goyal-puts-it-in-the-mouthpiece-claiming-that-bjp-has-only-a-magic-wand

गोयल ने लगाई महापंचायत, किया दावा BJP के पास ही है जादू की छड़ी

  • Updated on 7/14/2019

नई दिल्ली/ कुमार आलोक भास्कर। बीजेपी (bjp) नेता विजय गोयल (vijay goyal) ने एक बार फिर दिल्लीवासियों के नब्ज पर हाथ रख दिया है। उन्होंने आज ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी (GHS) की समस्या को लेकर महापंचायत सजाकर विरोधियों को संकेत दे दिया है कि जब भी मुद्दों की बात आएगी तो वे सबसे आगे रहेंगे। भले ही यह महापंचायत सोसाइटी की समस्या को लेकर हो लेकिन गोयल की नजर आगामी विधानसभा चुनाव में अपनी दावेदारी पुख्ता ढंग से रखकर केंद्रीय नेतृत्व के भरोसा जीतने की कवायद के तौर पर देखा जा रहा है।
 

बेहतर दिल्ली बनाने के लिए केजरीवाल सरकार को बदलने की वित्त मंत्री ने की अपील 

गोयल की राह आसान नहीं
हालांकि गोयल के 'पार्क चलो अभियान' के मुरीद पीएम नरेंद्र मोदी भी है जो खुद राजनीति से अलग हटकर अनेक सामाजिक मुद्दों को उठाकर लोगों के दिल को जीतने की कोशिश करते है। जैसा कि देश भर में स्वच्छता अभियान को लोगों ने हाथों-हाथ लिया था। लेकिन गोयल की राह इतनी आसान भी नहीं है। उनके सामने सबसे बड़ी चुनौती ऐसे कार्यक्रमों को बंद एसी कमरे से बाहर निकालकर जन भागिदारी को बढ़ाने की भी है।
 

उमर अब्दुल्ला ने स्वच्छता अभियान की उड़ाई खिल्ली, निशाने पर #BJP सांसद

केजरीवाल पर जमकर निकाला भड़ास  
हालांकि इस महापंचायत में सीएम केजरीवाल को ही दिल्ली की अधिकतर समस्या के लिए जिम्मेदार ठहराने की कोशिश भी हुई। पूर्व केंद्रीय नेता विजय गोयल ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पर जमकर भड़ास निकाला। राजधानी के तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित रंगारंग कार्यक्रम की भव्यता और बैनर-पोस्टर से सजे आस-पास के इलाके फिर उसमें दिल्ली के 7 सांसदों में से 4 सांसदों का परेड कराने में कामयाब होना गोयल की राजनीतिक कुशलता को एक बार फिर दर्शाता है। 

Navodayatimes

नवजोत सिंह सिद्धू ने पंजाब में कांग्रेस को दिया बड़ा झटका, चल रहे थे नाराज

युवा सांसद प्रवेश ने जीता सभी का दिल
हालांकि पूरे कार्यक्रम का शौ चुरा कर युवा सांसद प्रवेश सिंह वर्मा ने भी अपना दमखम दिखाया और साबित कर दिया है कि वे भले ही उम्र में कई नेताओं से कम हो लेकिन आखिर है तो बेटा पूर्व सीएम साहिब सिंह बर्मा का। राजनीतिक दावपेंच के वे भी माहिर खिलाड़ी है। इसके साथ ही उन्होंने दिल्ली में सरकारी जमीन पर मस्जिद का सवाल उठाकर केजरीवाल और कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया। पश्चिमी दिल्ली से सांसद हंस राज हंस जिनको जुम्मा-जुम्मा चार दिन हुआ है पार्टी में आए हुए उन्होंने भी इस मंच से दिल्लीवासियों के समस्या को बखूबी ढंग से उठाकर स्टेडियम में बैठे लोगों का दिल जीत लिया। 

धोनी थामेंगे #BJP का दामन!, जेपी नड्डा ने दिया बड़ा बयान

गोयल के संघर्ष को श्याम जाजू ने सराहा
इस कार्यक्रम में उपस्थित दिल्ली बीजेपी प्रभारी श्याम जाजू ने भी विजय गोयल के बारे में कसीदे गढ़े। उन्होंने याद किया कि आखिर कैसे विजय गोयल ने जब लॉटरी को देश भर से खत्म करने का ठाना तो करके दिखा दिया। गोयल की पीठ थपथपा कर श्याम जाजू ने भी उन्हें आगे संघर्ष करने के लिए तैयार रहने को कह दिया।  

#KartarpurCorridor : तीर्थयात्रियों की संख्या को लेकर भारत की पाक से गुजारिश

इससे पहले एलजी के सामने रखा मुद्दा
इस महापंचायत से पहले विजय गोयल ने ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी के लोगों की समस्याओं के निदान दिलाने के लिए जिस तरह से दिल्ली के उपराज्यपाल के सामने अधिकारियों की बैठक कराई। आनन फानन में त्वरित निर्णय कराये। जिसकी तारिफ सोसाइटी के लोगों ने की।

DDA कराएगी सर्वे
महापंचायत में बीजेपी नेता विजय गोयल ने अपने संबोधन में इस सोसाइटी को लेकर कहा कि पिछले 40 साल से यहां की जो भी समस्या है उसका कोई निदान करने वाला नहीं है। उन्होंने कहा कि सोसाइटी की सबसे बड़ी समस्या है कि जर्जर हो चुकी मकान को फिर से तैयार कराना। जिसको लेकर उपराज्यपाल ने आश्वासन दिया है कि DDA सर्वे इस बाबत कराएगी। अगर सर्वे के बाद 60 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे फिर से तोड़कर बनाने की रजामंदी देते है तो तभी सोसाइटी के फ्लेट को तोड़े जाएंगे। 

MCD टेक्स लेना बंद करें
इसी तरह उन्होने MCD के इस सोसाइटी से टेक्स लेने पर भी सवाल उठाया। जिस पर उन्होंने भरोसा दिया है कि निगम से बातचीत करके इसे हटाने की प्रक्रिया लागू की जाएगी। सोसाइटी के खस्ताहाल पर केजरीवाल सरकार की चुप्पी पर भी उन्होंने तीखा वार किया। यहां MPLAD (सांसद निधि कोष) के पैसे विकास कार्यों में नहीं लगाने पर चिंता जाहिर की है। जैसे कि सड़क बनाने, स्ट्रीट लाइट, सीवर लाइन, कैमरे आदि कार्य हो सकते है। इसके लिए गोयल को बीजेपी के ही सांसदों से बात करके आगे की प्रक्रिया लागू करनी चाहिए।
 

सोसाइटी में पानी की जाती है 1 ही कनेक्शन
इससे भी चिंताजनक पहलू है कि लगभग 1200 के इस ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी में लगभग 10 लाख लोग रहते है। उनसे दिल्ली जल बोर्ड पूरा पैसा ऐंठता है। लेकिन पानी सोसाइटी में 1 ही कनेक्शन के माध्यम से दिया जाता है। उसके बाद की जल वितरण व्यवस्था खुद सोसाइटी करती है। इसी तरह सीवर डिसपॉजल की भी व्यवस्था खुद सोसाइटी को करनी पड़ती है। कचरा का निपटारा भी MCD नही करती है। यह सारे मुद्दे आज जोर-शोर से उठाए गए।
 

Navodayatimes

पिछले 40 साल से बीजेपी आखिर क्यों थी मौन
हालांकि यह पूरा कार्यक्रम राजनीतिक ही साबित हुआ। अगर आज बीजेपी औऱ गोयल को इन सोसाइटी की चिंता विधानसभा चुनाव को लेकर सता रही है और ऐसा प्रस्तुत किया जा रहा है कि बीजेपी के पास ही वो जादू की छड़ी है जिससे दिल्ली की सभी समस्या का निदान कर सकती है। तो अपने गिरेबां में बीजेपी को भी झांकना होगा कि यह ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी (GHS) जो DDA के अधीन है, पिछले 40 साल में कभी सुध क्यों नहीं लिया गया। इनकी दशा और दिशा अगर बदल गई है तो सुधारने के लिए केंद्र और निगम में उनकी ही सरकार है। कई ऐसे निर्णय वे ले सकते है जिसका त्वरित फायदा इन सोसाइटी के लाखों लोगों को मिलेगा। 
 

मतदाता ही चुनेंगे अगले दिल्ली के रहनुमा
लेकिन सवाल उठता है कि जब चुनाव आते है तभी केजरीवाल को मुफ्त की राजनीति और दिल्ली की चिंता सताने लगती है तो बीजेपी भी रहनुमा बनने की कोशिश शुरु कर देती है। अभी कांग्रेस भी जो पिछले 15 साल राज की है, वे भी साबित करने की कोशिश करेंगे कि उनके पास एक लंबा अनुभव है-समस्या से निजात दिलाने में। आखिर में यहीं मतदाता ही तय करेंगे कि उनके असली रहनुमा कौन है। जिसके लिए विधानसभा चुनाव तक इंतजार  कीजिए।   
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.