Thursday, Jan 27, 2022
-->
gujarat high court declared bjp minister election victory illegal congress satyamev jayate rkdsnt

गुजरात हाई कोर्ट ने भाजपा मंत्री की चुनावी जीत को बताया अवैध, कांग्रेस बोली- सत्यमेव जयते

  • Updated on 5/12/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। गुजरात के शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चूड़ासमा को हाईकोर्ट ने करारा झटका दिया है। गुजरात हाईकोर्ट ने 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में धोलका सीट से उनकी चुनावी जीत को अवैध करार दिया है। उनके प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवार अश्विन राठौड़ ने चूड़ासमा की जीत को कोर्ट में चुनौती दी थी। अश्विन ने याचिका में कहा था कि चूड़ासमा ने गलत तरीकों से विधानसभा चुनाव जीता है।

CM रुपानी को लेकर गुजराती न्यूज पोर्टल के संपादक पर गिरी गाज, प्रशांत भूषण हैरान

राठौड़ का आरोप था कि वोट काउंटिंग के वक्त बैलेट पेपर की गणना में अनियमितता बरती गईं। इस मामले में दोनों पक्षों के गवाहों के बयान लेने के बाद रिटर्निंग अफसर धवल जॉनी का ट्रांसफर हाईकोर्ट के निर्देस पर किया गया था। मंत्री ने इस सीट पर 327 वोटों से जीत दर्ज की थी। हाईकोर्ट ने 429 पोस्टल बैलेट रद्द करने का फैसला असंवैधानिक करार दिया था। राठौड़ का आरोप था कि पोस्टल बैलेट में मिले वोटों में से 429 वोट रद्द होने से चूड़ासमा को जीत मिली थी। 

आजम खान और उनके खानदान के बचाव में उतरे मशहूर शायर मुनव्वर राणा

चूड़ासमा बोले- फैसले को SC में देंगे चुनौती 
उधर, शिक्षा मंत्री चूड़ासमा हाईकोर्ट के आदेश को लेकर जहां असहज नजर आए, वहीं उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में जाने की बात भी कही। इस मामले में उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल का कहना है कि हम कानूनी रास्ता अपनाते हुए फैसले को चुनौती देंगे। साथ ही इस मामले पर प्रदेश अध्यक्ष, मुख्यमंत्री विजय रुपानी और राष्ट्रीय नेताओं से विचार किया जाएगा। सवाल यह भी उठ रहा है कि क्या सरकार चूड़ासमा को शिक्षा मंत्री आगे भी जारी रहेगी। 

PM मोदी के राष्ट्र संबोधन से पहले कांग्रेस ने दागे सवाल, मजदूरों समेत उठाए कई मुद्दे

अरूंधति राय बोलीं- देश को दिमाग, दिल और जिम्मेदारी की जरुरत है, दिखावे की नहीं

गुजरात कांग्रेस ने कहा- सत्यमेव जयते 
हाई कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस खेमे में खुशी का माहौल है। कांग्रेस नेता शक्ति सिंह गोहिल ने अपने ट्वीट में सत्यमेव जयते लिखा है। वहीं उन्होंने लिखा है कि भूपेंद्र सिंह चूड़ासमा ने 2017 में अपना चुनाव गलत तरीके से जीता था। हाई कोर्ट ने इस पर मुहर लगा दी है।

कोरोना लॉकडाउन में ट्रेनों की आवाजाही के बाद भी अखिलेश संतुष्ट नहीं, पूछे सवाल

comments

.
.
.
.
.