Thursday, Feb 09, 2023
-->
gujarat: 14 people detained for protesting against ''''agneepath'''' scheme in ahmedabad

गुजरात में ‘अग्निपथ’ योजना का विरोध, 14 लोगों को लिया गया हिरासत में

  • Updated on 6/19/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गुजरात के अहमदाबाद शहर में रविवार को सशस्त्र बलों में युवाओं की भर्ती के लिए घोषित केंद्र की ‘अग्निपथ’ योजना के विरोध में बिना अनुमति के एकत्रित हुए 14 लोगों को हिरासत में ले लिया गया। पुलिस ने यह जानकारी दी। कुछ प्रदर्शनकारियों ने दावा किया कि वे ‘‘गांधीवादी’’ तरीके से इस योजना का विरोध करने के लिए एकत्रित हुए थे।   

अग्निपथ योजना: अगले हफ्ते तक भर्ती प्रक्रिया शुरू करेंगी थलसेना, नौसेना, वायुसेना

  चार साल के कार्यकाल के लिए रक्षा बलों में युवाओं की भर्ती के वास्ते केंद्र द्वारा घोषित योजना ‘अग्निपथ’ के विरोध में शहर के मेघानीनगर इलाके में एक स्थान पर लगभग 100 लोग एकत्र हुए, जिनमें ज्यादातर स्थानीय निवासी शामिल थे।      मेघानीनगर पुलिस थाने के निरीक्षक जे पी चौहान ने कहा, ‘‘हमने उनमें से 14 को हिरासत में ले लिया, क्योंकि वे बिना अनुमति के एकत्रित हुए थे।’’  

‘अग्निपथ’ योजना पर शरद यादव ने उठाए सवाल, गिरिराज ने हिंसा पर राजद पर बोला हमला

    हालांकि, प्रदर्शनकारियों में से एक ने कहा, ‘‘हम गांधीवादी तरीके से विरोध कर रहे थे, लेकिन हमें कुछ मिनटों के लिए भी बैठने की अनुमति नहीं दी गई। पुलिस वहां पहुंची और हमें हिरासत में ले लिया। हम तब तक विरोध करने की अनुमति चाहते हैं, जब तक हमारी मांगें पूरी नहीं होती हैं और योजना वापस नहीं ली जाती है।’’  

‘अग्निपथ’ को तत्काल वापस लिया जाए, PM मोदी नौजवानों से मांगें माफी : कांग्रेस

    देश के कई हिस्सों में ‘अग्निपथ’ सैन्य भर्ती योजना के खिलाफ बढ़ते विरोध के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को तीनों सेनाओं के प्रमुखों से मुलाकात की। ऐसी सूचना है कि विचार-विमर्श प्रदर्शनकारियों को शांत करने पर केंद्रित था।      देश के विभिन्न हिस्सों में विरोध तेज होने के बीच रक्षा मंत्री ने शनिवार को मंत्रालय के अधीन विभिन्न इकाइयों में ‘अग्निपथ’ योजना के तहत भर्ती के लिए 10 प्रतिशत नौकरियों को आरक्षित करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। गुजरात में अब तक इस योजना के खिलाफ किसी हिंसक विरोध की सूचना नहीं मिली है।   

अग्निपथ योजना पर लोगों को उकसाकर विवाद पैदा कर रहा विपक्ष : वी के सिंह 

 

comments

.
.
.
.
.