Sunday, Jan 19, 2020
government reduced onion stock limit amid rising prices

सख्त हुई सरकार, बढ़ती कीमतों के बीच प्याज की स्टॉक सीमा घटाई

  • Updated on 12/4/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। प्याज (Onion) की बढ़ती कीमतों पर अंकुश लगाने के प्रयास जारी रखते हुए सरकार ने खुदरा और थोक विक्रेताओं के लिए प्याज की स्टॉक सीमा को घटाकर मौजूदा स्तर से आधा कर दिया।

5 टन से ज्यादा स्टॉक नहीं रख सकेंगे रिटेलर
अब प्याज के थोक व्यापारी 25 टन और खुदरा व्यापारी पांच टन ही प्याज का स्टॉक अपने पास रख सकेंगे। पिछले कुछ सप्ताह से प्याज की खुदरा कीमतें लगातार बढ़ रही हैं। इस प्रमुख सब्जी की आपूर्ति बढ़ाने के लिए कई उपाय किए गए हैं। उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय द्वारा जारी आदेश के अनुसार, पहले खुदरा विक्रेताओं को 10 टन तक और थोक विक्रेताओं को 50 टन तक प्याज का स्टॉक रखने की अनुमति थी। अब वह इसके मुकाबले आधा स्टॉक ही रख पाएंगे। आयातित प्याज के लिए स्टॉक होल्डिंग की यह सीमा लागू नहीं मानी जायेगी।    

15 नहीं 60 रुपये किलो प्याज बेच रहा है केंद्र, जमाखोरों के साथ मिली हुई है BJP - AAP सांसद

आदेश में कहा गया है कि खुदरा विक्रेताओं और थोक विक्रेताओं को निर्देश दिया गया है कि वे मंत्रालय को दैनिक आधार पर खरीदे और बेचे जाने वाले प्याज के स्टॉक का विवरण दें। मंगलवार को संसद में प्याज की कीमतों पर एक सवाल के जवाब में, उपभोक्ता मामलों के राज्य मंत्री दानवे रावसाहेब दादाराव ने कहा कि पूरे देश में एक समान दर पर प्याज उपलब्ध कराने का कोई प्रस्ताव नहीं है।    

140 रुपए प्रति किलो जा सकते हैं दाम
दादाराव ने लोकसभा (Lok Sabha) में एक लिखित जवाब में कहा, "नहीं सर। ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं है।" देश के प्रमुख शहरों में प्याज की कीमतें 75-100 रुपये प्रति किलोग्राम के उच्च स्तर पर बनी हुई हैं। उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय द्वारा जुटाए गए आंकड़ों के अनुसार, मंगलवार (3 दिसंबर) को औसत बिक्री मूल्य 75 रुपये प्रति किलोग्राम था, जबकि पोर्ट ब्लेयर में अधिकतम 140 रुपये प्रति किलोग्राम दर्ज किया गया।

जिस प्‍याज पर अटकी है दिल्ली की सियासत, जानें उसके पीछे की क्‍या हैं बड़ी वजह

खाद्य और उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) ने 19 नवंबर को कहा था कि वर्ष 2019-20 के खरीफ और खरीफ के विलंबित सत्र में प्याज का उत्पादन 26 प्रतिशत घटकर 52 लाख टन रहने का अनुमान है।

स्टॉक रखने की सीमा तय करने के अलावा, सरकार ने प्याज के निर्यात पर पहले ही प्रतिबंध लगा दिया है और घरेलू आपूॢत को बढ़ाने और मूल्य नियंत्रण के लिए 1.2 लाख टन प्याज आयात करने का फैसला किया गया है।

प्याज की बढ़ती कीमतों पर तिवारी का केजरीवाल पर वार, कहा- काश विज्ञापनों पर न करते करोड़ों खर्च...

केन्द्र की ओर से प्याज का आयात करने वाली सरकारी स्वामित्व वाली व्यापार कंपनी, एमएमटीसी ने तुर्की से 11,000 टन प्याज के आयात का ऑर्डर दिया है। यह एमएमटीसी द्वारा दिया गया दूसरा आयात ऑर्डर है। सार्वजनिक क्षेत्र की यह कंपनी पहले से ही मिस्र से 6,090 टन प्याज का आयात कर रही है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.