Thursday, Aug 13, 2020

Live Updates: Unlock 3- Day 13

Last Updated: Thu Aug 13 2020 03:01 PM

corona virus

Total Cases

2,400,418

Recovered

1,698,038

Deaths

47,176

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA535,601
  • TAMIL NADU314,520
  • ANDHRA PRADESH254,146
  • KARNATAKA196,494
  • NEW DELHI148,504
  • UTTAR PRADESH136,238
  • WEST BENGAL104,326
  • BIHAR90,553
  • TELANGANA86,475
  • GUJARAT74,390
  • ASSAM61,738
  • RAJASTHAN56,708
  • ODISHA52,653
  • HARYANA43,227
  • MADHYA PRADESH40,734
  • KERALA34,331
  • JAMMU & KASHMIR24,897
  • PUNJAB23,903
  • JHARKHAND18,156
  • CHHATTISGARH12,148
  • UTTARAKHAND9,732
  • GOA8,712
  • TRIPURA6,497
  • PUDUCHERRY5,382
  • MANIPUR3,753
  • HIMACHAL PRADESH3,536
  • NAGALAND2,781
  • ARUNACHAL PRADESH2,155
  • LADAKH1,688
  • DADRA AND NAGAR HAVELI1,555
  • CHANDIGARH1,515
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS1,490
  • MEGHALAYA1,062
  • SIKKIM866
  • DAMAN AND DIU838
  • MIZORAM620
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
government-hospitals-are-7-times-cheaper-than-private-hospital

Govt. अस्पतालों के मुकाबले सात गुना अधिक महंगे है Private अस्पताल

  • Updated on 11/24/2019

नई दिल्ली/ताहिर सिद्दीकी। देश के निजी क्षेत्र (Private hospital) के अस्पतालों में लोगों को इलाज कराना सरकारी अस्पतालों (Government hospitals) की तुलना में सात गुना अधिक खर्चीला पड़ता है। यह बात राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय  (Office for National Statistics) (एनएसओ) की एक सर्वेक्षण रपट में सामने आयी है। इसमें प्रसव के मामलों पर खर्च के आंकड़े शामिल नहीं किए गए हैं। यह आंकड़ा जुलाई-जून 2017-18 की अवधि के सर्वेक्षण पर आधारित है।

राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण ने जारी की रिपोर्ट
राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण (एनएसएस) (National sample survey) की 75वें दौर की ‘परिवारों का स्वास्थ्य पर खर्च’ संबंधी सर्वेक्षण रपट शनिवार को जारी की गयी। इसके अनुसार इस दौरान परिवारों का सरकारी अस्पताल में इलाज कराने का औसत खर्च 4,452 रुपये रहा। जबकि निजी अस्पतालों में यह खर्च 31,845 रुपये बैठा।

किस इलाके में कितने हैं कैंसर मरीज बताएगा मानचित्र, देश में पहली बार होगी जियो टैगिंग

सात गुना अधिक खर्चीला पड़ता है इलाज
शहरी क्षेत्र में सरकारी अस्पतालों में यह खर्च करीब 4,837 रुपये जबकि ग्रामीण क्षेत्र में 4,290 रुपये रहा। वहीं निजी अस्पतालों में यह खर्च क्रमश: 38,822 रुपये और 27,347 रुपये था।

एलएनजेपी में कैंसर मरीजों को जल्द मिलेगी लीनियर एक्सीलेटर की सुविधा

1.13 लाख परिवारों के बीच किए गए सर्वेक्षण
ग्रामीण क्षेत्र में एक बार अस्पताल में भर्ती होने पर परिवार का औसत खर्च 16,676 रुपये रहा। जबकि शहरी क्षेत्रों में यह 26,475 रुपये था। यह रपट 1.13 लाख परिवारों के बीच किए गए सर्वेक्षण पर आधारित है। इससे पहले इस तरह के तीन सर्वेक्षण 1995-96, 2004 और 2014 में हो चुके हैं। अस्पताल में भर्ती होने वाले मामलों में 42 प्रतिशत लोग सरकारी अस्पताल का चुनाव करते हैं। जबकि 55 प्रतिशत लोगों ने निजी अस्पतालों का रुख किया। गैर-सरकारी और परर्मार्थ संगठनों द्वारा संचालित अस्पतालों में भर्ती होने वालों का अनुपात 2.7 प्रतिशत रहा। इसमें प्रसव के दौरान भर्ती होने के आंकड़ों को शामिल नहीं किया गया है।

इलाज के नाम पर मरीजों को लूट रहा नोएडा का मेट्रो हॉस्पिटल, प्रशासन बेखबर

कितना आता है खर्च 
प्रसव के लिए अस्पताल में भर्ती होने पर ग्रामीण इलाकों (Rural areas) में परिवार का औसत खर्च सरकारी अस्पतालों में 2,404 रुपये और निजी अस्पतालों में 20,788 रुपये रहा। वहीं शहरी क्षेत्रों में यह खर्च क्रमश: 3,106 रुपये और 29,105 रुपये रहा। रपट के अनुसार देश में 28 प्रतिशत प्रसव मामलों में ऑपरेशन किया गया। सरकारी अस्पतालों में मात्र 17 प्रतिशत प्रसव के मामलों में ऑपरेशन किया गया और इनमें 92 प्रतिशत ऑपरेशन मुफ्त किए गए। वहीं निजी अस्पताओं में 55 प्रतिशत प्रसव के मामलों में ऑपरेशन किया गया और इनमें केवल एक प्रतिशत ऑपरेशन मुफ्त किए गए। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.