Thursday, Oct 28, 2021
-->
heavy destruction due to bursting of glacier in chamoli president pm expressed grief albsnt

चमोली में ग्लेशियर फटने से भारी तबाही पर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने जताया दुख ​​​​​​​

  • Updated on 2/7/2021

देहरादून/ब्यूरो। उत्तराखंड के चमोली जनपद में उच्च हिमालयी क्षेत्र (नंदा देवी) में ग्लेशियर फटने से ऋषिगंगा नदी में अचानक जबरदस्त सैलाब आ गया। इस घटना में दो पॉवर प्रोजेक्ट पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गये और वहां काम करने वाले लगभग 125 अधिक मजदूर लापता हैं। वे सैलाब में बह गये या मलबे में फंसे हुए हैं। यह अभी पुष्ट नहीं हुआ है। सेना, अर्द्धसैनिक बल और उत्तराखंड आपदा प्रबंधन विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर बचाव अभियान शुरू कर दिया है। देर शाम तक सात शव बरामद हुए थे।

उत्तराखंडः सीएम ने मरने वाले के परिवार को 4-4 लाख देने की घोषणा की, कहा-सबकुछ कंट्रोल में

राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री समेत केन्द्रीय कैबिनेट के कई मंत्रियों और कई राज्यों के सी.एम. ने इस घटना पर दुख जताया है। इस घटना के बाद हरिद्वार तक गंगा किनारे बसे सभी शहरों और गांवों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने घटनास्थल का दौरा किया और राहत एवं बचाव कार्य का निरीक्षण किया।

चमोली में ग्लेशियर के फटने से ऋषि गंगा पावर प्रोजेक्ट को लगा गहरा धक्का,दिखा तबाही का मंजर

घटना रविवार की सुबह करीब साढ़े नौ बजे की है। सी.एम. त्रिवेन्द्र ने बताया कि चमोली जिले में रेनी गांव से ऊपर उच्च हिमालय क्षेत्र में ग्लेशियर टूटने के कारण ऋषिगंगा नदी में अचानक जबरदस्त बाढ़ आ गई। घटना के समय इसी गांव के पास स्थित 13 मेगावाट के ऋषि गंगा पावर प्रोजेक्ट में 36 मजदूर काम कर रहे थे। यहां चार पुलिसवालों की ड्यूटी भी लगी थी। पानी के तेज बहाव में सभी बह गये। दो पुलिसवालों ने भागकर अपनी जान बचायी। पांच किलोमीटर नीचे धौलीगंगा के समीप एन.टी.पी.सी. का पावर प्रोजेक्ट बन रहा है। यहां लगभग 175 मजदूर काम कर रहे थे।

उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने के बाद यूपी में हाई अलर्ट, सीएम योगी ने बढ़ाई प्रशासनिक सक्रियता

ग्लेशियर फटने के कारण ऋषिगंगा नदी में पैदा हुआ सैलाब तबाही मचाता हुआ यहां तक आ पहुंचा। 35 से 40 के करीब मजदूर काम छोड़कर सुरक्षित स्थान पर पहुंच गये। शेष सैलाब की चपेट में आ गये। इस जगह पर दो टनल निर्माणाधीन है। एक टनल में 15 और दूसरे में 35 मजदूर काम कर रहे थे। सभी सैलाब की चपेट में आ गये। चमोली  जिला प्रशासन की सूचना पर आई.टी.बी.पी., एन.डी.आर.एफ., भारतीय वायु सेना, सेना और एस.डी.आर.एफ. की टीम मौके पर पहुंच चुकी है। टनल में जमा मलबे को खोद-खोद कर बाहर निकाला जा रहा है। सी.एम. ने बताया कि घटना में अभी जान या माल के नुकसान का पूरा आंकलन करना कठिन है। 125 लोगों के गायब होने और सात शव बरामद होने की बात उन्होंने कही। 


 

comments

.
.
.
.
.