Tuesday, Jul 23, 2019

हिमाचल का पानी बुझाएगा डीडीए कॉलोनीवासियों की प्यास

  • Updated on 7/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। डीडीए (DDA) ने अपनी नई कॉलोनियों (New colonies) के लिए पानी किल्लत दूर करने का नया रास्ता खोज लिया है। दिल्ली जल बोर्ड (Delhi Jal Board) से कई बार बातचीत करने के बावजूद पानी समस्या में राहत न मिलने के बाद आखिरकार यह योजना बनाई गई है कि डीडीए की नई बनने वाली कॉलोनियों के लोगों की प्यास हिमाचल (Himachal) का पानी बुझाएगा।

इस योजना को मूर्त रूप देने के लिए वीरवार को हिमाचल व केंद्र एवं दिल्ली सरकार, दिल्ली जल बोर्ड और डीडीए के बीच करार भी हुआ। बताया जाता है कि डीडीए अपनी नई कॉलोनियों को मिलने वाली पानी के बदले हिमाचल सरकार को नए भवन के लिए द्वारका में जमीन उपलब्ध कराएगा। फिलहाल डीडीए वीसी तरुण कपूर  ने अपनी ओर से इसके लिए मंजूरी भी दी दे दी है। 

10 महीने में 4 हजार नई बसों को सड़कों पर उतारेगी सरकार

रेणुका डैम बनेगा डीडीए कॉलोनियों का तारणहार
दरअसल पिछले दिनों केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने तय कर दिया था कि रेणुका डैम के जरिये दिल्ली, हरियाणा, यूपी, राजस्थान व उत्तराखंड राज्यों में पानी समस्या को दूर करने का प्रयास किया जाएगा। इसके लिए बजट राशि भी निर्धारित की गई है। इसी कड़ी में अब यह कवायद आरंभ की गई है। 

डीडीए देगा हिमाचल भवन के लिए जमीन
दरअसल अर्से से दिल्ली जल बोर्ड के साथ डीडीए अपनी आवासीय कॉलोनियों में पानी किल्लत को लेकर बैठकें करता रहा है। यहां तक कि पिछले दिनों एलजी अनिल बैजल ने भी हस्तक्षेप करते हुए लोगों के लिए पेश आने वाली पानी समस्या के उचित निदान को कहा था। डीडीए के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, वीरवार को हिमाचल सरकार ने पानी देने के बदले नए भवन के लिए जमीन की मांग की है, जिस पर सहमति हो गई है।

Morning Bulletin: सिर्फ एक क्लिक में पढ़ें, अभी तक की बड़ी खबरें

हिमाचल से मिलने वाला पानी दिल्ली जलबोर्ड के जरिये डीडीए की कॉलोनियों को मिलेगा। डीडीए के अनुसार हिमाचल के साथ हुए करार के अनुसार डीडीए की नई कॉलोनियों में निश्चित रूप से पानी मिल सके, इसके लिए डीडीए ने जल बोर्ड को पहले से ही अपनी जरूरत बता दी है। इसी अनुपात में हिमाचल से आने वाले पानी का एक बड़ा हिस्सा डीडीए को मिलेगा। बदले में डीडीए ने द्वारका में हिमाचल को नए भवन के लिए जमीन आवंटित करने पर अपनी स्वीकृति दी है। हिमाचल सरकार से इसके लिए प्रोजेक्ट डिटेल मांगी गई है। इसी आधार पर तय होगा कि  द्वारका में किस स्थान पर हिमाचल भवन को कितनी जमीन, किस रेट पर दी जाएगी। 

World Cup: हर कोई धोनी नहीं हो सकता, जो पूरा कर दे 'भगवान' का सपना

मौजूदा समय में जलबोर्ड दे रहा पानी

  • रोजाना दिल्ली को करीब 1200 एमजीडी (मिलियन गैलन पर डे) पानी की आवश्यकता होती है। गर्मियों में यह बढ़कर 1400-1500 एमजीडी अथवा उससे अधिक भी हो जाती है। 
  • जलबोर्ड के पास उपलब्ध है 1000 एमजीडी पानी
  • जलबोर्ड के अनुसार प्रति व्यक्ति रोजाना करीब 35 लीटर पानी की खपत करता है
  • इसमें पेयजल, सफाई, नहाना व अन्य दैनिक कार्य शामिल है
  • डीडीए की नई कॉलोनियों तथा लैंड पूलिंग में बनने वाले मकानों में करीब 60 लाख से अधिक लोगों के रहने का अनुमान है।
  • विशेषज्ञों के अनुसार नई कॉलोनियां बनने के बाद लगभग 21,00,00,000 लीटर पानी की रोजाना आवश्यकता का अनुमान है

यह होगा मार्ग
योजना के अनुसार दिल्ली में हिमाचल में तैयार होने वाली रेणुका डैम में पानी स्टोर करके उसे हरियाणा के रास्ते हथिनी कुंड बैराज से वजीराबाद तक और यूपी, हरियाणा, राजस्थान से ओखला बैराज से इस्तेमाल किया जाएगा। प्रोजेक्ट पर करीब 4596.76 करोड़ रुपए लागत का अनुमान लगाया गया था। इसमें अधिकांश राशि केंद्र वहन करेगा। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.