Tuesday, Apr 07, 2020
high-court-verdict-woman-cannot-seek-financial-relief-from-ex-husband-after-divorce

हाई कोर्ट का बड़ा फैसला, तलाक के बाद महिला पूर्व पति से नहीं कर सकती वित्तीय राहत की मांग

  • Updated on 1/3/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। गुजरात उच्च न्यायालय (Gujarat High Court) ने कहा है कि तलाक हो जाने के बाद कोई भी महिला अपने पूर्व पति से महिला घरेलू हिंसा संरक्षण अधिनियम के तहत वित्तीय राहत की मांग नहीं कर सकती है।

न्यायमूर्ति उमेश त्रिवेदी ने हाल ही में तलाक के 27 साल बाद पति के खिलाफ महिला की कार्यवाही को खारिज करते हुए यह व्यवस्था दी।

चुनाव से पहले बढ़ी BJP की मुश्किलें, मंत्री के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी

घरेलू हिंसा का था आरोप
अदालत ने कहा, पत्नी (इस कानून) के तहत तब तक पीड़ित होगी जब तक घरेलू संबंध बना रहेगा। जैसे ही यह टूट गया, घरेलू संबंध भी खत्म हो गया और तब वह पीड़ित नहीं होगी। अदालत ने याचिकाकर्ता कांजी परमार के खिलाफ महिला घरेलू हिंसा संरक्षण अधिनियम की धारा 19 और 20 के तहत कार्यवाही खारिज कर दी।

उसकी पूर्व पत्नी उर्मिलाबेन परमार ने वित्तीय राहत की मांग की थी। इस दंपत्ति की 1984 में शाद हुई थी और 1990 में उनके बीच तलाक हो गया था। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.