Thursday, Aug 16, 2018

भारत में मिलने वाली ये 'पौष्टिक चीजें' विदेश में हो चुकी हैं बैन

  • Updated on 8/10/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। हमारे देश में मिलावट हर चीज में मिलती है। यहां सरकारी स्कूल में मिलने वाले मीड-डे मिल से लेकर मेडिकल स्टोर पर मिलने वाली दवाइयों तक में मिलावट होती है। यहां तो कई दुकानदार एक्सपायरी डेट का सामान भी बड़ी आसानी से अपने ग्राहकों को बेच देते हैं, लेकिन विदेश में ऐसा नहीं है। वहां के लोग इन सभी मामलों को लेकर जागरुक है। हमारे देश में भी कुछ लोग है जिन्हें इस बारे में जानकारी है, लेकिन वह आज भी उन चीजों को बड़ी शोक से खाते हैं जिन्हें विदेश में बैन किया जा चुका है। यह है कुछ सामान जिन्हें इंडिया में तो बड़े शोक से खाया जाता है लेकिन विदेशी इन्हें नाकार चुके हैं। 

Video: देखिए इस टीचर का गजब कारनामा, 29 सेकंड में बच्चों को यूं रटाए 29 राज्यों के नाम

1. पाश्चराइज्ड दूध

भारत में आपको पाश्चराइज्ड दूध के शोकीन हर तरफ मिल  ही जाएंगे। उनके हिसाब से इस दूध को पीने से तंदरूस्ती बनी रहती है, लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कनाड़ा और अमेरिका में इस दूध को बैन किया गया है क्योंकि इसमें पाए जाने वाले बैक्टीरिया बहुत खतरनाक होते हैं।

Navodayatimes

2. च्यवनप्राश

सर्दियों में भारत के हर घर च्यवनप्राश खाया जाता है। हर घर में एक डब्बा च्यवनप्राश तो आपको मिल ही जाएगा। लोगों का मानना है कि इसे खाने से  सेहत बनी रहती है और साथ ही शरीर में फुर्ती भी, लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि हर रोज बच्चों को दिए जाने वाले इस टॉनिक में भारी मात्रा में लेड और मरकरी पाया जाता है इसलिए 2005 में कनाड़ा में इसे बैन कर दिया गया था। 

3. सर्दी-जुकाम की दवाएं

झट से जुकाम, सर्दी, बुखार और बदन दर्द को दूर करने वाली दवाएं भी विदेश में बैन हैं। इनमें डिसप्रिन, डी-कोल्ड, विक्स एक्शन 500, Analgin और Syspride जैसी दवाएं शामिल हैं। एक्सपर्ट की मानें तो यह दवाएं तबीयत बिगाड़ती हैं। कोल्ड और फ्लू ठीक करने वाली यह दवाएं आपको किडनी से रिलेटेड बीमारियां दे सकती हैं।

Navodayatimes

4. रेड बुल
ऐनर्जी ड्रिंक बनाने वाली कंपनी रेड बुल का दावा है कि- 'रेड बुल-गिव्ज यू विंग्स', जिसका मतलब  है कि इस ड्रिंक को पीने के बाद शरीर में काफी तेजी से ऊर्जा का संचालन होता है। ऐनर्जी ड्रिंक के नाम पर बीयर कैन जैसी दिखने वाली रेड बुल को फ्रांस और डेनमार्क में बैन किया जा चुका है। रिपोर्ट्स के मुताबिक , इसका ज्यादा सेवन करने वालों को डिप्रेशन के साथ साथ लीवर और दिल की गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.