Wednesday, Dec 11, 2019
gst-commissioner-s-office-busted-a-gang-to-buy-a-fake-bill

जीएसटी आयुक्त कार्यालय ने फर्जी बिल बेचने, खरीदने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया

  • Updated on 5/22/2019

 नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जीएसटी आयुक्त कार्यालय ने तीन लोगों को गिरफ्तारी के साथ वस्तुओं की आपूॢत किये बिना फर्जी जीएसटी बिल (इनवायस) खरीदने और बेचने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है।

इस काम में पांच कंपनियां शामिल थी। अधिकारियों ने बुधवार को यह कहा। जीएसटी आयुक्त कार्यालय, मेडचल सेंट्रल ने यह भी पाया कि इन कंपनियों ने कथित रूप से 22.64 करोड़ रुपये का इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) का लाभ लिया जबकि वे इसके पात्र नहीं थीं।  

गुजरात: रसोईघर में घुसा प्यासा मगरमच्छ

कोलकाता से मिली सूचना एवं जांच के आधार पर आयुक्त कार्यालय ने इन कंपनियों के खिलाफ मामला दर्ज किया। इन कंपनियों पर आरोप है कि वस्तुओं का वास्तविक रूप से आपूॢत किये बिना वे कथित रूप से फर्जी जीएसटी बिल की खरीद और आपूॢत में लगे थे।  

प्रधान आयुक्त एम श्रीनिवास ने एक विज्ञप्ति में यह भी कहा कि ये कंपनियां जुलाई 2017 से गलत तरीके से आईटी ले रही थीं।   इनमें से कुछ धोखाधड़ी से प्राप्त आईटीसी का उपयोग अपने विनिर्मित वस्तुओं पर अपनी जीएसटी देनदारी को पूरा करने में करते थीं। और इस प्रकार से कर भुगतान से बच रहे थे।  

एकदिवसीय आलराउंडरों की सूची में शाकिब शीर्ष पर, शीर्ष 10 में कोई भारतीय नहीं 

उन्होंने कहा कि मामले में शामिल इन कंपनियों के तीन प्रमुख लोगों को गिरफ्तार किया गया है और उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.