Wednesday, Aug 04, 2021
-->
high-court-allows-varavara-rao-to-deposit-cash-bond-for-release-rkdsnt

हाई कोर्ट ने दी वरवर राव को रिहाई के लिए नकदी मुचलका भरने की इजाजत 

  • Updated on 3/1/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। बंबई उच्च न्यायालय ने कवि-कार्यकर्ता वरवर राव को जमानत पर रिहा होने के लिए मुचलका पत्र भरने तक सोमवार को अस्थायी रूप से नकदी मुचलका भरने की अनुमति दे दी। वह एल्गार परिषद्- माओवादियों के बीच संबंधों के मामले में आरोपी हैं। राव (82) को पिछले महीने उच्च न्यायालय ने चिकित्सीय आधार पर छह महीने के लिए अंतरिम जमानत दी थी और उनसे 50 हजार रुपये का व्यक्तिगत मुचलका भरने और इतनी ही राशि के दो जमानती पेश करने का आदेश दिया था। 

पामेला ड्रग्स केस : भाजपा नेता राकेश सिंह का एक सहयोगी गिरफ्तार

बाद में कार्यकर्ता ने उच्च न्यायालय में एक आवेदन दायर कर तुरंत रिहाई के लिए नकदी मुचलका भरने की अनुमति मांगी क्योंकि मुचलका पत्र भरने में ज्यादा समय लग सकता था। बीमार होने की वजह से वह पिछले वर्ष नवंबर से नानावती अस्पताल में भर्ती हैं। जस्टिस एस. एस. शिंदे और जस्टिस मनीष पिटाले की खंडपीठ ने सोमवार को राव को 50 हजार रुपये का नकदी मुचलका देने की अनुमति प्रदान करने के साथ ही पांच अप्रैल तक इतनी ही राशि की दो जमानतें पेश करने का समय दिया। मामले की जांच राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) कर रही है। 

SBI जनरल इंश्योरेंस के साधारण बीमा उत्पाद को बेचेगी इंडियन ओवरसीज बैंक

राव ने 24 फरवरी को यहां एनआईए की अदालत में आवेदन दायर कर जमानत आदेश में संशोधन करने की मांग की और नकदी मुचलका भरने की अनुमति देने का आग्रह किया। राव के वकील आनंद ग्रोवर ने कहा कि मुचलका पत्र हासिल करने में समय लगेगा। जमानत की औपचारिकताएं पूरी होने के बाद राव को अस्पताल से छुट्टी मिलेगी। उच्च न्यायालय ने उन्हें जमानत देते हुए रिहाई के लिए कई शर्तें लागू कर दीं जिसमें उन्हें मुंबई में एनआईए अदालत के अधिकार क्षेत्र के तहत ही रहने की शर्त भी शामिल है। 

अमरिंदर सिंह के मुख्य सलाहकार बने चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर

 

ममता ने पूछा- क्या चुनाव तारीखें मोदी, शाह के सुझावों के मुताबिक घोषित की गईं?

राव को छह महीने बाद या तो निचली अदालत के समक्ष आत्मसमर्पण करना होगा या जमानत की अवधि बढ़ाने के लिए उच्च न्यायालय में जाना होगा। पुलिस ने दावा किया कि मामला 31 दिसंबर 2017 को पुणे में ‘एल्गार परिषद्’ के सम्मेलन में कथित तौर पर दिए गए भड़काऊ भाषण से जुड़ा हुआ है। पुलिस ने कहा कि इसके अगले दिन कोरेगांव-भीमा युद्धस्मारक के पास हिंसा भड़क उठी थी। पुलिस ने दावा किया है कि सम्मेलन का आयोजन कथित तौर पर माओवादियों से जुड़े लोगों ने किया था।     

आत्मनिर्भरता की आड़ में किसानों को कंपनी-निर्भर बनाना चाहती है मोदी सरकार : कांग्रेस

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

comments

.
.
.
.
.