Friday, Sep 25, 2020

Live Updates: Unlock 4- Day 25

Last Updated: Fri Sep 25 2020 08:59 AM

corona virus

Total Cases

5,816,103

Recovered

4,752,991

Deaths

92,371

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA1,282,963
  • ANDHRA PRADESH654,385
  • TAMIL NADU563,691
  • KARNATAKA548,557
  • UTTAR PRADESH374,277
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • NEW DELHI260,623
  • WEST BENGAL237,869
  • ODISHA196,888
  • BIHAR180,788
  • TELANGANA179,246
  • ASSAM165,582
  • KERALA154,458
  • GUJARAT128,949
  • RAJASTHAN122,720
  • HARYANA118,554
  • MADHYA PRADESH113,057
  • PUNJAB103,464
  • CHHATTISGARH93,351
  • JHARKHAND75,089
  • CHANDIGARH70,777
  • JAMMU & KASHMIR67,510
  • UTTARAKHAND43,720
  • GOA29,879
  • PUDUCHERRY24,227
  • TRIPURA23,786
  • HIMACHAL PRADESH13,049
  • MANIPUR9,376
  • NAGALAND5,671
  • MEGHALAYA4,961
  • LADAKH3,933
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS3,712
  • DADRA AND NAGAR HAVELI2,965
  • SIKKIM2,548
  • MIZORAM1,713
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
haryana cm manohar lal laments over apposition

हरियाणा में विपक्षी दलों का महागठबंधन मात्र ख्याली पुलाव: मनोहर लाल खट्टर

  • Updated on 8/21/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) रविवार को कालका से शुरू की गई प्रदेश व्यापी जन आशीर्वाद यात्रा को मिल रहे जनसमर्थन से इस कदर उत्साहित हैं कि वह अब यह दावा कर रहे हैं कि अगले चुनाव में प्रदेश की जनता ने भाजपा को आशीर्वाद देने का मन बना लिया है और भाजपा के पक्ष में एक तरफा माहौल नजर आने लगा है।
वह कहते हैं कि उन्होंने न केवल पुरानी परम्पराओं को बदलते हुए नए प्रयोगों के जरिए जनहित में नई नीतियां लागू की बल्कि व्यवस्था परिवर्तन का भी काम किया। अपने 5 वर्ष के कार्यकाल को सर्वाधिक सफल बताते हुए मुख्यमंत्री कहते हैं कि विपक्ष के पास सरकार के खिलाफ बोलने को कुछ नहीं है। उनकी राय में प्रदेश में विपक्षी दलों का महागठबंधन केवल ख्याली पुलाव ही है। वह जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने को केंद्र सरकार द्वारा राष्ट्रहित में लिया गया बड़ा फैसला बताते हैं। इसी तरह के विभिन्न मुद्दों पर मनोहर लाल खट्टर से जन आशीर्वाद रथ में पंजाब केसरी प्रतिनिधि संजय अरोड़ा की खुलकर चर्चा हुई। प्रस्तुत हैं इस साक्षात्कार के प्रमुख अंश।

सवाल : करीब 5 वर्ष में जनता ने 5 मेयर चुनाव, जींद उपचुनाव, 10 संसदीय सीटें दी। अब विधानसभा चुनाव के मद्देनजर जनता से कैसे आशीर्वाद की उम्मीद रखते हैं?
जवाब : हमने साफ नीयत व नीति से पिछले 5 वर्षों में काम किया और हमारा काम हर आम जन को पसंद आया। यही वजह है कि प्रदेश की जनता ने पिछले सभी चुनावों में भाजपा के प्रति आस्था व्यक्त की। विधानसभा चुनावों के मद्देनजर इस बार जनता आशीर्वाद के रूप में तीन चौथाई से भी अधिक बहुमत देने जा रही है। यह जनता के उत्साह से साफ नजर भी आ रहा है और हमें उम्मीद है कि हम इस बार 75 पार के आंकड़े को छू लेंगे। 

सवाल : पहले आपके विरोधी आपको राजनीति में अनाड़ी मानते थे और अब उन्ही में से कुछ आपको सियासत का मंझा खिलाड़ी मानने लगे हैं? आप क्या कहेंगे?
जवाब : देखिए,हम तो जैसे पहले थे वैसे ही हैं और हमारे काम करने का तरीका भी वही है मगर हमारे विरोधियों की सोच में जरूर बदलाव आया है। जो अनाड़ी मानते थे अब हमारे काम से हमें खिलाड़ी मानने लगे हैं तो हमारे लिए इससे बड़ी खुशी बात क्या हो सकती है।

सवाल : 5 वर्ष में सरकार की सबसे बड़ी क्या 5 उपलब्धियां मानते हैं?
जवाब : 2014 में भाजपा की प्रदेश में सरकार बनने से लेकर अब तक हमारा 5 वर्षांे का इतिहास उपलब्धियों भरा ही रहा है। उपलब्धियां इतनी हैं कि उन्हें गिनवाया नहीं जा सकता। वे उपलब्धियां तो अब चुनाव में जनता ही बताएगी। 

सवाल : आगामी चुनाव में भाजपा का मुख्य मुकाबला किस दल से मानते हैं?
जवाब : हमारा किसी भी राजनीतिक दल से कोई मुकाबला होगा,ऐसा मुझे नजर नहीं आता। इनैलो पूरी तरह से बिखर चुकी है और कांग्रेस बिखराव की राह पर है। 

सवाल : भाजपा के खिलाफ महागठबंधन की संभावनाएं कितनी सार्थक नजर आती हैं?
जवाब : प्रदेश में महागठबंधन की संभावनाएं ख्याली पुलाव पकाने जैसी है। इसलिए मुझे नहीं लगता कि कोई महागठबंधन अस्तित्व में आ पाएगा, क्योंकि इनमें से किसी भी दल में न तो त्याग की भावना है और न ही जनहित की सोच। इनका उद्देश्य स्वयं का हित सर्वोपरी वाला है और ये लोग केवल सत्ता हासिल करने के लिए ही लोगों को बहकाने का काम कर रहे हैं। 

सवाल : जिस तरह से अन्य दलों से नेताओं के भाजपा में आने का सिलसिला जारी है,उससे क्या टिकटों को लेकर परेशानी पेश नहीं आएगी?
जवाब : भाजपा के समक्ष ऐसी कोई दिक्कत नहीं आएगी क्योंकि पार्टी में शामिल होने वाले किसी भी नेता को टिकट की हामी नहीं भरी जा रही। पार्टी नेतृत्व जनभावनाओं के अनुरूप योग्य उम्मीदवारों को ही मैदान में उतारेगा। जहां तक अन्य दलों के नेताओं के शामिल होने की बात है तो यह इसलिए संभव हो रहा है क्योंकि भाजपा की नीतियां व 5 वर्षों में सरकार द्वारा किए गए कार्य आज सभी के दिलो-दिमाग पर छाए हुए हैं। 

सवाल : क्या भाजपा शिअद से चुनावी तालमेल कर सकती है?
जवाब : संसदीय चुनाव में शिअद ने प्रदेश में भाजपा को बिना शर्त समर्थन दिया था और शिरोमणि अकाली दल लंबे समय से एन.डी.ए. का घटक दल है। ऐसे में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा का किसी भी दल से चुनावी गठबंधन होगा या नहीं यह तय करना हाईकमान का विषय है। ऐसे फैसले राष्ट्रीय स्तर पर लिए जाते हैं इसलिए हम हमारे स्तर पर ऐसे किसी संभावित गठबंधन को लेकर न हां और न ही ना कहने की स्थिति में हैं। 

सवाल : जब सी.एम.बने तो विरोधियों ने कभी अनुभवहीनता तो कभी कानून व्यवस्था जैसे मुद्दों पर घेरने का प्रयास किया,उन सभी परिस्थितियों से निपटते हुए 5 साल दमदार शासन किया,यह कैसे संभव हुआ?
जवाब : जहां तक विरोधियों द्वारा अनुभवहीनता के आरोप लगाए जाने की बात है तो यह बात बिल्कुल सही है। हम भ्रष्टाचार व सरकारी तंत्र का दुरुपयोग करने में अनुभवहीन थे और हैं। जहां तक परिस्थितियों से निपटने की बात है तो यह सब इसलिए संभव हो पाया क्योंकि हमारी नीयत साफ थी और हम पूरी संजीदगी से जिम्मेदारी को निभा रहे हैं। दमदार शासन में जनता का भरपूर सहयोग मिलना भी बहुत बड़ा कारण रहा है। 

सवाल : नौकरियों,तबादलों जैसे मामलों में ठोस व पारदर्शी नीतियां बनाते हुए अपने लोगों के विरोध का सामना नहीं करना पड़ा?
जवाब : देखिए,इस तरह के कड़े फैसले तब लिए जाते हैं जब ईमानदार व पारदर्शी सोच हो और साथ ही जनहित का एजैंडा हो फिर कोई भी ठोस व कड़ा फैसला लेते समय कोई विरोध आड़े नहीं आता। हमारी नीयत साफ थी,साफ है और पुरानी व्यवस्थाओं को बदलने का दृढ़ संकल्प है। 

सवाल : विरोधी आरोप लगाते हैं कि भाजपा ने अपने चुनावी वायदे पूरे नहीं किए,इस पर आप क्या कहेंगे?
जवाब : विरोधियों के पास वास्तव में सरकार के खिलाफ कहने को कुछ नहीं है इसलिए वे सरकार के खिलाफ अनर्गल प्रचार कर रहे हैं मगर प्रदेश की जनता उनके इरादों से भली भांति वाकिफ हो चुकी है। सच्चाई यह है कि हम 95 प्रतिशत चुनावी वायदे पूरे कर चुके हैं,जिसकी जानकारी हमारे मंत्री अपने विभागों से संबंधित उपलब्धियों को जनता के सामने मीडिया के माध्यम से रख चुके हैं।

सवाल : आपकी नजर में आगामी चुनाव में जाट व गैरजाट का मुद्दा कितना प्रभावी रहेगा?
जवाब : हमसे पहले की सरकारों ने इसी मुद्दे को भुनाते हुए लोगों को गुमराह करके सत्ता हासिल की जबकि हमारी सोच समाज को जाति के नाम पर बांटना नहीं बल्कि जोड़ना है। सरकारी नौकरियों में पारदर्शता, बिना भेदभाव विकास और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाते हुए हमने ऐसी व्यवस्था कायम की जिसके चलते जात-पात व क्षेत्रवाद का मुद्दा पूरी तरह से गौण हो गया है और आज हम हरियाणा एक हरियाणवी एक नारे को सार्थक बना चुके हैं। अगले चुनाव में भी आपको जातिवाद व क्षेत्रवाद जैसे मुद्दे गौण ही मिलेंगे।

सवाल : पहली बार विधायक बने और सीधे सी.एम. की कुर्सी तक पहुंच गए तथा आज अपनी नीतियों से प्रधानमंत्री,पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष व हाईकमान से शाबासी पा रहे हैं,कैसा महसूस करते हैं?
जवाब : देखिए, हमारी सोच केवल सत्ता हासिल करने की नहीं रही बल्कि सत्ता के माध्यम से लोगों तक सत्तासुख पहुंचाने की रही है। जब कुछ नहीं थे तब भी आमजन के हित की सोच थी और आज मुख्यमंत्री हैं तो भी वही सोच है। मगर आज जनता का हित करने की शक्ति अवश्य है और यह शक्ति हमेशा रचनात्मक कामों में ही लगगी। हमारे 5 वर्षों में किए कार्य ही लोगों में सरकार की लोकप्रियता का कारण बने हैं। हमारी सरकार के कामों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व अन्य नेताओं की जब शाबासी मिलती है तो मनोबल बढ़ता है और जनहितैषी कार्यांे हेतु नई शक्ति का संचार होता है। 

सवाल : कई कड़े व बड़े फैसले लिए,कभी ऐसा महसूस नहीं हुआ कि कोई परेशानी पैदा हो सकती है?
जवाब : देखिए,मैं पहले भी कह चुका हूं कि जब इरादे नेक हों और काम करने का जज्बा हो तो फिर निज हित त्यागकर जनहित के फैसले करने में कभी कोई परेशानी नहीं आती चाहे वह कितना कड़ा व बड़ा क्यों न हो।

सवाल : विधानसभा चुनाव में मोदी फैक्टर प्रभावी रहेगा या सरकार अपनी नीतियों व उपलब्धियों के सहारे जनता के बीच जाएगी?
जवाब : निश्चित तौर पर विधानसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व में केंद्र सरकार द्वारा लागू की गई नीतियां व उपलब्धियां तो प्रचार का हिस्सा होंगी ही वहीं प्रदेश सरकार द्वारा 5 वर्ष में किए गए कार्य भी लोगों के बीच एजैंडे के रूप में लेकर जा रहे हैं और केंद्र व हरियाणा सरकार की उपलब्धियां अपना असर भी दिखा रही हैं। 

सवाल : 75 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है,लक्ष्य प्राप्ति को लेकर कितने आश्वस्त हैं?
जवाब : जिस तरह से प्रदेश की जनता ने मेयर चुनाव जींद उपचुनाव व संसदीय चुनाव में भाजपा में पूर्ण आस्था व्यक्त करते हुए हमें नई ताकत दी है और अब जन आशीर्वाद यात्रा को भारी जनसमर्थन मिल रहा है,उसे देखते हुए मैं पूर्ण रूप से आश्वस्त हूं कि विधानसभा चुनाव में भाजपा 75 से अधिक सीटें जीतने में कामयाब होगी।

सवाल : 65 वर्ष की उम्र में इतना फिट रहने के क्या राज हैं?
जवाब : मैं शुरू से ही आमजन के बीच रहना पसंद करता हूं और अब भी वही कर रहा हूं। जनता के बीच रहने व उनकी समस्याओं का समाधान करने से जहां खुद को एक्टिव महसूस करता हूं वहीं सादा भोजन व व्यायाम मेरे भीतर नई ऊर्जा का संचार करते हैं। यही कारण है कि मैं खुद को हमेशा तरो ताजा महसूस करता हूं। 

सवाल : 2019 में प्रदेश में फिर से भाजपा की सरकार बनने पर आपकी क्या प्राथमिकताएं रहेंगी?
जवाब : हरियाणा में इन 5 वर्षांे में जो कार्य किए जाने रह गए हैं वे तो प्राथमिकता पर होंगे ही साथ ही अब जन आशीर्वाद यात्रा दौरान आम जनता से उनकी समस्याओं व कार्यो को लेकर जो इनपुट हासिल होगा उस पर फोकस करते हुए हम अगली सरकार में अपनी प्राथमिकताएं तय करेंगे। मगर इतना निश्चित है कि प्रदेश की जनता स्वयं को पूरी तरह सुरक्षित महसूस कर रही है और समस्याओं से भी पूरी तरह से निजात मिलेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.