Sunday, Jun 13, 2021
-->
haridwar crazy for saints maha kumbh mela 2021 niranjani akhara peshwai pragnt

संतों के दर्शन के लिए दीवाना हुआ हरिद्वार

  • Updated on 3/4/2021

हरिद्वार/योगेश योगी। श्री निरंजनी और आनंद अखाड़े की पेशवाई के दौरान संतों के दर्शन के लिए हरिद्वार मानो दीवाना हो गया। हरिद्वार के लोग काम-धाम छोड़ सड़कों पर उमड़ पड़े। बड़े- बूढ़े महिला-पुरुष और बच्चे सब संतों के एक दर्शन के लिए सड़क के दोनों और घंटो खड़े रहे।

पेशवाई के दौरान संत महापुरुषों के दिव्य दर्शन करें नगरवासी : नरेंद्र गिरी

निकाली गई पहली पेशवाई
 हरिद्वार कुंभ में श्री निरंजनी और आनंद अखाड़े की ओर से पहली पेशवाई निकाली गई। इसको लेकर पूरे शहर में उत्साह का माहौल था। सुबह से ही लोगों ने पेशवाई देखने की तैयारी कर ली थी। लोग अपने छोटे-छोटे बच्चों को पेशवाई दिखाने के लिए लेकर आए थे। लोगों ने पहले से ही स्थान चयन कर लिया था। कुछ लोगों ने आसपास की छतों को खड़े होने के लिए चुन लिया तो कुछ लोग सड़कों के किनारे ही अपना स्थान आरक्षित कर लिया था। कई लोग अपने साथ फूल लेकर आए थे। संतों पर फूलों की वर्षा भी होती रही।

शाही अंदाज में निकली अखाड़ों की पेशवाई, हर-हर महादेव के जयकारों से गूंज उठी धर्मनगरी

झांकी बनी आकर्षण का केंद्र
पेशवाई में उत्तराखंड की संस्कृति को प्रदर्शित करती झांकी आकर्षण का केंद्र बनी रही। इसके साथ ही महाराष्ट्र के नासिक से आए बैंड ने भी लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचा। छोटे-छोटे बच्चों को हाथी, घोड़ों और ऊंटों ने आकर्षित किया। विभिन्न सामाजिक संस्थाओं ने जगह जगह पर पेशवाई का स्वागत किया।

मार्च में केवल एक स्नान, अप्रैल में होंगे पांच... जानिए कुम्भ का पूरा प्रोग्राम

शाही अंदाज में निकली निरंजनी-आनंद अखाड़े की पेशवाई
बुधवार को धर्मनगरी हरिद्वार में श्री निरंजनी और आनंद अखाड़े के साधु- संन्यासियों की ओर से पेशवाई निकाली गई। शाही अंदाज में निकाली गई पेशवाई के दौरान पूरी धर्मनगरी हर-हर महादेव के जयकारों से गूंज उठी। साधु- संतों के साथ ही हरिद्वार में मौजूद लाखों श्रद्धालुओं ने भी हर- हर महादेव के जयकारे लगाए। हरिद्वार कुंभ में अखाड़ों की ओर से यह पहली पेशवाई निकाली गई।

बिछड़े यारों को मिलाएगा गुरुकुल का एक प्रयास

इस अवसर पर CM रावत ने की पूजा-अर्चना
तपोनिधि श्री पंचायती अखाड़ा निरंजनी और आनन्द अखाड़े के नागा संन्यासियों और संतों ने भव्य पेशवाई के रूप में अखाड़े की  छावनी में प्रवेश किया। इससे पहले एसएमजेएन कालेज के मैदान में स्थित अस्थाई छावनी से भव्य रूप स निकाली गयी पेशवाई में प्रारम्भ हुई। पेशवाई के शुभारंभ अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, केंद्रीय मंत्री महामण्डलेश्वर साध्वी निरंजन ज्योति, श्रीराम जन्म भूमि न्यास के सदस्य युगपुरूष स्वामी परमानन्द गिरी और अखाड़े के संतों ने पूजा-अर्चना की। पूजन के बाद पेशवाई यहां से निकली।

भारतीय संस्कृति का शिखर पर्व है कुंभ मेला : नरेंद्र गिरि

हेलीकॉप्टर से हुई फूलों की बारिश
पेशवाई में शामिल नागा संन्यासियों के दर्शन करने के लिए सड़क के दोनों और श्रद्धालुओं की भारी भीड़ रही। संतों के दर्शन करने के लिए पूरे पेशवाई मार्ग पर छतों पर भी लोग जमा रहे। श्रद्धालुओं ने भक्ति और श्रद्धाभाव से सड़क के दोनों ओर खड़े होकर नागा संन्यासियों पर पुष्पवर्षा की। पेशवाई  मार्ग पर पैराग्लाइडर और हेलीकॉप्टर से भी पुष्पवर्षा की गई। पेशवाई में परम्परा के अनुसार हाथी, घोड़े, ऊंट और बैंड बाजे साथ चल रहे थे। पेशवाई में सबसे आगे अखाड़े की धर्म ध्वजा लहरा रही थी।

पहाड़ी दरकने से छह घंटे बंद रहा बदरीनाथ हाईवे, लोगों को उठानी पड़ी दिक्कतें

ये लोग रहे मौजूद
धर्म ध्वजा के पीछे निरंजनी अखाड़े के आराध्य भगवान कार्तिकेय की पालकी चल रही थी। इसके पीछे नागा संन्यासी अपने अस्त्र-शस्त्रों के साथ पेशवाई के बीच में जगह-जगह रुककर युद्ध कौशल का प्रदर्शन कर रहे थे। पेशवाई में  निरंजनी अखाड़े के आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरी, अखाड़ा परिषद अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरी, निंरजनी अखाड़े के सचिव श्रीमहंत रविन्द्रपुरी, श्रीमहंत रामरतन गिरी, आनन्द पीठाधीश्वर आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी बालकानंद गिरी सहित अनेक संत शामिल हुए।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

comments

.
.
.
.
.