Friday, Sep 17, 2021
-->
high court strict comment on punjab government sohsnt

पंजाब को HC की फटकार, कहा- सरकार कानून व्यवस्था संभालने में नाकाम

  • Updated on 10/29/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने कृषि कानूनों के विरोध में हो रहे किसान आंदोलनों के कारण रेल व सड़क मार्ग बंद किए जाने को लेकर पंजाब सरकार (Punjab Govt) को कड़ी फटकार लगाई है। इस मामले में दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश रवि शंकर झा की बेंच ने एक टिप्पणी करते हुए कहा कि 'अगर पंजाब सरकार कानून व्यवस्था संभालने में नाकाम साबित हो रही है, तो बता दे हम आदेश जारी कर लिख देंगे कि सरकार संविधान के अनुसार चलने में असफल है।

सीएम अमरिंदर सिंह के बेटे को ED ने किया तलब, कांग्रेस ने टाइमिंग पर उठाए सवाल

पंजाब सरकार को दिए ये निर्देश 
इसके साथ ही कोर्ट ने केंद्र और पंजाब सरकार को निर्देश दिया है कि वे इस मामले में जल्द से जल्द समाधान ढूंढे। इसके अलावा पंजाब सरकार को निर्देश जारी किया गया है कि वे अगली सुनवाई पर रेल और सड़क मार्ग खोलने के लिए की गई सारी कार्रवाई की जानकारी उपलब्ध कराएं। 

प्रधानमंत्री मोदी बोले- देश के हर नागरिक को मिलेगी कोरोना की वैक्सीन, नहीं छूटेगा कोई

केंद्र ने पंजाब सरकार को लेकर कही ये बात
वहीं दूसरी ओर केंद्र का पक्ष रख रहे एडिशनल सॉलिसिटर जनरल सत्यपाल जैन ने सुनवाई के दौरान कहा कि पंजाब सरकार एक तरफ जहां मालगाड़ी व अन्य यात्री वाहन न चलाए जाने को लेकर केंद्र पर आरोप लगा रही है, वहीं दूसरी ओर ट्रेक और सड़कें खाली कराने में नाकाम साबित हो रही है।

NHAI प्रोजेक्ट्स में देरी पर भड़के नितिन गडकरी, कहा- नाकाबिल अफसरों को बर्खास्त करना जरूरी

मामले की अगली सुनवाई 18 नवंबर को
जैन ने कहा कि ट्रेक व सड़कें खाली कराए जाने को लेकर पंजाब सरकार द्वारा कही गई बातों में कोई दम नहीं है क्योंकि कई जगहों पर अभी भी किसान सड़कें जाम कर बैठे हुए हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे में जब तक पंजाब सरकार ट्रेनों और रेल कर्मियों की सुरक्षा सुनिश्चित नहीं करती तब तक केंद्र रेलगाड़ियां नहीं चला सकती है। फिलहाल, इस मामले की अगली सुनवाई 18 नवंबर को होनी है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.