Friday, May 20, 2022
-->
gujarat-government-came-under-target-of-all-india-traders-for-signing-up-with-amazon-rkdsnt

अमेजन से करार करने पर ऑल इंडिया ट्रेडर्स के निशाने पर आई गुजरात की भाजपा सरकार 

  • Updated on 9/7/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देशभर के व्यापारियों के संगठन कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने मंगलवार को ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन के साथ एक सहमति पत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर करने के लिए गुजरात सरकार की आलोचना की। कैट ने आरोप लगाया कि अमेरिकी ई-कॉमर्स कंपनी प्रतिस्पर्धा विरोधी गतिविधियों में शामिल है। 

दिल्ली दंगों की ढुलमुल जांच को लेकर कोर्ट ने पुलिस आयुक्त अस्थाना को चेताया 

कैट ने एक बयान में कहा, ‘‘गुजरात सरकार द्वारा एक कानून तोडऩे वाली कंपनी के साथ हाथ मिलाने से गुजरात के व्यापारियों के अलावा देश भर के व्यापारी ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। कैट इस तरह के एमओयू का विरोध करेगा।’’ व्यापारी संगठन ने कहा कि एक तरफ भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) जैसी केंद्रीय एजेंसियां अमेजन के खिलाफ प्रतिस्पर्धा विरोधी व्यवहारों और ई-कॉमर्स नियमों के उल्लंघन के लिए जांच कर रहे हैं और दूसरी ओर गुजरात सरकार उनके साथ हाथ मिला रही है। 

करनाल महापंचायत : हरियाणा पुलिस ने टिकैत, योगेंद्र यादव समेत किसान नेताओं को हिरासत में लिया

कैट ने कहा कि वह इस मुद्दे को भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा और केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल के समक्ष उठाएगा। अमेजन इंडिया ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि उसने गुजरात सरकार के उद्योग एवं खान विभाग के साथ एक समझौता किया है, जिसके तहत वह राज्य के छोटे एवं मझोले कारोबारियों को अमेजन ग्लोबल सेलिंग पर प्रशिक्षित करेगी। इससे ये कारोबारी 200 से अधिक देशों और क्षेत्रों में करोड़ों अमेजन ग्राहकों को अपने उत्पाद बेच सकेंगे। 

न्यायाधिकरणों में नियुक्तियां नहीं करके केंद्र इन्हें कमजोर कर रहा: सुप्रीम कोर्ट

अमेजन ग्लोबल सेलिंग  कंपनियों को उसके ई-कॉमर्स मंच का उपयोग करके वैश्विक स्तर पर अपने ब्रांड पेश करने में मदद करता है। बयान में कहा गया कि अमेजन अहमदाबाद, वडोदरा, सूरत, भरूच और राजकोट जैसे शहरों के छोटे तथा मझोले निर्यातकों के लिए प्रशिक्षण, वेबिनार और कार्यशालाएं आयोजित करेगा। अमेजन ने कहा कि इस पहल के जरिए गुजरात के निर्यातों को उसके 17 विदेशी बाजारों के माध्यम से दुनिया भर में 30 करोड़ से अधिक ग्राहकों तक पहुंच मिलेगी। 

RSS ने इंफोसिस की अलोचना करने वाले पांचजन्य के लेख से अपना पल्ला झाड़ा

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.