Saturday, Feb 27, 2021
-->
hardeep singh puri 275000 indians back india lockdown vande bharat mission pragnt

वंदे भारत मिशन पर बोले हरदीप सिंह पुरी, Lockdown के दौरान 2.75 लाख लोगों की हुई देश वापसी

  • Updated on 6/20/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रकोप को रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन (Lockdown) के चलते दुनिया के विभिन्न देशों में फंसे भारतीयों को वंदे भारत मिशन (Vande Bharat Mission) के तहत लगातार अपने देश वापस लाया जा रहा है। आज केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Hardeep Singh Puri) ने इस मिशन की सफलता को बताते हुए कहा कि अभी तक कुल 750 उड़ानों से 275 हजार भारतीयों को वापस लाया जा चुका है। इस महामारी के दौर में ये कोई छोटी संख्या नहीं है।

गरीब कल्याण योजना से प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने में जुटी मोदी सरकार

275 हजार लोग स्वदेश लौटे
विमानन मंत्री ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान करीब 2,75,000 भारतीय जो विदेशों में फंसे थे, उन्हें फ्लाइट्स और शिप्स के जरिए वापस लाया गया है। हम अपना बेस्ट कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि घरेलू निजी विमानन कंपनियों को वंदे भारत मिशन के तीसरे और चौथे चरण में फंसे हुए लोगों को पहुंचाने के लिये 750 उड़ानों के संचालन की पेशकश की गई। 

सीमा विवाद पर प्रशांत का तंज, बोले- कोरोना से लड़ाई 21 दिन में जीती, चीन से लड़ने कोई नहीं आया

केरल आए सबसे ज्यादा यात्री
हरदीप सिंह पुरी ने बताया कि इस मिशन के तहत सबसे ज्यादा यात्री केरल में आए हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हमारी फ्लाइट की संख्या को बढ़ाने की क्षमता पूरी तरह से गंतव्य स्थान की फ्लाइट को लेनी की इच्छा पर निर्भर करती है। 

चिदंबरम ने पीएम नरेंद्र मोदी के सर्वदलीय बैठक में किये दावे पर उठाया सवाल

देश में कोरोना का कहर
देशभर में कोरोना वायरस का कहर लगातार जारी है। हालांकि इस बीच अच्छी खबर ये है कि संक्रिय मामलों की संख्या ठीक होने वाले लोगों से कम है। देश में अब तक 3,95,812 लोग इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। वहीं इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 12,970 लोगों की जान जा चुकी है। राहत की बात ये है कि देश में इस वक्त ठीक होने वाली की संख्या सक्रिय मामलों से अधिक है। देश में सक्रिय मामलों की संख्या1,68,586 है जबकि 2,14,206 लोग ठीक हो चुके हैं। 

कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरों को यहां पढ़ें...

comments

.
.
.
.
.