Friday, Jan 28, 2022
-->
high-court-asked-why-mumbai-police-press-conference-on-trp-scam-rkdsnt

हाई कोर्ट ने पूछा- TRP घोटाले को लेकर मुंबई पुलिस ने संवाददाता सम्मेलन क्यों किया था?

  • Updated on 3/16/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। बंबई उच्च न्यायालय ने मंगलवार को यह जानना चाहा कि मुंबई पुलिस को कथित ‘टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट्स’ (टीआरपी) घोटाले को लेकर पिछले साल संवाददाता सम्मेलन करने के लिए किस चीज ने प्रेरित किया था। जस्टिस एस एस शिंदे और जस्टिस मनीष पिटाले की पीठ ने सवाल किया, ‘‘क्या प्रेस से संवाद करना पुलिस का दायित्व है? (पुलिस) आयुक्त को प्रेस से बातचीत क्यों करनी पड़ी थी। ’’ 

दिल्ली दंगे : कोर्ट ने 4 लोगों को दी जमानत, कहा- उनकी नहीं है कोई सीसीटीवी फुटेज 

पीठ ने एआरजी आउटलायर मीडिया के वकील अशोक मुंदारगी की दलीलों पर जवाब देते हुए यह टिप्पणी की। अदालत रिपब्लिक टीवी चैनल का मालिकाना हक रखने वाली कंपनी एआरजी ऑउटलायर मीडिया प्राइवेट लिमिटेड और पत्रकार अर्णब गोस्वामी की याचिकाओं पर सुनवाई कर रही है। उन्होंने टीआरपी घोटाले की जांच सीबीआई या किसी अन्य स्वतंत्र एजेंसी को सौंपे जाने सहित अन्य राहत प्रदान करने का अदालत से अनुरोध किया है। 

उपराज्यपाल संबंधी विधेयक को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करेगी AAP

मुंदारगी ने उच्च न्यायालय से कहा कि पिछले साल अक्टूबर में संवाददाता सम्मेलन करने के पीछे पुलिस के दुर्भावनापूर्ण इरादे थे। उन्होंने दलील दी कि रिपब्लिक टीवी और इसके प्रधान संपादक अर्णब गोस्वामी के खिलाफ कोई सबूत नहीं हैं, लेकिन पुलिस उन्हें किसी ना किसी तरह से आरोपी के तौर पर नामजद करने की कोशिश कर रही है। मुंदारगी ने कहा, ‘‘पुलिस प्रेस को इस बारे में सहमत कर रही थी कि एक घोटाला हुआ है।’’ 

चिदंबरम ने दिया केजरीवाल सरकार का साथ, बोले- संशोधन विधेयक से एलजी बनेगा ‘वायसराय’

 

कुरान के मुद्दे पर वसीम रिजवी पर भड़के मुस्लिम संगठन, भाजपा भी गर्म

उन्होंने कहा कि पुलिस ने एआरजी आउटलायर मीडिया के कुछ कर्मचारियों को गिरफ्तार किया था और उन्हें अपनी रिमांड अर्जी में आरोपी के तौर पर नामजद किया था। उच्च न्यायालय मामले में अंतिम दलीलें सुनना बुधवार को भी जारी रखेगी।  हालांकि, आरोपपत्र में पुलिस ने टीवी चैनल और एआरजी आउटलायर मीडिया के कर्मचारियों को महज संदिग्ध आरोपी बताया था। मुंदारगी ने यह भी दलील दी कि कथित घोटाले की जांच कर रहे सचिन वाजे एक विवादित पुलिस अधिकारी हैं। वाजे को एक अन्य मामले में कथित संलिप्ता को लेकर निलंबित कर दिया गया है। 

दिल्ली महिला आयोग ने पूछा- किसी भी पुलिस थाने में महिला प्रभारी क्यों नहीं हैं?

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

comments

.
.
.
.
.