Thursday, Oct 28, 2021
-->
gujarat-after-sisodia-in-sanjay-singh-takes-charge-of-aap-with-support-laddu-ke-bhaiya-rkdsnt

गुजरात में सिसोदिया के बाद संजय सिंह ने संभाला AAP का मोर्चा, 'लड्डू के भैया' का मिला साथ 

  • Updated on 2/7/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। गुजरात निकाय चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी ने कमर कस ली है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के बाद पार्टी के सांसद संजय सिंह ने AAP का मोर्चा संभाल लिया है। आम आदमी पार्टी ने लगातार दूसरे दिन रोड शो निकालकर भाजपा और कांग्रेस खेमे में हलचल मचा दी है। वहीं दिल्ली की केजरीवाल सरकार के मॉडल को 'टीवी सीरियल भाभीजी घर पर हैं' के मशहूर अभिनेता रोहितास गौड़ का साथ भी सोशल मीडिया पर मिल गया है। रोहितास गौड़ सीरियल में मनमोहन तिवारी का कैरेक्टर निभा रहते हैं। 'लड्डू के भैया' ने केजरीवाल मॉडल की जमकर तारीफ की है। 

उत्तराखंड त्रासदी : हिमालय के हिमखडों को लेकर स्टडी कर रही है बड़े संकट की ओर इशारा 

यूपी के बाद हरियाणा में टिकैत ने ठोकी ताल, किसानों की मांगों पर मोदी सरकार को चेताया

उधर, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शनिवार को गुजरात में रोडशो निकाला था। उस दौरान उन्होंने कहा था कि भाजपा नीत केन्द्र सरकार को तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों की मांगें मान लेनी चाहिये। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा किसानों के हितों की उपेक्षा कर कुछ उद्योगपतियों के फायदे के लिये ये कानून लाई है। 

उत्तराखंड आपदा से स्तब्ध हैं ममता, केजरीवाल मदद मुहैया कराने को तैयार

सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस शाह ने पीएम मोदी को बताया ‘लोकप्रिय, जीवंत और दूरदर्शी नेता’

सिसोदिया आगामी नगर निगम चुनाव के सिलसिले में रोड शो करने के लिये अहमदाबाद में थे। उनका यह बयान कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों द्वारा शनिवार को आहूत राष्ट्रव्यापी चक्का जाम के बीच आया है। सिसोदिया ने कहा,‘‘दिल्ली में हाई अलर्ट है, लेकिन देशभर के किसानों के दर्द को समझा जा सकता है। मैंने देखा कि गुजरात के किसान भी (कृषि कानूनों) को लेकर अपने सुझाव रखने के लिये दिल्ली गए हैं।‘‘ 

यूपी : अधिकारियों से परेशान बसपा नेता ने किया सुसाइड, मायावती खामोश

उन्होंने कहा था,‘‘मुख्य मुद्दा यह है कि भाजपा किसानों के हितों को किनारे रखकर उद्योगपतियों के फायदे के लिये ये कानून क्यों लेकर आई? और अगर भाजपा सोचती है कि कानून किसानों के हित में हैं और वे इन्हें अच्छी तरह समझते हैं तो वह किसानों की मांग क्यों नहीं मान लेती? उसे मांगों को मान लेना चाहिये।‘‘

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...


 

comments

.
.
.
.
.