़ा और लोनी बॉर्डर से आने की सलाह दी जाती है।' पुलिस ने एक अन्य ट्वीट करके सिंघू, औचंदी, प्याऊ मनियारी, सबोली और मंगेश बॉर्डर के भी बंद होने की सूचना दी।

दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग ने मनाया धूमधाम से क्रिसमस

किसानों का कड़ा रुख
यातायात पुलिस ने कहा,'कृपया लामपुर, साफियाबाद, पल्ला और सिंघू स्कूल टोल टैक्स बॉर्डर के जरिए वैकल्पिक मार्ग का इस्तेमाल करें। मुकरबा और जीटीके रोड से यातायात परिर्वितत किया गया है। कृपया आउटर रिंग रोड, जीटेके रोड और एनएच 44 से जाने से बचें।' प्रदर्शनकारी किसानों ने बुधवार को अपना रुख और कड़ा करते हुए सरकार से कहा कि वह 'निरर्थक' संशोधनों का प्रस्ताव फिर से पेश न करे, जिन्हें पहले ही खारिज किया जा चुका है। उन्होंने सरकार से वार्ता पुन: चालू करने के लिए लिखित में 'ठोस' प्रस्ताव देने को कहा।     

कोरोना के नए रूप से घबराई दुनिया, कैसे करें बचाव? जाने चार देशों के डॉक्टरों ने क्या बताया...

सरकार से लिखित में 'ठोस' प्रस्ताव देने को कहा
किसान नेताओं ने संवाददाता सम्मेलन में सरकार के लिए अपना जवाब पढ़ते हुए कहा कि यदि सरकार एक ठोस प्रस्ताव भेजे तो वे फिर से बातचीत के लिए राजी हैं, लेकिन उन्होंने स्पष्ट कर दिया कि वे तीनों कृषि कानूनों को पूर्णत:: रद्द किए जाने और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की कानूनी गारंटी से कम कुछ भी स्वीकार नहीं करेंगे। केंद्र के साथ नौ दिसंबर को प्रस्तावित किसानों की छठे दौर की वार्ता किसानों के केंद्रीय कानूनों को निरस्त करने की मांग से पीछे नहीं हटने के कारण रद्द हो गई थी।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.