Wednesday, Dec 08, 2021
-->
high court reprimanded delhi govt unable to give second dose of covaxin kmbsnt

कोवैक्सीन की दूसरी डोज देने में असमर्थ दिल्ली सरकार को हाईकोर्ट की फटकार

  • Updated on 6/2/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली में कोरोना वैक्सीन की कमी को लेकर आज यानी बुधवार को हाईकोर्ट ने केजरीवाल सरकार को फटकार लगाई है। सरकार से सख्त लहजे में सवाल पूछते हुए कोर्ट ने कहा कि आकिर जब कोवैक्सीन की इतनी कमी थी तो टीकाकरण केंद्र क्यों खोले गए?

कोर्ट ने कहा कि जब आप कोवैक्सीन की दूसरी खुराक उपलब्ध ही नहीं करा सकते तो इतने सारे वैक्सीनेशन सेंटर खोलने की क्या जरूरत थी। कोर्ट ने दिल्ली सरकार से सवाल किया कि क्या कोवैक्सीन की पहली खुराक लेने के बाद 6 सप्ताह की समय सीमा के भीतर आप लोगों को दूसरी खुराक मुहैया करा सकते हैं?

बिना परीक्षा के आएगा 12वीं का रिजल्ट, DU के वीसी ने बताया कैसे होगा दाखिला

दिल्ली सरकार को नोटिस जारी
न्यायमूर्ति रेखा पल्ली ने दिल्ली सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है कि क्या वो 6 सप्ताह की समय सीमा के भीतर कोवैक्सीन लेने वाले लोगों को इसकी दूसरी खुराक मुहैया करा सकते हैं? बता दें कि दिल्ली सरकार पहले ही ये ऐलान कर चुकी है कि कोवैक्सीन अब केवल उन्हीं लोगों को लगेगी जिन्हें इसकी दूसरी खुराक लेनी है। 

वहीं मंगलवार को हाईकोर्ट ने 18 से 44 वर्ष की आयु के युवाओं के वैक्सीनेशन मामले पर हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार को फटकार लगाई। साथ ही कहा कि 80 वर्ष के बुजुर्गों के बजाय हमें युवाओं को बचाना होगा  उनके ऊपर इस देश का भविष्य है।

'निजी स्कूलों का बढ़ी हुई फीस लेना गलत', HC के फैसले के खिलाफ अर्जी देगी केजरीवाल सरकार

युवाओं के लिए वैक्सीन की कमी पर केंद्र सरकार को HC की फटकार
कोर्ट ने कोरोना वायरस के खिलाफ केंद्र सरकार की टीकाकरण नीति पर सवाल उठाते हुए कहा कि यह संतोषजनक प्रणाली नहीं है। कोर्ट ने सुझाव दिया कि युवाओं को बचाया जाना चाहिए, क्योंकि वह देश का भविष्य हैं। कोर्ट ने कहा कि शुरुआत में 45 से 60 वर्ष का टीकाकरण शुरू किया गया था और अभी से 18 से 44 साल के युवाओं के लिए शुरू किया है, लेकिन देखा जा रहा है कि उनका टीकाकरण नहीं कर रहे हैं। 

कोर्ट ने कहा कि युवाओं के लिए वैक्सीन नहीं मिल रही है। न्यायाधीश विपिन सांघी और न्यायाधीश जसमीत सिंह की बेंच ने कहा कि यह सरकार का कर्तव्य है कि वह आगे का रास्ता तय करें। कोर्ट ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि यहां कोई वैक्सीन नहीं है ऐसे में इतनी गलत घोषणा कर दी गई।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.