Friday, Apr 23, 2021
-->
hardik patel broke silence on the defeat in 2015 said the party is using me right pragnt

हार्दिक पटेल ने तोड़ी चुप्पी, कहा- पार्टी के नेता नीचे खींचने की कोशिश कर रहे हैं

  • Updated on 2/27/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर भी सभी पार्टियों ने अपनी अपनी कमर कस ली है। ऐसे में अगर पिछले नगर निकाय चुनावों के नतीजे पर एक नजर डाले तो उसमें बीजेपी (BJP) का ही डंका बजता दिख रहा है। इतना ही नहीं पाटीदार नेताओं का गढ़ कहलाने वाले सूरत में भी कांग्रेस के हाथ निराशा लगी थी।

ऐसे में अब जब गुजरात विधानसभा चुनाव में एक साल का ही वक्त बचा है तो पाटीदार और कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल (Hardik Patel) ने अपनी चुप्पी तोड़ दी है। हार्दिक पटेल ने कहा कि पार्टी उनका सही से इस्तेमाल नहीं कर पा रही है। ऐसे में उन्होंने ने भी कहा कि कांग्रेस के कुछ नेता उन्हें नीचे खीचने की कोशिश कर रहे हैं।

पश्चिम बंगाल : 8 राउंड की वोटिंग पर जब ममता ने उठाए सवाल तो चुनाव आयोग ने दिया ये जवाब

क्या है पूरा मामला
एक मीडिया हाउस से बात करते हुए हार्दिक पटेल ने कहा कि कांग्रेस के राज्य नेतृत्व ने अभी भी स्थानीय चुनाव को लेकर मेरे साथ एक भी बैठक नहीं की। अभी तक जितनी भी रैली मैने निकाली हैं वो सब अपने दम पर निकली है। इसके साथ ही उन्होंने आगे कहा कि अगर अहमद पटेल आज अगर जिंदा होते तो बीजेपी को 219 सीट कभी भी नहीं लेने देते।

निकाय चुनाव को लेकर बोले पटेल
साल 2015 में आए निकाय चुनाव के नतीजों को लेकर हार्दिक ने कहा कि चाहे वो नतीजे तालुका के हो, नगरपालिका के हो या महानगरपालिका के हो ये सभी कोटे के आंदोलन की वजह से आए थे। मैं लगातार पार्टी नेताओं को समझता रहता हूं और अब भी मैं यही कहता हूं कि मैं जितने भी दिन दौरा कर रहा हूं उसका फैसला प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) नहीं करती है।

जानें पश्चिम बंगाल चुनाव के क्या है अहम फैक्टर, तय कर सकते हैं हार-जीत का समीकरण

'मैं पार्टी को हमेशा से मजबूत करना चाहता हूं'
उन्होंने आगे कहा कि मैं कांग्रेस के नेता चाहे मुझे नीचे खींचे या फिर धक्का दे दें, मैं पार्टी को मजबूत करने की कोशिश करता रहूंगा। अगर मैं गिरा भी तो भी मैं फिर खड़ा हो जाऊंगा। आंदोलन के दौरान मुझे नीचे गिराने की कोशिश की लेकिन मैं फिर से खड़ा हो गया। हार्दिक पटेल ने अपने अभी तक के काम के बारे में बात करते हुए कहा कि जब मैंने कांग्रेस ज्वाइन की थी तो मुझे लगा था कि वो मेरा सही से इस्तेमाल कर पाएंगे लेकिन राज्य के कांग्रेस प्रभारी मेरा ठीक से इस्तेमाल करने में असफल रहे। मैं बार-बार पार्टी से यही कहता हूं कि मुझे कुछ काम दीजिए मैं एक दिन में 25 बैठके करने को तैयार हूं।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

comments

.
.
.
.
.