Friday, May 14, 2021
-->
here is why you will still have to worry after covid 19 vaccination sosnnt

तो क्या अब कोरोना से डरने की जरूरत नहीं! यहां जानें क्या कहते हैं डॉक्टर

  • Updated on 1/19/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( narendra modi) ने 16 जनवरी से महामारी कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान शुरु कर दिया है जिसे लेकर लोगों के बीच खुशी की लहर दौड़ उठी है। एक साल के अंदर किसी वैक्सीन को बनाना चमत्कार से कम नहीं है। हाल ही में स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी है कि देश में कोरोना की वजह से मरने वालों की संख्या पहले के मुकाबले काफी कम हुई है और इस खतरनाक वायरस से ठीक होने वालों की संख्या अब तेजी से बढ़ रही है।

इसी बीच कई ऐसे लोग हैं जो अब कोरोना को आम बीमारी की तरह ले रहे हैं और नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। लेकिन सवाल यह है कि क्या अभी भी हमें कोरोना के नियमों का पालन करना चाहिए? क्या अब भी कोरोना से डरने की जरूरत है? तो चलिए आज हम आपके इन जरूरी सवालों का जवाब देंगे। बता दें कि ये सारे जवाब विशेषज्ञ ने दिए हैं। 

क्या अब कोरोना से डरने की जरूरत है?

डॉ. रमन आर. गंगाखेडकर कहते हैं कि यह बीमारी कब वापस लौट आए इसके बारे में कुछ कह नहीं सकते। ऐसे में हमें अगले 2- 3 सालों तक कोविड-19 से बचने की जरूरत है। भले ही अब कोरोना की वैक्सीन आ गई है लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि अब हमें इस खतरनाक वायरस से डरने की जरूरत नहीं है। कोरोना को कमजोर समझने की भूल ना करें, यह अभी भी बहुत ताकतवर है। आप चाहें वैक्सीन लगाएं या ना लगाएं, लेकिन आपको अगले कुछ सालों तक न्यू नॉर्मल में ही जीना होगा। 

 कब तक इस न्यू नॉर्मल में रहना होगा?

डॉ. रमन की माने तो अभी कोरोना की सिर्फ वैक्सीन आई है, इस खतरनाक वायरस का खात्मा नहीं हुआ है। जब तक पूरी दुनिया को टीकाकरण नहीं लग जाता, तब तक कोई ढिलाई नहीं होनी चाहिए। डॉक्टर ने यह भी कहा कि अगर कोई देश इस वायरस को फैलने से रोकने में नाकाम साबित होता है तब हमें ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है। क्योंकि उस वायरस को हमारे देश में भी फैल सकता है। इसलिए कोरोना के सभी नियमों का पालन अभी भी करना अनिवार्य है। 

क्या कोरोना की अगली लहर आ सकती है? 

डॉक्टर ने कहा कि सबसे ज्यादा डर हमें इसी बात का है कि कहीं भारत में कोविड की अगली लहर ना आ जाए। अगर ऐसा होता है तो यह किसी डरावने सपने से कम नहीं होगा। देखा जाए तो हमारे देश में अगली लहर का खतरा बना हुआ है क्योंकि अब यहां के लोग कोरोना नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। कई लोगों ने मास्क लगाना छोड़ दिया है तो कई ऐसे भी है जो सोशल  डिस्टेंसिंग का मतलब ही भूल चुके हैं। ध्यान रहे कि कोरोना की पहली लहर अभी खत्म नहीं हुई है, सिर्फ इसकी संख्या कम हुई है। वहीं जिन देशों में दूसरी लहर आई है, वहां की हालात बद से बदतर हो चुकी है।

क्या वैक्सीन से हर्ड इम्यूनिटी विकसित हो जाएगी? 

डॉ. रमन आर. गंगाखेडकर ने बताया कि वैक्सीन लेने के बाद लोगों की इम्यून सिस्टम काफी स्ट्रांग हो सकती है। डॉक्टर ने आगे कहा सिंतबर में जारी सीरो इंस्टीट्यूट के सर्वे के अनुसार सात फीसदी लोग कोरोना से संक्रमित होकर ठीक भी हो चुके हैं। लेकिन अगर हम एंटीबॉडी की बात करें तो सिर्फ 20 फीसदी लोग ही ऐसे होंगे, जिनमें कोविड के खिलाफ एंटीबॉडी डेव्लप हुआ होगा। जबकि हर्ड इम्यूनिटी के लिए कम से कम 70 फीसदी लोगों के शरीर में एंटीबॉडी होना जरूरी है। तो ऐसे में वैक्सीन हर्ड इम्यूनिटी में फायदेमंद रहेगी। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.