Sunday, Mar 29, 2020
government-promotes-bhutan-for-the-deployment-of-troops-and-deploy-troops

मोदी सरकार भूटान को डोकलाम में और सैनिकों की तैनाती के लिए प्रेरित करे: संसदीय समिति

  • Updated on 8/25/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। संसद की एक समिति ने डोकलाम मुद्दे पर एक रिपोर्ट को स्वीकार किया है जिसमें अनुशंसा की गई है कि भारत को भूटान को प्रोत्साहित करना चाहिए कि वह संवेदनशील क्षेत्र के उत्तरी हिस्से में और सैनिकों की तैनाती करे। भारत और चीन के सैनिकों के बीच पिछले साल 16 जून से लगातार 73 दिनों तक सिक्किम सेक्टर के डोकलाम इलाके में गतिरोध बना रहा था। विवाद तब शुरू हुआ जब भारतीय सेना ने विवादित ट्राईजंक्शन (तिराहा) में चीनी सेना द्वारा सड़क बनाए जाने का विरोध किया। डोकलाम को लेकर भूटान और चीन में गतिरोध है।  

रामलीला मैदान नहीं, जेवर एयरपोर्ट का नाम अटल के नाम पर रखने का प्रस्ताव

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी विदेश मामलों पर स्थायी संसदीय समिति के सदस्य हैं जिसके अध्यक्ष पार्टी सांसद शशि थरूर हैं। आज की बैठक में राहुल गांधी मौजूद नहीं थे। सूत्रों के मुताबिक इस महीने की शुरुआत में समिति मसौदा रिपोर्ट को नहीं स्वीकार पाई क्योंकि अधिकतर भाजपा सदस्य बैठक में नहीं पहुंचे और कोरम पूरा नहीं हो सका। आज की बैठक में मौजूद समिति के कुछ सदस्यों ने कहा कि मामूली सुधार के बाद रिपोर्ट को स्वीकार कर लिया गया।

अर्थशास्त्री रूचिर शर्मा बोले- 50 फीसदी हैं मोदी के फिर से चुने जाने के आसार

समिति के सदस्यों के बीच छह अगस्त को वितरित की गई मसौदा रिपोर्ट में यह स्पष्ट नहीं था कि क्या समिति क्षेत्र में भारतीय सैनिकों की संख्या बढ़ाने के पक्ष में है। समिति के भाजपा सदस्यों की मांग थी कि समिति के समक्ष दर्ज रक्षा सचिव और मौजूदा व पूर्व विदेश सचिवों के बयानों को सार्वजनिक न किया जाए। समिति के एक सदस्य ने आज कहा कि समिति से अधिकारियों द्वारा साझा की गई किसी भी ‘संवेदनशील और महत्वपूर्ण जानकारी’ को सार्वजनिक नहीं किया गया है। 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.