Sunday, Apr 21, 2019

यहां मिलता है FD से भी ज्यादा ब्याज दर, केवल 1500 रुपये में खुलवा सकते हैं खाता

  • Updated on 4/16/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारतीय बैंकों की ब्याज दर दिन-प्रतिदिन कम होती जा रही है। ऐसे में आज हम आपको बताएंगे ऐसे अकाउंट के बारे में जिसमें खाता खुलवाने से आपको फिक्स डिपॉजिट (Fixed Diposite) से भी ज्यादा ब्याज मिलेगा। भारतीय डाकघर यानी इंडियन पोस्ट ऑफिस (Indian Post Office) कई तरह के सेविंग अकाउंट खोलने की सुविधा देता है। जिसमें आप अपना अकाउंट खुलवा सकते हैं।

बता दें कि पोस्ट ऑफिस की मंथली इनकम स्कीम अकाउंट (POMIS) न सिर्फ मंथली इनकम की गारंटी देता है, बल्कि इसमें बैंक के फिक्स्ड डिपॉजिट से ज्यादा ब्याज भी मिलता है। इसमें खास बात ये है कि इस अकाउंट को आप कम से कम 1500 रुपए पर भी खुलवा सकते हैं।

लगातार दूसरे दिन शेयर बाजार में आई तेजी, सेंसेक्स में 173 अंकों का उछला

पोस्ट ऑफिस की मंथली इन्वेस्टमेंट (Monthly Investment) स्कीम का लाभ हर कोई उठा सकता है। हर उम्र का व्यक्ति पोस्ट ऑफिस में अकाउंट खलुवा सकता है। बालिग, नाबालिग हर कोई स्कीम का फायदा उठा सकता है। बता दें कि आप अपने बच्चे के नाम से भी अकाउंट खोल सकते हैं। अगर बच्चा 10  साल से कम उम्र का है, तो उसके माता-पिता उसके नाम पर अकाउंट खुलवा सकते हैं। बच्चे की उम्र 10  साल होने पर वह खुद भी अकाउंट चलाने का अधिकार पा सकता है।

दो करोड़ से अधिक कारोबार वाली कंपनियां भर सकती हैं जीएसटी ऑडिट रिपोर्ट

5,441 रुपये मिलेंगे हर महीने

मंथली इन्वेस्टमेंट (Monthly Investment) स्कीम के तहत 7.3 फीसदी सालाना ब्याज मिलता है। अगर आपने 9 लाख रुपए अकाउंट में जमा किए हैं तो आपका सालाना ब्याज करीब 65,300 रुपये होगा। इस लिहाज से आपको हर महीने करीब 5,441 रुपये की आय होगी। वहीं आपका 9 लाख रुपए मेच्योरिटी पीरियड (Maturity Period) के बाद कुछ और बोनस जोड़कर वापस मिल जाएगा।

ग्राहक से कैरी बैग के वसूले थे 3 रुपये, चुकाने पड़े 9,000

अगर आप मंथली पैसा नहीं निकालते हैं तो वह आपके पोस्ट ऑफिस सेविंग अकाउंट (Saving Account) में रहेगी और मूलधन के साथ इस धन को भी जोड़कर आपको आगे ब्याज मिलेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.