Thursday, Apr 02, 2020
hdfc deepak parekh attacks banks modi govt rbi for not taking care of small savings holders

छोटे बचत खाताधारकों की अनदेखी से नाराज HDFC के चेयरमैन दीपक पारेख

  • Updated on 10/11/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। एचडीएफसी के अध्यक्ष दीपक पारेख ने बड़े डिफॉल्टर्स को बचाने और छोटे बचत खाताधारकों का ध्यान ना रखने के लिए बैंकों पर भड़ास निकाली है। पारेख का कहना है कि यह बेहद गलत है कि बड़े डिफॉल्टर्स का लोन माफ करने में बैंक तो आगे आ रहे हैं, लेकिन छोटे खाताधारकों की बचत को बचाने में सक्रिय नहीं हैं। 

उन्नाव रेप पीड़िता सड़क हादसा: CBI के आरोपपत्र में सेंगर के खिलाफ हत्या का आरोप नहीं

पीएमसी बैंक घोटाले के मुद्देनजर छोटे खाताधारक अपनी बचत को लेकर पीएम मोदी से गुहार लगा रहे हैं। लेकिन आरबीआई ने खाताधारकों को निश्चित सीमा से ज्यादा रकम नहीं निकालने का निर्देश दे रखा है। इससे दीपक पारेख आहत हैं। उन्होंने कहा, 'मेरा मानना है कि यह बड़ा क्राइम वित्तीय क्षेत्र में हो सकता। जब छोटे लोगों की जमा बचत राशि का इस तरह से गलत तरीके से लाभ बड़े लोगों को बैंक देते हैं तो फिर लोन डिफॉल्ट होने के बाद सरकार और सिस्टम इस तरह के घोटाले के बाद कर्ज को माफ करना गलत है।' 

औद्योगिक उत्पादन का 7 साल का सबसे खराब प्रदर्शन, दिखी मंदी की झलक

पारेख ने आगे यह भी कहा कि किसी भी वित्तीय प्रणाली के लिए भरोसा रीढ़ की हड्डी के समान है। इसके लिए किसी भी तरह से गलत नीतियों को बढ़ावा नहीं मिलना चाहिए। लेकिन यह आजकल जगजाहिर हो रहा है। देश के बड़े बैंकर पारेख ने कहा है कि देश में बड़ी कंपनियों को दिए गए भारी-भरकम कर्ज बट्टे खाते में डाले जा रहे हैं, बड़े पैमाने पर कर्जमाफी भी की जा रही है, लेकिन बैंकों में जमा आम लोगों के बचत के पैसों की हिफाजत का कोई ठोस फाइनेंशियल सिस्टम नहीं है। 

संदीप दीक्षित के खत का मामला कांग्रेस अनुशासनात्मक समिति को भेजा

पारेख का बयान इसलिए अहम है क्योंकि एक दिन पहले ही RTI से खुलासा हुआ है कि देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने 220 बड़े कर्जदारों को दिए गए 76 हजार करोड़ रुपये के लोन बट्टे खाते में डाल दिए गए हैं। देश के सभी शिड्यूल्ड कॉमर्शियल बैंकों को मिलाकर देखें तो वो 980 बड़े कर्जदारों के लगभग 2 लाख 75 हजार  करोड़ रुपये के कर्ज को बट्टे खाते में डाल चुके हैं यानी बैंकों ने मान लिया है कि अब इन लोन की वसूली नहीं हो सकती।

दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष गोयल मकान में जबरन घुसने के मामले में दोषी करार

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.