Wednesday, Apr 14, 2021
-->
haryana 75 percent quota in private sector jobs bjp jjp got will issue notification rkdsnt

हरियाणा: प्राइवेट सेक्टर की जॉब्स में 75 फीसदी आरक्षण, सरकार जल्द जारी करेगी अधिसूचना

  • Updated on 3/2/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य ने निजी क्षेत्र में राज्य के लोगों के लिए 75 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान करने वाले विधेयक को मंजूरी दे दी है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने मंगलवार को यह जानकारी दी। हरियाणा विधानसभा ने पिछले साल यह विधेयक पारित किया था, जो सत्तारूढ़ गठबंधन साझेदार जननायक जनता पार्टी (जजपा) का एक मुख्य चुनावी वादा था। 

मनमोहन सिंह ने बढ़ती बेरोजगारी को लेकर मोदी सरकार की गिनाईं खामियां 

मुख्यमंत्री ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हरियाणा के राज्यपाल ने निजी क्षेत्र में नौकरी चाहने वाले राज्य के लोगों के लिए 75 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान करने वाले विधेयक को अपनी मंजूरी दे दी है। सरकार जल्द ही इसे अधिसूचित करेगी।’’ हरियाणा राज्य स्थानीय उम्मीदवार रोजगार विधेयक,2020 निजी क्षेत्र की उन नौकरियों में स्थानीय लोगों के लिए कोटा का प्रावधान करता है, जिनमें मासिक वेतन 50,000 रुपये से कम हो। 

कोविड-19 का टीका लगाने के बाद कमल हासन ने भ्रष्टाचार पर बोला हमला

विधेयक के मुताबिक यह कोटा शुरूआत में 10 साल तक लागू रहेगा।       विधेयक के दायरे में राज्य में निजी कंपनियां, सोसाइटी, ट्रस्ट, साझेदारी फर्म आते हैं। विधेयक योग्य लोगों के उपलब्ध नहीं होने की स्थिति में योग्य स्थानीय उम्मीदवारों के प्रशिक्षण का प्रावधान करता है।  

देश का निर्यात घटकर 27.67 अरब डॉलर पर, व्यापार घाटे में बढ़ोतरी

 

लोकसभा, राज्यसभा टीवी को मिलाकर बनाया संसद टीवी, रिटायर्ड IAS रवि कपूर बने सीईओ

इस कोटे के तहत नौकरी प्राप्त करने के लिए किसी व्यक्ति का जन्म स्थान हरियाणा होना चाहिए या वह कम से कम 15 साल राज्य में रहा हो। हरियाणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने राज्यपाल से मिली विधेयक को मंजूरी को हरियाणा के युवाओं के लिए सर्वाधिक खुशी का क्षण बताया है। जजपा नेता ने फरीदाबाद में कहा, ‘‘इस नये कानून पर नियमों को जल्द ही बनाया जाएगा और प्रकाशित किया जाएगा।’’ 

सुप्रीम कोर्ट ने दुष्कर्म के आरोपी नौकरशाह को गिरफ्तारी से दी राहत

 

 

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 


 

comments

.
.
.
.
.