Sunday, Apr 18, 2021
-->
harsh vardhan said on corona vaccine dry run people should not pay attention to rumors pragnt

मोदी सरकार का बड़ा फैसलाः पूरे देश में फ्री मिलेगी कोरोना की वैक्सीन

  • Updated on 1/2/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश भर में कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर थमता हुआ नजर नहीं आ रहा है। इस बीच देश में आज से कोरोना वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) के लिए केंद्र सरकार के आदेश पर ड्राइ-रन (Dry-Run) किया जा रहा है। इसके तहत केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन (Dr Harsh Vardhan) ने खुद दिल्ली के गुरु तेग बहादुर अस्पताल में ड्राई रन का जायजा लिया।

सबको फ्री मिलेगी वैक्सीन
गुरु तेग बहादुर अस्पताल में ड्राई रन का जायजा ले रहे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन से वैक्सीन को लेकर सवाल किया गया कि कि कोरोना वैक्सीन जैसे दिल्ली में फ्री होगी क्या वैसे ही सभी राज्यों में भी फ्री होगी। इस सवाल स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना वैक्सीन दिल्ली में ही नहीं बल्कि पूरे देश में फ्री होगा।

इस दौरान डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि ये देश को टीकाकरण का अनुभव है और ये वैक्सीन जनता की सुरक्षा के लिए है, इसे लेकर कोई गलतफहमी न रखें। बता दें कि दिल्ली में आज तीन जगहों पर वैक्सीन का ड्राई रन हो रहा है।

दिल्ली: आज कोरोना वैक्सीनेशन के ड्राइ-रन में भाग लेंगे सत्येंद्र जैन, जानें तैयारी

कोरोना वैक्सीन ड्राई रन पर बोले स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन
वैक्सीन के इस्तेमाल को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने पत्रकारों से कहा, 'देश के लोगों को मेरी अपील है कि वो किसी भी अफवाह में न जाएं। भारत की सरकार देश के लोगों को कोरोना वायरस से सुरक्षित रखना चाहती है, वैक्सीन का विकास उसी प्रक्रिया का हिस्सा है।' इसके साथ ही उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि वे अफवाहों पर ध्यान न दें। वैक्सीन की सुरक्षा और प्रभावकारिता सुनिश्चित करना हमारी प्राथमिकता है। पोलियो प्रतिरक्षण के दौरान विभिन्न प्रकार की अफवाहें फैली हुई थीं, लेकिन लोगों ने टीका लगवा लिया और भारत अब पोलियो मुक्त हो गया है।'

इस महीने आ रही कोरोना वैक्सीन! राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में लगा डीप फ्रीजर

दिल्ली में 3 जगहों पर होगा कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन
बता दें कि आज होने वाले ड्राई रन के लिए दिल्ली के तीन अस्पतालों को चुना गया है जिसमें दिलशाद गार्डन स्थित जीटीबी अस्पताल, दरियागंज स्थित अर्बन प्रायमरी हेल्थ सेंटर और द्वारका के निजी अस्पताल वेंकटेश्वर हॉस्पिटल को चुना गया है। दिल्ली में कोविड वैक्सीनेशन प्रोग्राम में पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट और मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज के डिपार्टमेंट ऑफ कम्युनिटी मेडिसिन की डायरेक्टर प्रोफेसर डॉक्टर सुनीता गर्ग ने बताया कि तीनों जिले में 3 केंद्र चुने गए हैं।

क्या बच्चों को भी लगाई जाएगी कोरोना की वैक्सीन? जानिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट

3 जिलों में 100 से अधिक कोरोना वैक्सीनेसन प्राइमरी सेंटर
हर केंद्र पर एक वेटिंग हॉल, एक टीकाकरण रूम और एक ऑब्जरवेशन हॉल बनाया गया है। तीन मुख्य केंद्र होंगे उसके बाद प्राइमरी सेंटर तक जाएंगे। तीनों जिलों को मिलाकर 100 से अधिक कोरोना वैक्सीनेशन प्राइमरी सेंटर पर यह भी चेक किया जाएगा कि मुख्य सेंटर से प्राइमरी सेंटर तक वैक्सीन ले जाने में कितना वक्त लग रहा है।

जानिए कल कोरोना वैक्सीनेशन के लिए दिल्ली में कहां-कहां होगा ड्राइ-रन

क्या है ड्राइ-रन का उद्देश्य
ड्राई रन का मकसद है टीकाकरण प्रोसेस को टेस्ट करना। इस दौरान सब कुछ वैसे ही किया जाएगा जैसे टीकाकरण के दौरान होगा। सिर्फ वैक्सीन नहीं दी जाएगी। मॉक ड्रिल में टीकाकरण अभियान के लिए इस्तेमाल की जा रही टेक्नोलॉजी का टेस्ट किया जाएगा। केंद्र सरकार की गाइडलाइंस के अनुसार टीकाकरण 'को-विन' पोर्टल के माध्यम से होगा और 'को-विन' पोर्टल कैसे काम कर रहा है इसमें सभी डेटाबेस मौजूद है। इस पोर्टल में टीका लगने वाले और लगाने वाले सबकी डिटेल्स पहले से ही मौजूद है। 

इसके साथ ही लॉजिस्टिक चेक करना, सेशन प्लानिंग और वैक्सीनेटर डिप्लॉयमेंट, सेशन साइट पर वैक्सीनेशन करना और रिपोर्ट करना। सभी सेंटर पर 25 हेल्थ वर्कर्स है, जिन्हें टीका लगेगा। उनका पूरा विवरण को-विन पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा। यह भारत सरकार के एसओपी का पालन करते हुए इस पूरी प्रक्रिया को पूरा किया जाएगा। 

मोदी सरकार ने की कोरोना टीकाकरण पूर्वाभ्यास की तैयारियों की समीक्षा

भारत में कोरोना वैक्सीन के लिए आज से ड्राई रन- हर्षवर्धन
इससे पहले शुक्रवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने दिल्ली सरकार के साथ आज यानी 2 जनवरी को वैक्सीनेशन के लिए होने वाले ड्राइ-रन को लेकर एक समीक्षा बैठक की थी। इस बैठक में बताया गया था कि कोविड-19 वैक्सीन के लिए ड्राई-रन दिल्ली के जीटीबी अस्पताल और दिल्ली के एक निजी अस्पताल में होगा। 

इस दौरा3न केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने कहा कि स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की सूची बनाई गई है और COVID प्लेटफॉर्म पर अपलोड की जाएगी। जिस तरह हम चुनावों के दौरान तैयारी करते हैं, उसी तरह हमें सभी मेडिकल टीमों के प्रत्येक सदस्य को जिम्मेदारी से प्रशिक्षित करने की आवश्यकता है। 

700 से अधिक जिलों में चल रही ट्रेनिंग
डॉ हर्षवर्धन ने कहा था कि इस अभ्यास का लक्ष्य यह है कि न्यूनतम विवरणों पर गहन शोध किया जा सके। कम से कम 2 वैक्सीन कंपनियों ने ड्रग कंट्रोलर और विशेषज्ञों को अनुमोदन के लिए अपने आवेदन भेजे हैं, उनके डेटा का सक्रिय रूप से अध्ययन किया जा रहा है। राष्ट्रीय स्तर पर 2,000 से अधिक मास्टर ट्रेनरों के प्रशिक्षण के बाद, 700 से अधिक जिलों में राज्य और जिला स्तर पर प्रशिक्षण चल रहा है। प्रक्रिया चुनाव कराने के समान है जहां एक बूथ पर टीम को भी प्रशिक्षित किया जाता है।

कोरोना की चपेट में गोवा के पूर्व CM प्रतापसिंह राणे, स्वास्थ्य मंत्री ने ट्वीट कर दी जानकारी

फाइजर-बायोएनटेक द्वारा निर्मित टीका
वहीं डब्ल्यूएचओ ने गुरुवार को कहा कि कोविड-19 के टीके के आपात इस्तेमाल को मंजूरी दे दी। साथ ही कहा कि मंजूरी देने के उसके फैसले से देशों को अवसर मिलेगा कि वे टीके आयात करने तथा इन्हें लगाने संबंधी अपने नियामकों की मंजूरी प्रक्रिया को गति प्रदान कर सकें। उसने कहा कि फाइजर-बायोएनटेक द्वारा निर्मित टीका संगठन द्वारा तय किए गए सुरक्षा मानकों एवं अन्य मापदंडों पर खरा उतरा है। 

गौरतलब है कि इस टीके को अमेरिका, ब्रिटेन, यूरोपीय संघ समेत अनेक देश मंजूरी दे चुके हैं। इस टीके को बहुत ही कम तापमान पर रखना होता है जो विकासशील देशों के लिए एक बड़ी चुनौती है।

Delhi Corona Bulletin: कंट्रोल हो रहा कोरोना! 24 घंटे में 600 से कम केस, 21 की मौत

मंजूरी के लिए डीसीजीआई के समक्ष आवेदन
बता दें कि हाल ही में दवा निर्माता कंपनी फाइजर की भारतीय इकाई ने उसके द्वारा विकसित कोविड-19 टीके के आपातकालीन इस्तेमाल की औपचारिक मंजूरी के लिए भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) के समक्ष आवेदन किया है। फाइजर ने उसके कोविड-19 टीके को ब्रिटेन और बहरीन में ऐसी ही मंजूरी मिलने के बाद यह अनुरोध किया है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि दवा नियामक को दायर किए गए अपने आवेदन में कंपनी ने देश में टीके के आयात एवं वितरण के संबंध में मंजूरी दिये जाने का अनुरोध किया है। इसके अलावा, दवा एवं क्लीनिकल परीक्षण नियम, 2019 के विशेष प्रावधानों के तहत भारत की आबादी पर क्लीनिकल परीक्षण की छूट दिए जाने का भी अनुरोध किया है।

कोरोना वैक्सीन लगाने के लिए केंद्र के साथ तालमेल बिठाए दिल्ली सरकार: LG

भारत में कोरोना की स्थिति
देशभर में कोरोना वायरस का कहर लगातार जारी है। भारत में कोरोना से  लोग संक्रमित हो 1,03,05,707 चुके हैं। वहीं इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 1,49,243 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। हालांकि, राहत की बात ये है कि 99,04,724 इस वायरस को मात देकर ठीक हो चुके हैं। देश में कोरोना को मात देकर ठीक होने वालों की संख्या सक्रिय मामलों की संख्या से अधिक है। सक्रिय मामलों की कुल संख्या 2,48,879 है।

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.