Wednesday, Jul 15, 2020

Live Updates: Unlock 2- Day 15

Last Updated: Wed Jul 15 2020 03:31 PM

corona virus

Total Cases

939,192

Recovered

593,198

Deaths

24,327

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA267,665
  • TAMIL NADU147,324
  • NEW DELHI115,346
  • GUJARAT43,723
  • UTTAR PRADESH39,724
  • KARNATAKA36,216
  • TELANGANA33,402
  • WEST BENGAL28,453
  • ANDHRA PRADESH27,235
  • RAJASTHAN25,806
  • HARYANA21,482
  • BIHAR20,173
  • MADHYA PRADESH17,201
  • ASSAM16,072
  • ODISHA13,737
  • JAMMU & KASHMIR10,156
  • PUNJAB7,587
  • KERALA7,439
  • CHHATTISGARH3,897
  • JHARKHAND3,774
  • UTTARAKHAND3,417
  • GOA2,368
  • TRIPURA1,962
  • MANIPUR1,593
  • PUDUCHERRY1,418
  • HIMACHAL PRADESH1,182
  • LADAKH1,077
  • NAGALAND771
  • CHANDIGARH549
  • DADRA AND NAGAR HAVELI482
  • ARUNACHAL PRADESH341
  • MEGHALAYA262
  • MIZORAM228
  • DAMAN AND DIU207
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS163
  • SIKKIM160
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
government increased 40 thousand crores in manrega sohsnt

lockdown: केंद्र सरकार ने मनरेगा में 40 हजार करोड़ रुपए के अतिरिक्त बजट का किया ऐलान

  • Updated on 5/18/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कोरोना संकट के चलते लॉकडाउन में घरों को लौट रहे मजदूरों को उनके गांव के आसपास और राज्य के भीतर ही रोजगार मुहैया कराने को केंद्र सरकार ने महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी (मनरेगा) योजना में 40 हजार करोड़ रुपए के अतिरिक्त बजट का ऐलान किया है।

Lockdown 4.0 को लेकर ये हैं गृह मंत्रालय की गाइडलाइंस, ना करें अनदेखी

मनरेगा बजट में अतिरिक्त 40 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया
आत्मनिर्भर भारत अभियान के लिए घोषित आर्थिक पैकेज के पांचवें और अंतिम किस्त की घोषणा करते हुए केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने बताया कि रोजगार के अवसर बढ़ाने को पब्लिक सेक्टर यूनिट्स (पीएसयू) यानि सार्वजनिक उपक्रमों में भी अब निजी क्षेत्र की भागीदारी बढ़ाने का फैसला लिया गया है।वित्तमंत्री ने कहा कि कोरोना के चलते उत्पन्न हालात में बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर अपने घरों को लौट रहे हैं। इन मजदूरों को रोजगार मिले और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बल मिले, इसके मद्देनजर मनरेगा बजट में अतिरिक्त 40 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। इससे अब मनरेगा का बजट एक लाख करोड़ रुपये को हो जाएगा।

कोरोना से बचाव में प्रभावी अष्टांग योग का ये नियम, सेवाएं देने के लिए डॉ. मुरारी ने PM को लिखा पत्र

आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए  किए जा रहे हैं कई सुधार
उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए कई सुधार किए जा रहे हैं। इसी दिशा में मनरेगा के साथ ही स्वास्थ्य एवं शिक्षा, कारोबार, कंपनी अधिनियम को गैर आपराधिक बनाने, कारोबार को सुगम करने और सार्वजनिक उपक्रमों की नीतियों में भी जरूरी बदलाव का फैसला लिया गया है। इन बदलावों से रोजगार, स्वरोजगार, कारोबार और आविष्कार को बढ़ावा मिलेगा।

जानें Lockdown 4 में कौन-सी दुकानें खुलेगी और किस पर जारी रहेगी पाबंदियां...

46,038 करोड़ रुपये राज्यों को दिए गए
उन्होंने कहा कि राज्य सरकारों के सामने भी राजस्व की कमी की चुनौतियां हैं। केंद्र सरकार की ओर से उन्हें भी मदद दी जा रही है। उन्होंने बताया 46,038 करोड़ रुपये राज्यों को दिए गए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के जरिए राज्यों को कोरोना से लड़ने के लिए 4113 करोड़ रुपये दिए गए हैं और 12390 करोड़ रुपये राजस्व घाटा ग्रांट समय पर राज्यों को दिए गए हैं। इसके साथ ही 11092 करोड़ रुपये राज्य आपदा फंड में दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि केंद्र ने राज्यों को जीडीपी के पांच फीसद के बराबर कर्ज उठाने (ओवर ड्राफ्ट) की भी मंजूरी दी है।

मोदी सरकार ने किया लॉकडाउन 4.0 का ऐलान, केजरीवाल ने दी पहली प्रतिक्रिया 

पब्लिक सेक्टर एंटरप्राइजेज पॉलिसी में किया जा रहा है बदलाव
उन्होंने कहा कि पब्लिक सेक्टर एंटरप्राइजेज पॉलिसी में भी बदलाव किया जा रहा है। इसके तहत सभी सेक्टस्र को निजी क्षेत्र के लिए खोला जाएगा। इसके लिए एक नई नीति लाई जाएगी। उन्होंने कहा कि स्ट्रैटजिक पब्लिक सेक्टर अधिसूचित की जाएंगी जिसमें कम से कम एक पब्लिक सेक्टर कंपनी बनी रहेगी। लेकिन निजी क्षेत्र को भी इस सेक्टर में शामिल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि खर्च घटाने के लिए अन्य कुछ सेक्टर्स में सार्वजनिक उपक्रमों का आपस में विलय से लेकर उनके निजीकरण करने जैसे भी फैसले आगे चल कर लिए जाएंगे।

अखिलेश यादव ने मोदी सरकार से पूछा- ‘वंदे भारत’ में गरीब वंदनीय क्यों नहीं है?

वित्त मंत्री ने कहा कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम (एमएसएमई) उद्योगों को उबारने और पटरी पर लाने के लिए जहां उसकी परिभाषा में बदलाव किया गया है, वहीं उन पर दीवालिया प्रक्रिया में भी रियायत देने का फैसला लिया गया है। इसके तहत जहां 1 लाख से बढ़ा कर 1 करोड़ रुपये इसकी सीमा कर दी गई है, वहीं कोरोना संकट को देखते हुए फिलहाल अगले एक साल तक किसी भी इकाई के खिलाफ दीवालिया प्रक्रिया शुरू नहीं करने का फैसला लिया गया है। इसके अलावा छोटी चूक पर आपराधिक कार्रवाई न हो, इसके लिए सात कानूनों में भी बदलाव किया गया गया है। कुछ धाराओं को ड्राप कर दिया गया है। साथ ही कंपाउंडेबल अफेंसिव में भी बदलाव किया गया है।

BJP के '6 साल बेमिसाल' पर सिब्बल की कविता- नोटबंदी में गरीब को लूटा....

वित्त मंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में सरकार ने कई अहम फैसले लिए हैं। शहर के साथ-साथ ग्रामीण स्तर पर भी स्वास्थ्य सेवाएं दुरुस्त की जाएंगी। इसके तहत अब जिला स्तर पर वेलनेस और हेल्थ सेंटर में सभी बुनियादी ढांचा दुरुस्त किए जाएंगे। संक्रामक रोगों के इलाज की व्यवस्था बनाई जाएगी और ब्लॉक स्तर पर टेस्टिंग लैब की स्थापना की जाएगी। इसके लिए केंद्र सरकार ने स्वास्थ्य क्षेत्र में व्यय बढ़ाने का फैसला लिया है।

उन्होंने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में भी कई जरूरी बदलाव किए जा रहे हैं। वन क्लास, वन चैनल योजना के तहत क्लास 1 से 12 तक अलग-अलग डेडीकेटेड चैनल शुरू किए जा रहे हैं। इसके साथ ई-विद्या कार्यक्रम के जरिए ई-क्लासेस शुरू करने का फैसला लिया गया है। विकलांग विद्यार्थियों के लिए ई-कंटेट तैयार किए जा रहे हैं। इसके अलावा देश के टॉप 100 विश्वविद्यालयों को भी ऑन लाइन क्लासेस शुरू करने की मंजूरी दी गई है। उन्होंने बताया कि कोरोना संकट के चलते लॉककडाउन में सबसे ज्यादा बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर असर पड़ा है। इसके मद्देनजर बच्चों को मनोवैज्ञानिक इलाज के लिए विशेषज्ञ मुहैया कराने में सहयोग करने का फैसला लिया है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.