Wednesday, Mar 20, 2019

गुरुद्वारा कमेटी का 9 मार्च को होगा चुनाव, चुनाव निदेशालय ने दी हरी झंडी

  • Updated on 3/1/2019

नई दिल्ली/(सुनील पाण्डेय): दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के आतंरिक चुनाव 9 मार्च को होंगे। इसको लेकर दिल्ली सरकार के गुरुद्वारा चुनाव निदेशायल ने हरी झंडी दे दी है। साथ ही तैयारी एवं चुनाव को लेकर एक पत्र भी आज दिल्ली गुरुद्वारा चुनाव निदेशालय की तरफ से कमेटी को भेजा दिया गया है। कमेटी के तत्कालीन अध्यक्ष मंजीत सिंह जीके की समूची कार्यकारिणी द्वारा जनरल हाउस को इस्तीफा सौंपने के बाद अभी तक कमेटी कार्यकारी तौर पर कार्य कर रही है। 

लेकिन, अब 9 मार्च को कमेटी को नये अध्यक्ष सहित 5 पदाधिकारी तथा 10 कार्यकारिणी सदस्य मिल जाएंगे। इनका कार्यकाल 2 साल का होगा। मार्च 2021 में कमेटी के आम चुनाव होंगे। इस संबंध में पहले 19 जनवरी को नये पदाधिकारियों के चयन के लिए जनरल हाउस बुलाया गया था। लेकिन, कमेटी के पूर्व महासचिव एवं वर्तमान सदस्य गुरमीत सिंह शंटी के अदालत जाने के कारण कार्यकारिणी चुनाव पर रोक लग गई थी। 

हालांकि, बाद में शंटी ने अपने कदम वापस खींच लिए, जिसके चलते चुनाव कराने का रास्ता साफ हो गया। इसके बाद कमेटी के महासचिव मनजिंदर सिंह सिरसा ने अदालत को लिखित में भरोसा दिया था कि नये कार्यकारिणी के चुनाव कमेटी के एक्ट के हिसाब से ही होंगे। अदालत की ओर से हरी झंडी मिलने के बाद गुरुद्वारा चुनाव निदेशालय ने कवायद शुरू कर दी थी। इस बार के चुनाव में मुख्य भूमिका निदेशालय की ही रहेगी। 

पाकिस्तान से भारत लौटे विंग कमांडर अभिनंदन, देश ने किया जबर्दस्त स्वागत

आम चुनाव के बाद होने वाले पहले हाउस की तरह इस बार पहले प्रोटम स्पीकर का चुनाव किया जाएगा, जो कि अध्यक्ष का चुनाव करवाएगा। अध्यक्ष चुनने के बाद अगले पदाधिकारी तथा सदस्यों का चुनाव अध्यक्ष के तौर पर सभापति के द्वारा करवाया जाएगा।

मौजूदा कार्यकारिणी का कार्यकाल 29 मार्च 2019 को खत्म हो रहा है। इसलिए 9 मार्च को होने वाले चुनाव 20 दिन पहुले होने जा रहे हैं।  चुनाव कराने की पुष्टि खुद गुरुद्वारा चुनाव निदेशक शूरवीर सिंह ने की है। उनके मुताबिक एक दो दिन में नोटिफिकेशन जारी हो जाएगा। उनकी तरफ से तैयारी शुरू हो गई है।

बता दें कि कमेटी के तत्कालीन अध्यक्ष मंजीत सिंह जीके के उपर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते उन्हें पद छोडऩा पड़ा था। जीके के पद छोडऩे के बाद नये चुनाव को लेकर रास्ता बन गया था। उधर, सामाजिक कार्यकर्ता दलजीत सिंह खालसा ने निदेशालय द्वारा जल्दबाजी में चुनाव करवाने की आ रही खबरों के बीच शिकायत भी निदेशालय को दी थी। लेकिन, निदेशालय ने शिकायतों की परवाह ना करते हुए 9 मार्च को चुनाव कराने का ऐलान कर दिया है। 

केजरीवाल का भाषण पाक में #Viral, कपिल मिश्रा पूछा- देश से ग़द्दारी क्यों?

51 सदस्यों का कमेटी का जनरल हाउस 
दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी का हाउस 51 सदस्यों का है। इसमें से 46 सदस्य संगतों के द्वारा मतदान के जरिये चुने जाते हैं। जबकि, 2 सदस्य कोआप्शन के जरिये चयनित होते हैं। इसके अलावा 2 सदस्य सिंह सभा गुरुद्वारों के प्रतिनिधि के तौर पर लॉटरी के द्वारा चुने जाते हैं। साथ ही 1 सदस्य एसजीपीसी नामजद करती है। 

इसके अलावा तख्त श्री दमदमा साहिब को छोड़कर बाकी चारों तख्तों के जत्थेदार भी सदन के सदस्य हैं, लेकिन इन्हें वोट देने का अधिकार नहीं है। इन्हें पदेन सदस्य का दर्जा दिया गया है। इसमें 5 पदाधिकारी अध्यक्ष, वरिष्ठ उपाध्यक्ष, कनिष्ठ उपाध्यक्ष, महासचिव, संयुक्त सचिव तथा 10 कार्यकारिणी सदस्य चुने जाते हैं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.