Wednesday, Dec 08, 2021
-->
High level meeting at PM Modi residence Shah and Rajnath also present rkdsnt

पीएम मोदी के आवास पर हाई लेवल मीटिंग, शाह और राजनाथ भी मौजूद

  • Updated on 6/29/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास पर उच्चस्तरीय बैठक जारी है। इस बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह  और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल शामिल हैं। यह बैठक जम्मू में भारतीय वायुसेना के बेस पर हुए ड्रोन हमले को लेकर हो रही है। बता दें कि भारतीय वायुसेना के बेस पर हुए ड्रोन हमले और बाद कुछ इलाकों में और भी ड्रोन देखे गए हैं। इस इलाके में सेना के कई बेस और कैंट इलाके हैं। 

मायावती बोलीं- भाजपा, कांग्रेस और समाजवादी पार्टी एक ही थैली के चट्टे-बट्टे

हमले के पीछे लश्कर का हाथ होने का संदेह: डीजीपी 
उधर, जम्मू में रविवार तड़के भारतीय वायु सेना के केंद्र पर ड्रोन हमले के पीछे प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का हाथ होने का संदेह है और संकेत मिले हैं कि ड्रोन सीमापार से आये। एक शीर्ष पुलिस अधिकारी ने मंगलवार को यह बात कही। जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने ‘पीटीआई भाषा’ से कहा कि हमले के पीछे पाकिस्तान के प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का हाथ होने का संदेह है। 

SBI हर महीने 4 मुफ्त लेन-देन से ज्यादा नकद निकासी पर लगाएगा शुल्क

जम्मू हवाईअड्डे के परिसर में स्थित वायु सेना के स्टेशन पर रविवार को दो ड्रोनों से विस्फोटक सामग्री गिराई गयी जिससे दो कर्मी घायल हो गये। माना जा रहा है कि विस्फोटक में आरडीएक्स समेत अलग-अलग विस्फोटक सामग्री मिलाई गयी। मामले की जांच मंगलवार को राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) को सौंप दी गयी। गृह मंत्रालय ने भारतीय वायु सेना के स्टेशन पर अपनी तरह के पहले आतंकवादी हमले की जांच एनआईए को सौंपने का फैसला लिया।       हालात और जांच पर नजर रख रहे 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी सिंह ने कहा कि इस बात की पूरी संभावना है कि मानवरहित वायुयान (ड्रोन) सीमापार से उड़कर आए हों और अपने काम को अंजाम देने के बाद लौट गये हों। 

राम मंदिर जमीन खरीद प्रकरण: चंपत राय समेत 9 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराएंगे AAP सांसद 

सिंह ने कहा, ‘‘हम अभी मामले की जांच कर रहे हैं और हमें जो भी जानकारी मिलती है उसे अन्य सुरक्षा एजेंसियों को मुहैया कराएंगे।’’ पुलिस ने जम्मू और पड़ोस के इलाकों में सिलसिलेवार छापे मारे लेकिन कोई ठोस सुराग नहीं जुटा पाई। डीजीपी ने कहा कि ड्रोन के सीमापार से आने का संदेह है लेकिन हम अभी जांच कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस ने महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों को आतंकवादी संगठनों से नये खतरे के बारे में अवगत करा दिया है। सभी एहतियाती कदम उठाये गये हैं। सिंह ने कहा कि जनता को जम्मू कश्मीर में ड्रोनों का अनधिकृत इस्तेमाल नहीं करने के संबंध में आम चेतावनी जारी कर दी गयी है। ऐसा होने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। 

केजरीवाल ने पंजाब चुनाव जीतने के लिए दिल्ली की तर्ज पर किया मुफ्त बिजली का वादा

comments

.
.
.
.
.