Tuesday, Jan 25, 2022
-->
high court instruction election commission election symbol chandrashekhar azad party rkdsnt

चंद्रशेखर आजाद की पार्टी के चुनाव चिन्ह को लेकर हाई कोर्ट ने दिया निर्वाचन आयोग को निर्देश

  • Updated on 12/3/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली उच्च न्यायालय ने बुधवार को चुनाव आयोग को निर्देश दिया कि वह पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए चंद्रशेखर आजाद के राजनीतिक दल को एक समान चुनाव चिन्ह आवंटित करे।     निर्वाचन आयोग ने अदालत में कहा कि यदि सभी पांच राज्यों में होने वाले चुनाव में भीम आर्मी प्रमुख की‘आजाद समाज पार्टी (कांशी राम)’को एक समान चुनाव चिन्ह आबंटित करने में कोई आपत्ति नहीं है बशर्ते सभी राज्यों में वह उपलब्ध हो और तीन राज्यों के लिए पहले आबंटित किया गया चिह्न वापस किया जाता है। 

सेंट्रल विस्टा: केंद्र ने कोर्ट को बताया - दिल्ली वक्फ की संपत्ति को कुछ नहीं हो रहा

इसके बाद जस्टिस प्रतीक जालान की एकल पीठ ने निर्वाचन आयोग को इस प्रकिया सुविधाजनक बनाने का निर्देश दिया।  आजाद की याचिका पर सुनवाई कर रहे न्यायाधीश ने कहा,‘‘आयोग याचिकाकर्ता को पांच राज्यों में से प्रत्येक में उपलब्ध चुनाव चिन्हों के बारे में सूचित करेगा और याचिकाकर्ता उनमें से किसी को भी चुन सकता है और उसे यह चिन्ह आवंटित किया जा सकता है। चुनाव आयोग को इस प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाने का निर्देश दिया जाता है।’’ 

पंजाब चुनाव से पहले अकाली दल को छोड़ BJP में शामिल हुए मनजिंदर सिंह सिरसा

आजाद की याचिका में उनके राजनीतिक संगठन के लिए एक समान चुनाव चिन्ह आबंटित करने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है। याचिका में कहा गया है कि उनकी पार्टी आगामी विधान सभा चुनावों में हिस्सा लेने जा रही है और जनता उनके चुनाव चिन्ह के बारे मे जानना चाहती है लेकिन एक समान चुनाव चिन्ह के अभाव में आजाद को ‘अपूर्णीय क्षति’ हो रही है। अदालत ने निर्वाचन आयोग से कहा,‘‘सुनिश्चित कीजिये कि उन्हें समान प्रतीक चिन्ह मिले। जो भी आपको लगे...जो भी सभी पांचों राज्यों में आपको उपलब्ध लगे, उन्हें दीजिये।‘‘ 

अखिलेश का संघ-भाजपा पर कटाक्ष, कहा- जिनके पास परिवार नहीं है, वे जनता का दर्द नहीं समझ सकते 

याचिकाकर्ता के वकील ने कहा कि एक समान चुनाव चिन्ह के आवंटन के लिए निर्वाचन आयोग से संपर्क करने से संबंधित पहले के एक आदेश के अनुसार उन्होंने आवेदन किए लेकिन अधिकारियों द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई।

एल्गार परिषद मामला : सुधा भारद्वाज को कोर्ट से मिली जमानत, 2018 से जेल में थीं बंद

निर्वाचन आयोग की ओर से अधिवक्ता सिद्धांत कुमार ने कहा कि आवेदनों के अनुसार, याचिकाकर्ता को तीन राज्यों - पंजाब, गोवा और मणिपुर के लिए एक समान चुनाव चिन्ह ‘हेलीकॉप्टर’ आवंटित किया गया है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के लिए आवेदन समय से पहले होने के कारण खारिज कर दिया गया था, जबकि उत्तराखंड के लिए भी वह चुनाव चिन्ह उपलब्ध नहीं था जिसकी मांग की गई थी।

ममता बोलीं- विपक्ष को दिशा दिखाने के लिए कमेटी गठित करने की राय कांग्रेस को दी थी

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.