Saturday, Jul 20, 2019

हरियाणा की #BJP सरकार से खफा शीर्ष पहलवान बजरंग पूनिया

  • Updated on 6/26/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। शीर्ष पहलवान बजरंग पूनिया, विनेश फोगाट और योगेश्वर दत्त ने बुधवार को पुरस्कार राशि में कटौती करने के लिये हरियाणा सरकार की आलोचना की जबकि इस आरोप का राज्य खेल मंत्री ने खारिज किया। हरियाणा सरकार की पुरस्कार समारोह नहीं कराने के लिये वैसे ही आलोचना हो रही जिसका आयोजन सोमवार को पंचकुला में किया जाना था जिसमें राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतने के लिये 3000 खिलाड़ियों को 90 करोड़ रूपये के नकद पुरस्कार वितरित किये जाते।  

राम रहीम की पैरोल पर फैसले को लेकर CM खट्टर ने दी सफाई

इसके बजाय राज्य सरकार ने नकद पुरस्कार सीधे खिलाड़ियों के खाते में ट्रांसफर करने का फैसला किया। कुछ खिलाड़ियों ने दावा किया कि उनकी पुरस्कार राशि में कटौती की गयी है। राज्य खेल मंत्री अनिल विज ने हालांकि कहा कि इनामी राशि में कोई कटौती नहीं की गयी। एशियाई चैम्पियन पूनिया ने ट्वीट किया, ''जब खिलाड़ियों को आप पुरस्कार का वादा करते हैं तब उन खिलाड़ियों को आप पैसे का लालच नहीं बल्कि खिलाडिय़ों का साथ देने का वादा करते हैं। अगर आप अपने वादे को पूरा नहीं कर सकते तो फिर भविष्य मे कोई भी खिलाड़ी आपसे किस बात की उम्मीद रखें!'

वित्तीय संकट से जूझ रही BSNL को दूरसंचार विभाग ने दिए खास निर्देश

उन्होंने लिखा, ''हरियाणा के युवाओं ने देश को कई बेहतरीन पदक दिये हैं। भले ही एक छोटा सा राज्य है हरियाणा, पर यहां के खिलाडिय़ों ने पूरे देश को कई बार गौरवान्वित किया है। उनको मिलने वाली राशि में कटौती करके उनके मनोबल को न तोड़ा जाए। मेरी हरियाणा सरकार से विनती है कि इस निर्णय पर दोबारा विचार करें।' वर्ष 2018 एशियाई खेलों की स्वर्ण पदक विजेता विनेश ने ट्वीट किया, '' मेरी हरियाणा सरकार से गुजारिश है कि आप अपनी दी हुई धन राशि को वापस ले लें। इस तरह खिलाड़ियों को आप अपने राजनीतिक अखाड़े पर खड़ा करके उन्हें अपमानित न करें।'

BJP नेता विजेंद्र गुप्ता की पत्नी से दिल्ली में हुई लूटपाट, AAP ने जताई खुशी 


उन्होंने कहा, ''एक तरफ़ तो हमारे देश के प्रधानमंत्री जी कहते हैं खेल आगे बढ़ेगा तभी देश आगे बढ़ेगा और एक हमारी हरियाणा की सरकार है जो खेलों में राजनीति करके उनको पूरी तरह $खत्म करने की कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रही है। क्या ऐसे ही देश आगे बढ़ेगा?? ' वर्ष 2012 ओलंपिक कांस्य पदक विजेता योगेश्वर ने ट्वीट किया, ''खिलाड़ियों की पुरस्कार राशि में कटौती करना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। पुरस्कार राशि में कटौती करने का कारण खिलाड़ियों को बताओ। खिलाड़ी हरियाणा व देश का मान बढ़ाते हैं। उनका मनोबल बढ़ाओ जिसे वो आने वाले ओलम्पिक देश के लिए ज्यादा से ज्यादा पदक जीत सकें।'

गुलशन ग्रोवर की लाइफ पर लिखी गई बुक 'बैड मैन', जल्द होगी रिलीज

पुरस्कार राशि में कटौती के आरोपों पर विज ने कहा, ''हरियाणा अपने खिलाडिय़ों को सबसे ज्यादा पुरस्कार राशि देती है। इसमें कोई कटौती नहीं की गयी। हमने खिलाडिय़ों को जो सम्मान पत्र दिया है, उसमें जिक्र किया है कि अगर कोई भेदभाव होता है तो वे हमारे विभाग से इसे स्पष्ट कर सकते हैं।'

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.