Friday, Jan 24, 2020
haryana government initiatives order to write about their activities

हरियाणा सरकार की पहल सरकारी अधिकारियों को अपनी गतिविधियों का रोजनामचा लिखने के आदेश

  • Updated on 12/5/2019

भारी वेतनों के बावजूद सरकारी अधिकारियों द्वारा अपनी ड्यूटी में लापरवाही बरतना गंभीर चिंता का विषय है। केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा समय-समय पर अपने कर्मचारियों और अधिकारियों को ड्यूटी में लापरवाही न बरतने के निर्देशों के बावजूद उनके ड्यूटी पर समय पर न पहुंचने और काम में लापरवाही बरतने का सिलसिला लगातार जारी है। 

इसी को देखते हुए हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार ने अपने आई.ए.एस. तथा आई.पी.एस. अधिकारियों, विशेष रूप से डिप्टी कमिश्नरों और पुलिस अधीक्षकों को, अपनी दैनिक गतिविधियों का रिकार्ड लिखने का आदेश दिया है। सरकारी सूत्रों के अनुसार अधिकारियों को यह रिकार्ड प्रतिदिन ‘अपडेट’ करने का निर्देश देते हुए कहा गया है कि इसका मुख्यमंत्री या उपमुख्यमंत्री किसी भी समय निरीक्षण कर सकते हैं। 

सूत्रों के अनुसार यह निर्णय गत सप्ताह भाजपा के दो दिवसीय ‘मंथन कार्यक्रम’ के दौरान मुख्यमंत्री के कार्यालय द्वारा लिया गया है। खट्टर सरकार द्वारा यह अलिखित आदेश पहली बार जारी किया गया है जिसके बारे में हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कहा है कि उन्होंने इस बारे पुलिस अधीक्षकों और अन्यों को निर्देश जारी कर दिए हैं। श्री अनिल विज के अनुसार, ‘‘हमें दूसरों के बारे में या अतीत में जो कुछ हुआ उसकी जानकारी नहीं है लेकिन हमारे लिए इसका मतलब है शिकायतों की पड़ताल और फाइलों की ट्रैकिंग प्रणाली कायम करना, हमारे इस निर्णय का उद्देश्य पारदर्शिता लाना है।’’

जिला अधिकारियों को अपने कार्यकलापों का रोजनामचा तैयार रखने का आदेश सरकारी अधिकारियों के कार्यकलाप में सुधार लाने में अत्यंत लाभदायक सिद्ध हो सकता है क्योंकि इससे उनमें जागरूकता और अपने कत्र्तव्य के प्रति जिम्मेदारी का एहसास एवं भय पैदा होगा। लिहाजा इस आशय के आदेश यदि किसी एक क्षेत्र तक सीमित न रख कर पूरे देश में लागू किए जाएं और ईमानदारी से लागू हो जाएं तो ये सरकारी विभागों के कार्यकलापों में सुधार लाने में सहायक सिद्ध होंगे। -विजय कुमार 

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख (ब्लाग) में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इसमें सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इसमें दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार पंजाब केसरी समूह के नहीं हैं, तथा पंजाब केसरी समूह उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.