Wednesday, Oct 16, 2019
gujrat moter vehicle act hike down

गुजरात सरकार ने ट्रैफिक नियमों का जुर्माना किया कम

  • Updated on 9/17/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गुजरात में यातायात नियमों के उल्लंघनों के लिए कम किए गए जुर्माने सोमवार को लागू हो गए। राज्य की भाजपा सरकार ने हाल में संशोधित मोटर वाहन अधिनियम (MVA) में भारी जुर्माने में राहत देने की घोषणा सप्ताह भर पहले की थी। कांग्रेस ने हालाँकि इस पूरे कदम का विरोध किया और कहा कि नया अधिनियम सड़कों के गड्ढे भरे जाने के बाद ही लागू किया जाना चाहिए। गत सप्ताह राज्य सरकार ने संसद द्वारा जुलाई में पारित मोटर वाहन (संशोधन) विधेयक, 2019 के तहत विभिन्न यातायात उल्लंघनों के लिए लगाया गया भारी जुर्माने कम किये थे।      

INX मीडिया मामला : ED ने चिदंबरम के पूर्व पीएस को फिर किया तलब

एक अधिकारी ने कहा कि सोमवार को सूरत के एक ट्रक मालिक ने 5,000 रुपये का जुर्माना भरा जो कि यह राज्य में सामने आने वाला सबसे अधिक जुर्माना है। उक्त जुर्माना वाहन का फिटनेस प्रमाणपत्र नहीं होने के लिए लगाया गया। प्रदूषण-नियंत्रण (PUC) प्रमाणपत्र जारी करने वाले केंद्रों पर लंबी कतारें लगी थीं। हालांकि सरकार पहले ही घोषणा कर चुकी है कि इसके उल्लंघन के लिए जुर्माना पुराने नियमों के अनुसार 100 रुपये ही रहेगा, नये अधिनियम के अनुसार निर्धारित 500 रुपये नहीं। गुजरात कांग्रेस प्रमुख अमित चावड़ा ने भाजपा सरकार पर निशाना साधा और कहा कि इस अधिनियम को तभी लागू किया जाना चाहिए जब वह सड़कों को गड्ढा मुक्त बना दे।  

रिश्वत मामले में फरार चल रहे CBI निरीक्षक ने किया आत्मसमर्पण

कांग्रेस ने लोगों से नये अधिनियम के खिलाफ अपना विरोध दर्ज करने के लिए 079-41050774 पर मिस कॉल देने के लिए कहा। चावड़ा दावा किया, ‘‘सरकार द्वारा उचित तैयारी किए बिना लोगों पर नया यातायात नियम थोप दिये गए। हजारों लोग अब भी पीयूसी प्रमाणपत्र प्राप्त करने के लिए कतार में हैं। भाजपा सरकार ने पुलिस को इन नये नियमों को लागू करके लोगों को लूटने की इजाजत दे दिया है।’’     

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी (Vijay rupani) ने पिछले सप्ताह यातायात उल्लंघनों के लिए संशोधित अधिनियम में निर्धारित भारी जुर्माने में 90% तक की कटौती की घोषणा की थी। रूपाणी ने कहा था कि संशोधित केंद्रीय मोटर यान अधिनियम में बिना हेलमेट के दोपहिया वाहन चलाने पर 1,000 रुपये का जुर्माना लगाने का प्रावधान किया गया है, गुजरात में यह जुर्माना 500 रुपये होगा। यह जुर्माना अभी 100 रुपये है। वहीं केंद्रीय कानून में दोपहिया वाहन पर पीछे बैठे व्यक्ति के हेलमेट नहीं पहनने के लिए 1,000 रुपये के जुर्माने का प्रस्ताव किया गया है यह प्रावधान गुजरात में बिल्कुल भी लागू नहीं किया जाएगा।      

केजरीवाल बोले-AAP सरकार की योजनाओं के चलते नहीं चुभ रही है आर्थिक मंदी

उन्होंने कहा था कि संशोधित केंद्रीय कानून में चालक के पास लाइसेंस नहीं होने पर 5,000 रुपये का जुर्माना लगाने का प्रावधान है। हालांकि, राज्य पुलिस इस उल्लंघन के लिए दोपहिया वाहन सवारों से 2,000 रुपये और बड़े वाहन चालकों से 3,000 रुपये वसूल करेगी।      

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.