Saturday, Nov 17, 2018

हाई कोर्ट के दखल के बाद हरियाणा रोडवेज कर्मियों ने वापस ली हड़ताल

  • Updated on 11/2/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। हरियाणा रोडवेज कर्मियों ने पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट को भरोसा दिया कि शनिवार सुबह 10 बजे वे हड़ताल खत्म कर देंगे। वरिष्ठ अधिवक्ता अनुपम गुप्ता ने बताया कि मुख्य न्यायाधीश कृष्ण मुरारी और जस्टिस अरुण पाटिल की खंडपीठ ने शुक्रवार को राज्य सरकार को सभी निलंबित और बरखास्त कर्मचारियों को तत्काल वापस लेने का आदेश दिया। 

केजरीवाल का आरोप- BJP के कहने पर लाखों वोटरों के नाम हटाए गए

गुप्ता को इस मामले में अदालत की सहायता के लिए न्याय मित्र नियुक्त किया गया है। हरि नारायण शर्मा सहित यूनियन के 4 नेताओं ने हड़ताल खत्म करने का आश्वासन दिया है। मामले पर अगली सुनवाई के लिए 14 नवम्बर की तारीख मुकर्रर करते हुए पीठ ने हरियाणा सरकार से हड़ताल कर रहे कर्मचारियों के खिलाफ कोई कारवाई नहीं करने का आदेश दिया। 

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए निर्वाचन आयोग को EVMs की आपूर्ति हुई पूरी

हरियाणा के महाधिवक्ता बी आर महाजन ने अदालत को आश्वासन दिया कि सरकार प्रदर्शनकारियों के साथ मामले को सौहार्दपूर्ण तरीके से निपटाएगी। इससे पहले पीठ ने यूनियन नेताओं के साथ विस्तृत चर्चा की। वकील अरविंद सेठी की ओर से गुरुवार को दायर जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए पीठ ने यह बात कही।     यूनियन के नेता शर्मा ने बताया कि शनिवार सुबह 10 बजे से रोडवेज बसें एक बार फिर सड़कों पर लौट आएंगी।

निर्धारित आयु से ज्यादा वाहनों का पंजीकरण किया खत्म : दिल्ली सरकार

रोडवेज कर्मचारी राज्य सरकार के निजी मालिकों की 700 बसें चलाने के निर्णय के खिलाफ 16 अक्टूबर से हड़ताल पर हैं। हरियाणा रोडवेज में करीब 19,000 कर्मचारी हैं। हरियाणा रोडवेज कर्मचारियों की समन्वय समिति ने गुरुवार को जींद में चार नवम्बर को ‘रोडवेज बचाओ, नौकरी बचाओ’ रैली के आयोजन का फैसला किया था। रोडवेज की 4100 बसें हैं, जिनमें रोजाना करीब 12 लाख लोग यात्रा करते हैं।

अस्थाना के खिलाफ सुनवाई में यथास्थिति बनाए रखने की अवधि बढ़ाई

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.