Wednesday, Jul 06, 2022
-->
high-court-seeks-response-from-cbi-on-chitra-ramakrishna-s-bail-plea

चित्रा रामकृष्ण की जमानत याचिका पर हाई कोर्ट ने CBI से मांगा जवाब 

  • Updated on 5/20/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  दिल्ली उच्च न्यायालय ने को-लोकेशन मामले में नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) की पूर्व प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी चित्रा रामकृष्ण की ओर से दायर जमानत याचिका पर शुक्रवार कोकेंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) से जवाब मांगा। न्यायमूर्ति सुधीर कुमार जैन ने जमानत याचिका पर नोटिस जारी किया और मामले को 31 मई को अगली सुनवाई के लिए सूचीबद्ध कर दिया।     

खट्टर से मिले कांग्रेस नेता कुलदीप बिश्नोई, अटकलों का बाजार गर्म

निचली अदालत ने 12 मई को एनएसई की पूर्व प्रमुख की जमानत याचिका खारिज कर दी थी और कहा था कि अभी जमानत दिए जाने का कोई आधार नहीं है। सीबीआई एनएसई के कंप्यूटर सर्वर से बड़ी संख्या में शेयर ब्रोकर को सूचना के कथित अनुचित प्रसार की जांच कर रही है। देश के सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंज में अनियमितताओं से जुड़े खुलासों के बीच मई 2018 में एक प्राथमिकी दर्ज की गई थी।     

सुप्रीम कोर्ट ने यौनकर्मियों को आधार कार्ड जारी किए जाने का दिया निर्देश

  •  

अदालत द्वारा रामकृष्ण की अग्रिम जमानत याचिका खारिज किए जाने के एक दिन बाद छह मार्च को सीबीआई ने उन्हें गिरफ्तार किया था। निचली अदालत ने सात दिन की सीबीआई हिरासत खत्म होने के बाद 14 मार्च को उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया था।निचली अदालत ने उन्हें जमानत देने से इनकार करते हुए नोबेल विजेता बॉब डायलन के साथ ही फ्रैंकेनस्टीन मॉन्स्टर (प्रख्यात उपन्यास ‘फ्रैंकेनस्टीन’ का काल्पनिक किरदार) का हवाला दिया था।अदालत ने कहा था कि विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) समेत पूरी वित्तीय दुनिया एनएसई के खुद को मजबूत करने का इंतजार कर रही है.....ताकि वे बड़ी संख्या में निवेश के लिए भारत आ सकें, जो वर्तमान में निवेश के लिए शानदार स्थान है।      

सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश नगर निकाय चुनाव में ओबीसी आरक्षण की दी इजाजत

विशेष न्यायाधीश संजीव अग्रवाल ने कहा था, ‘‘ऐसा प्रतीत होता है कि आरोपी रामकृष्ण प्रथम ²ष्टया एनएसई के मामलों को एक ‘निजी क्लब’ की तरह चला रही थीं। जैसा कि गायक, लेखक और नोबेल पुरस्कार विजेता बॉब डायलन ने एक बार कहा था ‘मनी डज नॉट टॉक, इट स्वेअर्स।’’ उन्होंने कहा, ‘यह 1964 में प्रर्दिशत संगीत एल्बम ‘इट््स ऑलराइट मा आई एम ओनली ब्लीडिंग ’ का एक गाना है, जिसका मतलब है कि पैसे का न केवल प्रभाव होता है, बल्कि इसका लोगों पर भी प्रतिकूल असर भी पड़ता है।’’  

‘अवसरवादी, बेईमान’ हार्दिक पिछले 6 साल से भाजपा के संपर्क में थे: कांग्रेस

    इससे पहले, भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने एनएसई, रामकृष्ण और रवि नारायण समेत दो अन्य अधिकारियों पर वरिष्ठ स्तर पर भर्ती में खामियों को लेकर जुर्माना लगाया था।नारायण 1994 से मार्च 2013 तक एनएसई के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी थे, जबकि रामकृष्ण ने अप्रैल 2013 से दिसंबर 2016 तक एनएसई का प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी पद संभाला था।

ज्ञानवापी विवाद : वाराणसी अदालत में अगली सुनवाई 23 मई को होगी

'


 

comments

.
.
.
.
.