Wednesday, Jan 26, 2022
-->
government gave clarification in parliament nia did not send notice to any farmer leader albsnt

संसद में सरकार ने दी सफाई,कहा- किसी भी किसान नेता को NIA ने नहीं भेजा नोटिस

  • Updated on 2/10/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली की सीमा पर डटे किसान और केंद्र सरकार के बीच पिछले कुछ दिनों से बातचीत बंद हो गई है,हालांकि दोनों पक्ष बातचीत करने पर सहमति जताते रहे है। इस बीच राज्यसभा में एक प्रश्न के जवाब में गृह मंत्रालय ने साफ किया है कि किसी भी किसान नेता को NIA ने नोटिस नहीं भेजा है। इस बाबत राज्यसभा में कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह केंद्र सरकार से सवाल पूछते नजर आए।

PM मोदी के 'आंदोलनजीवी' बयान पर भड़के अखिलेश, पूछा- उन्हें क्या कहें जो घर-घर जाकर चंदा ले रहे हैं

बता दें कि किसान नेता बलदेव सिंह सिरसा को NIA ने नोटिस भेजा था। जिसको लेकर सरकार के साथ बातचीत में भी किसान नेताओं ने नाराजगी व्यक्त की थी। हालांकि सरकार ने साफ किया है कि सिरसा को नोटिस खालिस्तान से मिले फंड को लेकर था। दरअसल किसान नेताओं ने कई मौके पर सरकार को घेरते हुए दावा किया है कि आंदोलन को कथ्म करने के लिये डराने-धमकाने का भी काम किया जा रहा है। लेकिन किसान अपने मांग को लेकर चट्टानी पत्थर की तरह डटे हुए है। इन नेताओं ने साफ किया है कि जब तक सरकार हमारी मांग पर नहीं विचार करती है तब तक पीछे हटने का सवाल ही नहीं उठता है।

रामनगरी अयोध्या को बनाया जाएगा वर्ल्ड क्लास सिटी, कनाडा की कंपनी को मिला जिम्मा

मालूम हो कि गणतंत्र दिवस के दिन दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के नाम पर जिस तरह से उत्पात मचा उससे  देश शर्मसार हुआ। वहीं लालकिला घटना के बाद किसान नेताओं ने कहा कि जो भी दोषी है उससे उनका कोई लेना-देना नहीं है। वहीं एक समय ऐसा लगने लगा कि यह किसान आंदोलन अब टूटने ही वाला है। खासकरके जब किसान नेता राकेश टिकैत को गाजीपुर बॉर्डर से हटाने के लिये भारी पुलिस बल पहुंची। लेकिन देर रात तक में उस समय सारा मामला पलट गया जब टिकैत मीडिया के सामने भावुक हुए। जिससे एक बार फिर किसान टिकैत के पीछे लामबंद होते नजर आए।    

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.