Tuesday, Oct 04, 2022
-->
high court reserves verdict on ashish mishra bail plea

आशीष मिश्रा की जमानत याचिका पर उच्च न्यायालय ने फैसला सुरक्षित रखा

  • Updated on 7/15/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने लखीमपुर खीरी हिंसा में कथित रूप से शामिल केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा‘टेनी’के बेटे आशीष मिश्रा उर्फ मोनू की जमानत याचिका पर शुक्रवार को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया। पीठ ने आरोपी, राज्य सरकार एवं पीड़ित पक्ष की ओर से पेश तमाम दलीलों को सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रखा। यह फैसला न्यायमूर्ति कृष्ण पहल की एकल पीठ ने सुरक्षित रखा है।  

राज ठाकरे से मिलने के बाद फडणवीस बोले- महाराष्ट्र में कोई ‘सुपर सीएम’ नहीं

  •  

 

न्यायालय में डेढ घंटे से ज्यादा चली सुनवाई के दौरान अभियुक्त पक्ष की ओर से कहा गया कि अभियोजन कथानक के मुताबिक थार गाड़ी में आशीष मिश्रा मौजूद था और उसी ने ड्राइवर को भीड़ पर गाड़ी चढाने के लिए उकसाया। यह भी दलील दी गई कि घटनास्थल पर इतनी भीड़ थी, पुलिस के सायरन का शोर था और अभियोजन का कोई भी गवाह थार गाड़ी में मौजूद नहीं था, ऐसे में यह कैसे विश्वास किया जा सकता है कि अभियोजन के किसी गवाह ने अभियुक्त को अपने ड्राइवर को गाड़ी चढाने के लिए उकसाते हुए सुना हो।कहा गया कि वास्तव में घटना के वक्त आशीष मिश्रा दंगल में मौजूद था। यह भी दावा किया गया कि 197 स्थानीय लोगों ने बाकायदा शपथ पत्र देकर इस बात की पुष्टि जांच एजेंसी के समक्ष की है।  

कांग्रेस का कटाक्ष, कहा- प्रधानमंत्री मोदी रुपये के लिए हानिकारक हैं

गौरतलब हे कि अदालत ने 10 फरवरी 2022 के आशीष को जमानत दे दी थी किन्तु उच्चतम न्यायालय ने मंजूरशुदा जमानत खारिज करके सुनवाई वापस हाई कोर्ट भेजकर कहा था कि पीड़ित पक्ष को सुनवायी का पूरा अवसर देकर आषीष की जमानत अर्जी पर नये सिरे से आदेश पारित किया जाये। इसी के बाद से उच्च न्ययायालय मामले की नये सिरे से सुनवायी कर रहा है।  यह भी उल्लेखनीय है कि इस बीच नौ मई को उच्च न्यायालय ने इस मामले के चार सह आरोपियों-- लवकुश, अंकित दास, सुमित जायसवाल और शिशुपाल की जमानत अर्जी को यह कहकर खारिज कर दिया कि वे राजनीतिक रूप से बहुत पहुंचे हुए लोग हैं जो छूटने पर गवाहों को प्रभावित करने का प्रयास करेंगे।   

रुबैया सईद ने यासीन मलिक और 3 अन्य की पहचान अपने अपहरणकर्ताओं के रूप में की 

 

पिछले वर्ष तीन अक्टूबर को कृषि कानूनों के विरोध के दौरान चार किसानों की एक कार से कुचलकर मौत हो गई थी। यह घटना लखीमपुर खीरी के तिकोनिया गांव के निकट घटी थी। आरोप है कि काफिले में शामिल कारों में से एक कार में आशीष मिश्रा बैठा था। इसके बाद हुई हिंसा में दो भाजपा कार्यकर्ताओं और एक ड्राइवर की मौत हुई थी। एक पत्रकार भी इस हिंसा में मारा गया था।    उस दिन किसान उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के आगमन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। मौर्य अजय मिश्रा के पैतृक गांव बनबीरपुर जा रहे थे। 

लुलु मॉल में नमाज अदा करने के मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज 

comments

.
.
.
.
.