Wednesday, Apr 08, 2020
gujraat-high-court-hardik-patel-government-reservation

अदालत ने हार्दिक पटेल की अग्रिम जमानत अर्जी की खारिज

  • Updated on 2/17/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गुजरात (Gujraat) उच्च न्यायालय (High Court) ने सोमवार को 2015 के पाटीदार आंदोलन के सिलसिले में गैरकानूनी तरीके से लोगों के जमा होने के मामले में कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल (Hardik patel) की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज कर दी।     
#AAP के भगवंत मान ने ट्रंप यात्रा से पहले गुजरात में बनी दीवार को लेकर PM मोदी पर कसा तंज

जमानत अर्जी खारिज की
न्यायमूर्ति वी एम पंचोली ने पटेल की पृष्ठभूमि के आधार पर सरकार की आपत्ति पर विचार करने के बाद उनकी जमानत अर्जी खारिज कर दी। याचिका का विरोध करते हुए सरकार (Government) ने अदालत में कहा कि पटेल के खिलाफ दस से ज्यादा आपराधिक मामले दर्ज हैं और वह गिरफ्तारी के डर से भूमिगत हो गये थे।
CAA के विरोध में उतरे इमरान, कहा- PAK को करना पड़ सकता है शरणार्थी संकट का सामना

अहमदाबाद में बड़ी रैली की आयोजित 
मामला अगस्त 2015 का है जब पटेल के नेतृत्व में पाटीदार अनामत आंदोलन समिति ने आरक्षण (reservation) आंदोलन के तहत अहमदाबाद में एक बड़ी रैली आयोजित की थी। इस मामले में गैरकानूनी तरीके से जमा होने के सिलसिले में प्राथमिकी दर्ज की गयी थी। पुलिस का दावा था कि रैली को आवश्यक अनुमति नहीं मिली थीं।     
अनाथ बच्ची के नाम पुलिस IG ने कराई FD, गोद लेने को विदेश से आ रहे फोन

क्या बोली पुलिस
पुलिस ने दलील दी कि लोगों के गैरकानूनी तरीके से जमा होने से हिंसा भड़की जिसमें एक दर्जन से अधिक युवा मारे गये और संपत्तियों को नुकसान पहुंचा। पटेल ने अग्रिम जमानत अर्जी में दावा किया था कि राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी द्वारा उन्हें सताया जा रहा है जिसने उनके खिलाफ कई झूठे,मनगढ़ंत मामले दर्ज किये थे। उन्होंने कहा कि पुलिस राजनीतिक दबाव में उन्हें गिरफ्तार करने के लिए काम कर रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.