Wednesday, Dec 01, 2021
-->
Govt of India ordered to stop selling on companies selling substandard vehicles sohsnt

भारत में घटिया गाड़ियां बेचने वाली कंपनियों पर सरकार का एक्शन, बिक्री बंद करने का दिया आदेश

  • Updated on 2/10/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। सरकार ने मंगलवार को उन रिपोर्ट पर चिंता जताई कि भारत में ऑटोमोबाइल विनिर्माता (Automobile manufacturer) जनबूझकर कमतर सुरक्षा मानकों वाले यानी घटिया गाडियां बेच रहे हैं और इसे इसे तत्काल बंद करने के लिए कहा।

नितिन गडकरी ने कहा- वाहन कबाड़ नीति में नए वाहनों की खरीद पर मिलेंगे कई लाभ

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के सचिव गिरधर अरमने ने ऑटो विनिर्माताओं के संगठन सियाम द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि सिर्फ कुछ कम्पनियों ने ही वाहन सुरक्षा रेटिंग प्रणाली को अपनाया है और वे भी केवल अपने महंगे मॉडलों के लिए इनका इस्तेमाल करते हैं। अरमने ने कहा कि वाहन विनिर्माता (व्हीकल मैन्यूफैक्चर्र) सड़क सुरक्षा में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और भारत में उन्हें सबसे अच्छी गुणवत्ता के वाहन की पेशकश में कोई कसर नहीं छोडनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सभी विनिर्माताओं को अपने सभी वाहनों के लिए सुरक्षा रेटिंग देनी जरूरी है, ताकि उपभोक्ताओं को यह पता चल सके कि वे क्या खरीद रहे हैं।

टाटा एचबीएक्स ऑटोमेटिक इन बेहतरीन फीचर्स के साथ जल्द भारत में होगी लॉन्च

भारत और अमरीका की तुलना
व्हीकल सेफ्टी ग्रुप ग्लोबल एन.सी.ए.पी. ने अपने टैस्ट में पाया है कि भारत में बेचे जा रहे कुछ मॉडल्स में सुरक्षा मानक निर्यात किए जाने वाले मॉडलों की तुलना में कम है। भारत और अमरीका का उदाहरण देते हुए अरमने ने कहा कि 2018 में अमरीका में 45 लाख दुर्घटनाओं में 36560 लोग मारे गए जबकि भारत में केवल 4.5 लाख सड़क दुर्घटनाओं में 1.5 लाख लोग मारे गए। अमरीका में भारत से 10 गुना ज्यादा दुर्घटनाएं हुईं जबकि भारत में कम रफ्तार के बावजूद 5 गुना ज्यादा लोग मारे गए।

मारुति सुजुकी, टाटा मोटर्स और हुंडई की बिक्री में इजाफा, महिंद्रा को मिली निराशा

जनवरी में यात्री वाहनों की रिटेल बिक्री 4 प्रतिशत घटी: फाडा 
ऑटोमोबाइल डीलरों के संगठन फाडा ने कहा कि सैमीकंडक्टर की कमी के चलते जनवरी 2021 में यात्री वाहनों की रिटेल बिक्री 4.46 प्रतिशत घटकर 2,81,666 इकाई रह गई। फैडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन (फाडा) के अनुसार इससे पिछले साल जनवरी 2020 में 2,94,817 इकाइयों की बिक्री हुई थी। फाडा 1,480 क्षेत्रीय परिवहन कार्यालयों (आर.टी.ओ.) में 1,273 से वाहन पंजीकरण के आंकड़े जमा करती है। 

इस दौरान वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री 24.99 प्रतिशत घटकर 55,835 इकाई रह गई, जो इससे एक साल पहले 74,439 इकाई थी। इसी तरह तिपहिया वाहनों की बिक्री पिछले महीने 51.31 प्रतिशत घटकर 31,059 इकाई रही। हालांकि ट्रैक्टर की बिक्री में 11.14 प्रतिशत का इजाफा हुआ। फाडा के अध्यक्ष विंकेश गुलाटी ने कहा कि साफ है कि ऑटो उद्योग को लॉकडाऊन के बाद मांग का अंदाजा लगाने में गलती हुई और इस कारण सैमीकंडक्टर की कमी का सामना करना पड़ रहा है तथा इस कारण सभी श्रेणी के वाहनों की आपूर्ति में कमी आई है।

यहां पढ़ें ऑटो सेक्टर से जुड़ी अन्य खबरें...

comments

.
.
.
.
.